गैस सिलेंडरों में धमाकों की कहानी, ड्राइवर की जुबानी:450 सिलेंडर लदे ट्रक पर बिजली गिरते ही जोर का झटका लगा, डीजल टैंक में आग लगते ही बम की तरह सिलेंडर फटने लगे

भीलवाड़ा10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हादसे में घायल ड्राइवर सरताज को इंफेक्शन की आशंका के चलते आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट कर दिया है। - Dainik Bhaskar
हादसे में घायल ड्राइवर सरताज को इंफेक्शन की आशंका के चलते आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट कर दिया है।
  • ड्राइवर ने पिता से पूरी घटना की आपबीती साझा की, जिसे पिता ने भास्कर को बताया
  • रात में पिता ने बेटे से बात की थी, बाद में इंफेक्शन की आशंका के चलते ड्राइवर को अलग वार्ड में शिफ्ट कर दिया

भीलवाड़ा में मंगलवार रात को 450 गैस सिलेंडर से लदे ट्रक पर बिजली गिर गई। बिजली गिरते ही झटका लगा और ड्राइवर की हड़बड़ाहट में गाड़ी डिवाइडर पर चढ़कर पलट गई। इसके बाद एक के बाद एक करीब ढाई घंटे तक सिलेंडर में धमाके होते रहे। हादसे में ट्रक ड्राइवर सरताज घायल है। वह भीलवाड़ा का ही रहने वाला है। खबर मिलते ही सरताज के पिता अस्पताल पहुंच गए। बेटे ने पिता को पूरी घटना की आपबीती साझा की। जिन्होंने भास्कर को पूरी कहानी बताई...

ड्राइवर सरताज के पिता चंदाराम ने बताया कि उनका बेटा नसीराबाद से ट्रक लेकर झालावाड़​​​​​ जा रहा था। उसमें 450 सिलेंडर भरे थे। नसीराबाद में कंपनी का बड़ा स्टेशन है। जहां से सरताज 450 सिलेंडर लेकर निकला था। वह हनुमान नगर के पास टिकड़ गांव पहुंचा ही था कि मौसम खराब हो गया और बारिश होने लगी। इसी दौरान अचानक ट्रक पर बिजली गिर गई।

450 सिलेंडर भरे ट्रक पर बिजली गिरी:राजस्थान के भीलवाड़ा में ढाई घंटे तक हुए धमाके, 1 किमी दूर तक गए सिलेंडर के टुकड़े

मौके पर पहुंची गैस एजेंसी की टीम।
मौके पर पहुंची गैस एजेंसी की टीम।

बिजली गिरने से झटका लगा और घबरा गया सरताज
अचानक बिजली गिरने की वजह से ट्रक चला रहे सरताज को भी झटका लगा। इससे वो डर गया और उसका ध्यान सड़क से हट गया। इस दौरान ट्रक हाइवे के डिवाइडर पर चढ़कर पलट गया। ट्रक के पलटते ही डीजल की टंकी में आग लग गई। जो देखते ही देखते पूरे ट्रक में फैल गई।

जान बचाने के लिए खेतों की तरफ दौड़ा
पिता चंदाराम ने बताया कि उनका बेटा किसी तरह ट्रक से बाहर निकला और खेतों की तरफ दौड़ गया। इस दौरान आग की लपटें उठती देश कुछ और लोग भी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने सरताज को तुरंत अस्पताल के लिए रवाना कर दिया। वहीं, ट्रक में लगी आग धीरे-धीरे फैलते हुए सिलेंडरों तक जा पहुंची। इसके बाद एक-एक करके सिलेंडर फटने शुरू हो गए। घायल ड्राइवर के पिता चंदाराम ने बताया कि वो भीलवाड़ा जिले के बिलेठा गांव के ही रहने वाले हैं। देररात घटना की जानकारी मिलने पर अस्पताल पहुंचे। जहां बेटे ने उन्हें घटना के बारे में जानकारी दी।

घरों में गिरे गैस सिलेंडरों के टुकड़े।
घरों में गिरे गैस सिलेंडरों के टुकड़े।

ड्राइवर के हाथ और पैर जले
पिता ने बताया कि हादसे में बेटे के हाथ और पैर बुरी तरह जल गए। जिसे डॉक्टरों ने फिलहाल आइसोलेशन में रखा है। रात तक सरताज ही हालत ठीक थी। इसी दौरान बेटे ने पिता को पूरी घटना की आपबीती बताई। हालांकि, सुबह सरताज को इन्फेक्शन फैलने के डर से आइसोलेशन वार्ड में एडमिट कर दिया गया है। वहां उसे किसी से मिलने नहीं दिया जा रहा है। डॉक्टर उसकी हालत पर नजर बनाए हैं।

5 किमी दूर तक दिखीं लपटें:जयपुर-काेटा हाईवे पर हनुमान नगर के पास रात 8 बजे भभका ट्रक, घरों खेताें तक उड़े सिलेंडराें के परखच्चे

हाइवे के आसपास जगह-जगह बिखरे हैं सिलेंडर के टुकड़े।
हाइवे के आसपास जगह-जगह बिखरे हैं सिलेंडर के टुकड़े।

(रिपोर्ट- अनिल शर्मा, हनुमान नगर)

खबरें और भी हैं...