पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Corona Freed District Collector Indrajit Singh Did Plasma Donate, More Than A Hundred People Have Lost Their Lives So Far

जोधपुर:कोरोना मुक्त हुए जिला कलेक्टर इंद्रजीत सिंह ने किया प्लाज्मा डोनेट, शहर में अब तक 100 से अधिक लोग गंवा चुके है जान

जोधपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जोधपुर में शुक्रवार को प्लाज्मा डोनेट करते जिला कलेक्टर इंद्रजीत सिंह।
  • जिला कलेक्टर से पहले 48 लोग कर चुके है प्लाज्मा डोनेट

जिले में कोरोना के बढ़ते मामले और 100 से अधिक संक्रमित लोगों की मौत के बीच जिला कलेक्टर इंद्रजीत सिंह ने शुक्रवार को पहल करते हुए प्लाज्मा डोनेट किया, ताकि किसी मरीज की जान बचाई जा सके। इंद्रजीत सिंह कुछ दिन पूर्व कोरोना संक्रमित हो गए थे। जोधपुर में जिला कलेक्टर से पहले 48 लोग अपना प्लाज्मा डोनेट कर चुके हैं।

जोधपुर में गुरुवार काे 140 काेराेना पाॅजिटिव मिले, एक दिन बाद फिर एक कोरोना संक्रमित मरीज की मौत हुई। वहीं 144 मरीजों को स्वस्थ हाेने पर डिस्चार्ज भी किया गया। गुरुवार को 2,243 टेस्टिंग में 140 पॉजिटिव के साथ पॉजिटिव की दर 6.24 % हो गई। जोधपुर में अब तक 7,623 संक्रमित मिल चुके हैं। प्रशासन ने बढ़ते संक्रमण को देखते हुए दो दिन लॉकडाउन की घाेषणा की है।

जोधपुर में पदभार ग्रहण करने के कुछ दिन के भीतर ही जिला कलेक्टर की आईएएस अधिकारी पत्नी व बेटी कोरोना संक्रमित हो गए थे। इसके बाद इंद्रजीत सिंह भी संक्रमित पाए गए। अब पूरी तरह से ठीक होने के बाद उन्होंने प्लाज्मा डोनेट कर पहल की है। ताकि उनसे प्रेरित होकर अन्य लोग भी कोरोना से मुक्त होने के बाद अपना प्लाज्मा डोनेट करने आगे आ सके।

कोरोना के इलाज में कारगर है प्लाज्मा थैरेपी
कोरोना संकट के इस दौर में लोगों के बीच प्लाज्मा थेरेपी नाम खासा चर्चित हुआ है। एक तरफ जहां समूचा विश्व कोरोना का इलाज ढूंढने में लगा है, वहीं प्लाज्मा थेरेपी एक उम्मीद के रूप में सामने आ रही है। हालांकि, इसे लेकर मेडिकल कम्युनिटी पूरी तरह आश्वस्त नहीं है, लेकिन शुरुआती दौर में इसने एक राह तो दिखलाई ही है।

इसका पूरा नाम कॉन्वालेसंट प्लाज्मा थेरेपी
सिर्फ भारत ही नहीं, बल्कि अमेरिका में अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने कोरोना से लड़कर ठीक हुए मरीजों से प्लाज्मा दान करने की अपील की है। इससे पहले चीन में फरवरी से ही इस मेथड के माध्यम से इलाज किया जा रहा है। ऐसा नहीं है कि सिर्फ कोरोना में ही प्लाज्मा थेरेपी का उपयोग किया गया है, बल्कि इससे पहले इबोला वायरस से मुकाबले के लिए भी प्लाज्मा थेरेपी इस्तेमाल में लाई गई थी।

कैसे काम करती है प्लाज्मा तकनीक
प्लाज्मा हमारे खून का पीला तरल हिस्सा होता है, जिसके जरिए सेल्स और प्रोटीन शरीर की विभिन्न कोशिकाओं तक पहुंचते हैं। आप यह समझ लें कि हमारे शरीर में जो खून मौजूद होता है उसका 55 प्रतिशत से अधिक हिस्सा प्लाज्मा का ही होता है। प्लाज्मा के बारे में यह जान लेना उचित रहेगा कि अगर कोई व्यक्ति किसी बीमारी से ठीक हुआ रहता है और अपना प्लाज्मा डोनेट करता है, तो इससे डोनेट करने वाले व्यक्ति को किसी प्रकार का कोई नुकसान नहीं होता है। किसी प्रकार की कोई कमजोरी नहीं होती है। इसमें जो लोग अपना प्लाज्मा डोनेट करते हैं, उनके प्लाज्मा को दूसरे मरीजों से ट्रांसफ्यूजन के माध्यम इंजेक्ट करके इलाज किया जाता है।

इस तकनीक में एंटीबॉडी का इस्तेमाल होता है, जो किसी भी व्यक्ति के बॉडी में किसी वायरस या बैक्टीरिया के खिलाफ बनता है। इसी एंटीबॉडी को मरीज के शरीर में डाला जाता है। ऐसे में एक मेथड से जो व्यक्ति ठीक हुआ रहता है, ठीक वही मेथड दूसरे मरीज पर कार्य करता है और दूसरा मरीज भी ठीक होने लगता है।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- लाभदायक समय है। किसी भी कार्य तथा मेहनत का पूरा-पूरा फल मिलेगा। फोन कॉल के माध्यम से कोई महत्वपूर्ण सूचना मिलने की संभावना है। मार्केटिंग व मीडिया से संबंधित कार्यों पर ही अपना पूरा ध्यान कें...

और पढ़ें