सिस्टम में संक्रमण या कुयोग?:आरयूएचएस में डेढ़ घंटे में 6 कोरोना मरीजों की मौत परिजन बोले- ऑक्सीजन सप्लाई रुकने से दम तोड़ा

जयपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
आरयूएचएस का आईसीयू वार्ड। - Dainik Bhaskar
आरयूएचएस का आईसीयू वार्ड।
  • बुधवार रात 2 से 3:30 बजे के बीच 6 मौतें, ऑक्सीजन सप्लाई बाधित होने से परिजनों की रात में नोंकझोंक
  • अस्पताल का दावा; ऑक्सीजन सप्लाई सुचारू है, इसके कारण मौतें नहीं हुईं

प्रदेश के सबसे बड़े कोविड सेंटर आरयूएचएस (राजस्थान यूनिवर्सिटी ऑफ हैल्थ साइंस) में बुधवार देर रात (करीब 2 से 3:30 बजे) ऑक्सीजन सप्लाई बाधित होने से मरीजों की मौत का चौंकाने वाला मामला सामने आया है। डेढ़ घंटे में 6 मरीजों की मौत हुई, जिनमें चार की मौत रात तीन बजे एक ही समय होना बताया गया है।

परिजनों का आरोप है कि रात में ऑक्सीजन सप्लाई बाधित होने सेे वार्ड में हंगामा भी हुआ था। उधर, प्रतापनगर पुलिस की ओर से अस्पताल में तैनात एक हैड कांस्टेबल भी हंगामे की जानकारी मिलने पर वार्ड में पहुंचे थे। लेकिन तब तक मामला शांत हो गया था। सोशल मीडिया पर यह खबर वायरल होने के बाद आरयूएचएस के कोविड इंचार्ज ने गुरुवार सुबह ही लिखित में कहा कि सेंटर में ऐसी कोई सप्लाई बाधित नहीं हुई और सब कुछ सुचारू है।

सच जानने के लिए भास्कर ने उन मरीजों की लिस्ट निकाली, जो इस समय के बीच काल का गास बने। भास्कर रिपोर्टर ने इन मृतकों के परिजनों से बात की। परिजनों ने कहा कि- अस्पताल में ऑक्सीजन सप्लाई बाधित हुई थी। अस्पताल के स्टाफ से कई परिजनों की नोंक-झोंक भी हुई थी। लेकिन प्रशासन इसे दबाने में लगा है।

केस-1; रात 1 बजे हंसते-हंसते चाय पी, 3 बजे मौत की खबर
जयपुर में बापूनगर निवासी 69 साल के बुजुर्ग दो सप्ताह पहले कोरोना पॉजिटिव पाए जाने पर आरयूएचएच में भर्ती कराए गए थे। बुधवार रात करीब 1 बजे हंसते-हंसते उन्होंने चाय पी। रात 3.18 बजे हमें उनकी मौत की सूचना दी गई। वार्ड में ऑक्सीजन सप्लाई रुकने से मौत होने को लेकर परिजन हंगामा कर रहे थे।

केस-2; डॉक्टर से मौत की वजह पूछी तो हमें कुछ भी नहीं बताया
टोंक के ईश्वर 25 नवंबर को आरयूएचएस में भर्ती कराए गए थे। परिजन रामलाल ने बताया-26 की देर रात 2.30 बजे उन्हें मृत घोषित कर दिया। पूछने पर कुछ नहीं बताया। हां, डॉक्टर आपस में ऑक्सीजन सप्लाई रुकने की बात कर रहे थे।

केस-3; अस्पताल वाले व्यवस्था सुधारने की जगह धमका रहे थे
आगरा के पवन को 25 नवंबर को यहां भर्ती कराया गया। 26 नवंबर सुबह 2.45 बजे डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। परिजन मोनू ने बताया कि हमें सुबह 7 बजे बताया गया। अस्पताल वाले व्यवस्था सुधारने की जगह परिजनों काे धमका रहे।

केस-4; ये अस्पताल नहीं, मौत का कुंआ है, हमारी सुनते ही नहीं
चूरू की वर्षा को सांस लेने में तकलीफ होने पर 10 नवंबर को आरयूएचएस में भर्ती कराया। बुधवार रात 3.20 बजे उन्हें मृत घोषित कर दिया। परिजन छगनलाल ने बताया कि ऑक्सीजन सप्लाई रुकने से मौत होने की बातें चल रही थीं।

...और अस्पताल का ये जवाब- ऑक्सीजन सप्लाई बाधित होने की बात गलत है
^अस्पताल में ऑक्सीजन सप्लाई बाधित होने की बात गलत है। ऑक्सीजन पर्याप्त है और सप्लाई सुचारू है। हर स्तर पर प्रेशर की मॉनिटरिंग हो रही है। मरीजों काे कोई परेशानी नहीं हुई। -डॉ. अजीत सिंह, कोविड इंचार्ज, आरयूएचएस

यही गति रही तो 10 दिसंबर तक 3 लाख पार होंगे मरीज
राजस्थान में कोरोना ने विस्फोटक चाल अख्तियार कर ली है। पिछले सात दिन से कोरोना रौद्र रूप दिखा रहा है। गुरुवार को भी 3180 नए संक्रमित मिले और कुल संक्रमितों की संख्या 2,56,947 हो गई। लगातार छठवें दिन 3000 से ज्यादा नए रोगी मिले। इसी गति से संक्रमण चला तो 10 दिसंबर तक राजस्थान में कोरोना संक्रमित 3 लाख के पार चले जाएंगे। सबसे चिंताजनक स्थिति एक्टिव केस में दिख रही है। पहली बार पिछले 6 दिन में राजस्थान में एक्टिव केस प्रतिदिन 1000 से भी ज्यादा की गति से उछाल ले रहे हैं।

जयपुर में फिर रिकॉर्ड 630 संक्रमित मिले...
सर्वाधिक रोगी जयपुर में 630, जोधपुर में 517 अजमेर में 200, अलवर में 152, भीलवाड़ा में 108, बीकानेर में 127 कोटा में 260 और उदयपुर में 132 नए मरीज मिले।

खबरें और भी हैं...