• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • First Bank Of The State Where All Women From Cashier To Manager… Account Is Also Only For Women

एक बैंक ऐसा भी:प्रदेश का पहला ऐसा बैंक जहां कैशियर से मैनेजर तक सब महिलाएं...खाता भी सिर्फ महिलाओं का

डूंगरपुर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
8 मार्च, 2001 काे हुई थी महिला बैंक की शुरुआत। - Dainik Bhaskar
8 मार्च, 2001 काे हुई थी महिला बैंक की शुरुआत।
  • महिलाओं को 1 हजार से 1 लाख तक का लोन महज एक घंटे में
  • सबसे बड़ा फायदा...बचत खातों पर 8.25% तक ब्याज

जिले से 35 किमी दूर बरबाेदनिया ग्राम पंचायत में एक ऐसा मिनी बैंक है, जहां सभी व्यवस्थाएं महिलाएं ही संभालती हैं, कैशियर, मैनेजर, अध्यक्ष पद पर महिलाएं काम कर रही हैं। इस बैंक में पुरुष के लिए काेई काम नहीं है। इस कारण समिति के सदस्यों और खातों में पुरुषों का नाम नहीं है। इस बैंक काे महिलाएं ही संभालती हैं। इस कारण इसे मिनी महिला बैंक के नाम से जाना जाता है। इसकी शुरुआत 8 मार्च, 2001 काे हुई थी।

धीरे-धीरे महिलाओं का समूह जुड़ता चला गया। यहां 620 आरडी खाते हैं। इसके अलावा 371 महिलाओं ने फिक्स डिपॉजिट भी करा रखे हैं। बैंक की अब तक कुल 1 कराेड़ से अधिक की राशि सागवाड़ा और डूंगरपुर के राष्ट्रीयकृत बैंक में जमा है।

सबसे बड़ा फायदा...बचत खातों पर 8.25% तक ब्याज
इस बैंक में 601 महिलाओं का बचत खाता है। इस पर अधिकतम 8.25% ब्याज मिलता है। इसके पीछे मुख्य कारण लाेन लेने वाली महिलाओं से 15% ब्याज लेना है। करीब 250 से 300 महिलाओं ने 10 से 50 हजार तक का लाेन ले रखा है। इसी लाभांश काे बचत खाते में 8.25% के हिसाब से देते हैं।

खबरें और भी हैं...