दीपावली पर खाते में ज्यादा आएगा पैसा:कर्मचारियों को पौने 7 हजार रुपए से ज्यादा नहीं मिलेगा बोनस; पीएफ खाते में भी जमा होगा

जयपुर4 महीने पहले

राजस्थान सरकार ने राजस्थान के सरकारी कर्मचारियों को दीपावली के मौके पर बोनस देने का फैसला लिया है। सीएम अशोक गहलोत के इस फैसले से प्रदेश के करीब 6 लाख कर्मचारियों को फायदा होगा। बोनस का यह पैसा गजेटेज अधिकारियों को छोड़कर बाकी राज्य कर्मचारियों को दिया जाएगा। जो कर्मचारी राजस्थान सिविल सेवा नियम, 2017 के पे-मैट्रिक्स लेवल- 12 या ग्रेड पे- 4800 और इससे नीचे के लेवल की तनख्वाह ले रहे हैं। उन सभी को बोनस मिलेगा।

पंचायत समिति, जिला परिषद के कर्मचारियों और कार्य प्रभारित कर्मचारियों को भी बोनस दिया जाएगा। बोनस की कैलकुलेशन साल 2021-22 के लिए अधिकतम पर्क्स 7000 रुपए और 31 दिन के महीने के आधार पर की जाएगी। यह बोनस 30 दिन के पीरियड के लिए दिया जाएगा।

हर कर्मचारी को अधिकतम 6774 रुपए बोनस का पैसा मिलेगा। इसमें 75 प्रतिशत पैसा कैश दिया जाएगा और 25 प्रतिशत जीपीएफ खाते में जमा किया जाएगा। राजस्थान सरकार पर इस बोनस का 500 करोड़ रुपए वित्तीय भार आएगा।

पिछले साल भी दिया था दिवाली बोनस

गहलोत सरकार ने करीब 6 लाख कर्मचारियों को पिछले साल भी दिवाली पर बोनस दिया था। उस दौरान भी गजटेड अफसरों को छोड़कर पे-मैट्रिक्स लेवल-12 या ग्रेड पे- 4800 और इससे नीचे के लेवल का वेतन ले रहे कर्मचारियों को 6774 रुपए तक का बोनस दिया दिया।

लेकिन साल 2021 की दिवाली पर बोनस का 50 फीसदी पैसा नकद और 50 प्रतिशत पैसा कर्मचारियों के GPF खाते में जमा किया गया था। इस बार 75 फीसदी नकद दिया जाएगा और 25 फीसदी जीपीएफ में जमा होगा।

केंद्र सरकार के बोनस पाने वालों में ग्रुप C और ग्रुप B कैटेगरी के कर्मचारी शामिल हैं। जो नॉन गजेटेड हैं और किसी प्रोडक्टिविटी लिंक्ड बोनस स्कीम में नहीं आते हैं। सेंट्रल पैरामिलिट्री फोर्सेज के कर्मचारियों के साथ टेंपरेरी वर्कर्स को भी बोनस मिलेगा।
केंद्र सरकार के बोनस पाने वालों में ग्रुप C और ग्रुप B कैटेगरी के कर्मचारी शामिल हैं। जो नॉन गजेटेड हैं और किसी प्रोडक्टिविटी लिंक्ड बोनस स्कीम में नहीं आते हैं। सेंट्रल पैरामिलिट्री फोर्सेज के कर्मचारियों के साथ टेंपरेरी वर्कर्स को भी बोनस मिलेगा।

केंद्र के बाद गहलोत सरकार ने लिया फैसला

पिछले दिनों केंद्र सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों को दिवाली पर बोनस देने की घोषणा की है। वित्त मंत्रालय ने केंद्रीय कर्मचारियों को नॉन-प्रोडक्टिविटी लिंक्ड बोनस (एड हॉक बोनस) देने का फैसला लिया है। जिसमें 30 दिन की सैलरी के आधार पर कर्मचारियों को पैसा दिया जाएगा।

कर्मचारियों की औसत सैलरी, कैल्कुलेशन की हायर लिमिट के मुताबिक जो भी कम हो, उस आधार पर बोनस जोड़ा जाता है। 30 दिनों का मासिक बोनस करीब एक महीने की सैलरी के बराबर होगा। अगर किसी कर्मी को 7000 रुपए मिल रहे हैं, तो उसका 30 दिनों का बोनस लगभग 6908 रुपए होगा।

इसमें कैलकुलेशन के हिसाब से 7000x30/30.4= 6907.89 रुपए (6908 रुपए) बोनस मिलेगा। इस बोनस का फायदा उन केंद्रीय कर्मचारियों को मिलेगा, जो 31 मार्च 2021 को सर्विस में हैं। साल 2020-21 के दौरान कम से कम 6 महीने तक रेग्युलर ड्यूटी की है।

एडहॉक बेसिस पर नियुक्त अस्थायी कर्मचारियों को भी ये बोनस मिलेगा। जो कर्मचारी 31 मार्च 2022 या उससे पहले सर्विस से बाहर हो गए, जिन्होंने रिजाइन कर दिया या रिटायर्ड हो गए हैं, उन्हें स्पेशल केस मानकर बोनस दिया जाएगा।

रेलवे कर्मचारियों को 78 दिन का बोनस

केंद्र सरकार ने रेलवे कर्मचारियों को भी दिवाली बोनस देने का फैसला लिया है। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने सभी पात्र नॉन गजेटेड रेलवे एम्पलॉइज को 78 दिनों की सैलेरी के बराबर प्रोडक्टिविटी लिंक्ड बोनस देने की मंजूरी दी है। इसमें RPF/RPSF कर्मचारी शामिल नहीं हैं। केंद्र के इस फैसले से 11 लाख 27 हजार कर्मचारियों को 1 लाख 8 हजार 32 करोड़ का परफॉर्मेंस लिंक बोनस दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें-

गहलोत ने खड़गे के लिए तोड़ा प्रोटोकॉल:कांग्रेस की गाइडलाइन के खिलाफ जाकर मांगे अध्यक्ष पद के लिए वोट; थरूर का ऐतराज

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कांग्रेस अध्यक्ष पद के प्रत्याशी मल्लिकार्जुन खड़गे के लिए पार्टी का प्रोटोकॉल तोड़ा है। कांग्रेस के केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण की गाइडलाइन के मुताबिक वह किसी भी प्रत्याशी का खुलकर समर्थन नहीं कर सकते हैं, इसके बावजूद गहलोत ने खड़गे के लिए वोट मांगे। (पूरी खबर पढ़ें)

खबरें और भी हैं...