भास्कर एक्सक्लूसिवट्विटर पर नैना का रिकॉर्ड, कोहली-अमिताभ भी नहीं तोड़ सकते:16 साल में 1.76 लाख ट्वीट, अकाउंट खोला- तब नाम था TWTTR

जयपुर3 महीने पहलेलेखक: वैभव माथुर

अगर पूछा जाए ट्विटर के पहले भारतीय CEO का नाम क्या है तो ज्यादातर लोग बता देंगे…पराग अग्रवाल

अब दूसरा सवाल… ट्विटर पर अकाउंट खोलने वाले पहले इंडियन का नाम क्या है?

शायद ज्यादातर लोग इस सवाल का जवाब नहीं दे पाएंगे, क्योंकि इसका कोई ऑफिशियल रिकॉर्ड नहीं है

सवाल का जवाब जानने के लिए छोटा सा किस्सा पढ़िए...

साल था 2006। ये ऑरकुट और ब्लॉगिंग का दौर था। ट्विटर ऑफिशियली लॉन्च नहीं हुआ था। ऑफिशियल लॉन्च से 2 दिन पहले 13 जुलाई को एक लड़की के पास TWTTR (ट्विटर प्रोजेक्ट का कोड नेम) से ईमेल आता है, एक नया प्लेटफॉर्म जॉइन करने के लिए। लड़की प्लेटफॉर्म जॉइन कर लेती है और बन जाती है ऑशिफिशियल लॉन्च से पहले पहली इंडियन ट्विटर यूजर। उस लड़की का नाम है नैना रेढ़ू, जो फिलहाल जैसलमेर के होटल में काम कर रही हैं।

नैना 16 साल से ट्विटर पर एक्टिव हैं और उनके पास भी ब्लूटिक है, जिसे लेकर इन दिनों हल्ला मचा हुआ है। ट्विटर के नए मालिक एलन मस्क ने कह दिया है- ब्लू टिक चाहिए तो महीने के 8 डॉलर यानी करीब 650 रुपए देने पड़ेंगे।

भास्कर ने नैना से बात की और जाना कि 16 साल में ट्विटर कितना बदल गया। उनसे वो सवाल भी पूछा जो सबसे ज्यादा चर्चा में है- क्या आप ब्लू टिक के लिए ट्विटर को 650 रुपए देंगी।

पढ़िए पूरा इंटरव्यू…

सवाल : आपने ट्विटर कैसे जॉइन किया, कैसे पता चला कि ट्विटर जैसी भी कोई चीज है?

जवाब : मैं साल 2004 से इंटरनेट पर एक्टिव थी। ब्लॉगिंग करती थी। ऑरकुट-फेसबुक सहित जो भी नए प्लेटफॉर्म आए उनसे जुड़ी। चूंकि मैं बहुत ज्यादा एक्टिव थी, इसी दौरान TWTTR से मेरे पास सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से जुड़ने का इन्विटेशन आया, जो मैंने एक्सेप्ट कर दिया। तब मुझे पता नहीं था ये इतना बड़ा प्लेटफॉर्म बन जाएगा।

सवाल : आपके बायो में कहीं भी जिक्र नहीं है कि आप ट्विटर यूज करने वाली पहली इंडियन हैं, इसकी कोई खास वजह?

जवाब : ये कोई ऐसी चीज नहीं है, जिसके लिए मैंने मेहनत की। ये तो तुक्के में हो गया। मुझे नहीं लगता कि ये मेंशन करने लायक चीज है। इसके बजाय मैं जो काम करती हूं, उससे आइडेंटिफाई होना ज्यादा पसंद करती हूं।

सवाल : ट्विटर के बाद दोबारा किसी नए प्लेटफाॅर्म पर नंबर 1 बनने की कोशिश नहीं की?

जवाब : मैंने तो ट्विटर पर भी ये कोशिश नहीं की, बाय चांस हो गया था। उन दिनों जो भी नए प्लेटफॉर्म आए, जो मुझे थोड़े भी इंटरेस्टिंग लगे तो मैंने ज्वॉइन कर लिया। किसी भी प्लेटफॉर्म की पहली यूजर का तमगा हासिल करने की कोई ख्वाहिश नहीं थी।

सवाल : ब्लू टिक के लिए पैसे न देने की खास वजह?

जवाब : पिछले कुछ सालों में ब्लू टिक का मतलब बदल गया है। शुरुआत में ये फेमस लोगों के लिए था, ताकि लोग अकाउंट देकर पहचान कर सकें। अब ये स्टेटस सिंबल और ईगो का सवाल बन गया है। लगता है ब्लू टिक है तो ठीक, नहीं है तो न सही।

सवाल : आप ट्विटर पर अकेली इंडियन थीं, वो एक्सपीरियंस कैसा था?

जवाब : 2006 में मैं मुंबई में नौकरी करती थी। उस वक्त ट्विटर पर सिर्फ वो लोग थे, जो ट्विटर में नौकरी करते थे। वो लोग आपस में ही एक दूसरे को मैसेज करते थे, चलो कॉफी पीकर आएं। तब मैं सोचती थी- मैं किसे मैसेज करूं, क्योंकि उस वक्त परिचित तो दूर कोई इंडियन भी ट्विटर पर नहीं था। इसी वजह से अकाउंट तो बन गया, लेकिन मैंने एक साल तक ट्विटर यूज ही नहीं किया, क्योंकि कोई था ही नहीं, जिससे बात कर सकें।

सवाल : क्या 16 साल में ट्विटर बदल गया है?

जवाब : बहुत ज्यादा बदल गया है। पहले जब आप कोई काम की बात कर रहे हो तो लोग जवाब देते थे, हेल्प करते थे, जिनसे शायद जिंदगी में मिलने की संभावना नहीं थी। किताबें शेयर करते थे। वो चीज अच्छी थी। अब ऐसा नहीं है। बहुत ज्यादा पॉलिटिसाइज हो गया है। कुछ भी बोलो तो आपके ऊपर आ जाते हैं। मैं अब कम यूज करती हूं।

सवाल : आज के ट्विटर को लेकर क्या सोचती हैं?

जवाब : अब पहले जैसी बात नहीं रही। फ्री स्पीच का मतलब ये नहीं है कि आप कुछ भी बोल दें और उसकी जवाबदेही न हो। लोग नकली नाम और फोटो के पीछे छिपकर कुछ भी बोल देते हैं। मुझे तो लगता है कि फ्री स्पीच मजाक ही बनकर रह गया है।

​​​​​सवाल : कोई फीचर्स जो आप बदलना चाहती हों?

जवाब : बदलना तो नहीं चाहती लेकिन मुझे लगता है कि मैं ही नहीं बहुत सारे यूजर्स चाहते हैं कि ट्वीट एडिट करने का ऑप्शन होना चाहिए। मान लीजिए आपने कोई ट्वीट किया और उसमें कोई स्पेलिंग मिस्टेस हो गई तो उसे ठीक करने की सुविधा तो होनी ही चाहिए। हालांकि अब सुनने में आ रहा है कि एडिट बटन को लेकर कुछ लोगों के साथ टेस्टिंग चल रही है।

सवाल : इतने साल बाद भी आपके सिर्फ 22 हजार ही फॉलोअर्स क्यों, जबकि रणवीर सिंह और गुल पनाग जैसे सेलिब्रिटीज आपको फॉलो करते हैं ?

जवाब : मुझे फॉलोअर के नाम पर नंबर्स बढ़ाने में कभी भी इंटरेस्ट नहीं रहा। मुझे ऐसे लोगों से जुड़ना था, जिनके साथ मैंने काम किया हो, जिनसे बात कर सकती हूं। वरना फॉलोअर्स तो खरीदे भी जा सकते हैं। मैंने ट्विटर, इंस्टाग्राम या फेसबुक भी फॉलोअर्स के लिए नहीं, अपना काम शेयर करने के लिए जॉइन किया था। मेरे हिसाब से क्वालिटी ऑफ फॉलोअर्स ज्यादा जरूरी है, बजाय के क्वांटिटी ऑफ फॉलोअर्स।

सवाल : अपनी लाइफ और करिअर के बारे में बताइए?

जवाब : अभी जैसलमेर के एक होटल में काम कर रही हूं। इसके अलावा 18 साल से फोटोग्राफर और ब्लॉगर हूं। पापा आर्मी में थे तो देश के अलग-अलग हिस्सों में रही हूं। वैसे मेरे मम्मी-पापा हरियाणा से हैं। हम दो बहनें हैं। छोटी बहन भी ब्लॉगर है।

बॉलीवुड एक्ट्रेस गुल पनाग के साथ नैना। ये तस्वीर साल 2017 की जब दोनों गूगल के प्रोडक्ट लॉन्च के इवेंट में सान फ्रांसिस्को में थे।
बॉलीवुड एक्ट्रेस गुल पनाग के साथ नैना। ये तस्वीर साल 2017 की जब दोनों गूगल के प्रोडक्ट लॉन्च के इवेंट में सान फ्रांसिस्को में थे।
एक मिलियन का मतलब 10 लाख फॉलोअर्स। उदाहरण के तौर पर प्रधानमंत्री मोदी को 84 मिलियन लोग फॉलो करते हैं, यानी 8.4 करोड़ लोग उनसे जुड़े हुए हैं।
एक मिलियन का मतलब 10 लाख फॉलोअर्स। उदाहरण के तौर पर प्रधानमंत्री मोदी को 84 मिलियन लोग फॉलो करते हैं, यानी 8.4 करोड़ लोग उनसे जुड़े हुए हैं।

ग्राफिक्स : तरुण शर्मा

ये भी पढ़ें-

अजमेर के रहने वाले हैं ट्विटर के नए CEO:किराए पर रहता था परिवार, 4 दिसंबर को घर आएंगे पराग के मम्मी-पापा

ट्विटर के सीईओ रहे पराग अग्रवाल राजस्थान के अजमेर में जन्मे हैं। पराग के माता-पिता और दादा-दादी किराए के मकान में धानमंडी और खजाना गली में रहते थे। पराग के पिता की जॉब के चलते वे मुंबई शिफ्ट हुए और वहीं रहने लगे। ट्विटर के सीईओ जैक डोर्सी ने इस्तीफे के बाद कंपनी ने पराग अग्रवाल को सीईओ बनाया है। पराग और उनका परिवार मूलत: राजस्थान का रहने वाला है। (पूरी खबर पढ़ें)