• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Gehlot Said I Am Proud To Be The Chief Minister Of Rajasthan, Sacrificed From House To House Here

गहलोत बोले-गर्व है मैं राजस्थान का मुख्यमंत्री हूँ:यहां के घर-घर से त्याग-बलिदान,CDS रावत और शहीद सैनिकों को अमर-जवान-ज्योति पर श्रद्धांजलि

जयपुर7 महीने पहले
गहलोत बोले-गर्व है मैं राजस्थान का मुख्यमंत्री हूँ

सेना के चॉपर हेलीकॉप्टर दुर्घटना में दिवंगत हुए सीडीएस बिपिन रावत और सेना के अधिकारियों-सैनिकों को जयपुर में अमर जवान ज्योति स्मारक पर श्रद्धांजलि दी गई।मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ ही सरकार के मंत्रियों और तीनों सेनाओं के उच्च अधिकारियों ने सैन्य सम्मान के साथ दिवंगतों के चित्र पर श्रद्धांजलि अर्पित की। गहलोत ने कहा मुझे गर्व है कि मैं राजस्थान का मुख्यमंत्री हूँ।

सलामी देते मुख्यमंत्री अशोक गहलोत।
सलामी देते मुख्यमंत्री अशोक गहलोत।

CDS बिपिन रावत और शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सुबह 10.30 बजे अमर जवान ज्योति पहुंचकर दिवंगत सैनिकों को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान शहीदों के सम्मान में सेना के बैंड और सशस्त्र सलामी से माहौल गूंज उठा। मुख्यमंत्री ने जनरल बिपिन रावत और सभी हेलीकॉप्टर दुर्घटना में निधन होने वाले सभी शहीदों को नमन किया। गहलोत के साथ ही मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास,शकुंतला रावत,सुभाष गर्ग,रमेश मीणा,ममता भूपेश और सेना के जीओसी,लेफ्टीनेंट जनरल,पूर्व सैन्य अधिकारियों ने भी श्रद्धांजलि दी।

शरीदों की याद में सेना की डायरी में नोट लिखते मुख्यमंत्री।
शरीदों की याद में सेना की डायरी में नोट लिखते मुख्यमंत्री।

पूरा देश इन शहीदों के परिवारों के साथ

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि देश वासियों में इस दुर्घटना से शोक की लहर है। जनरल रावत का सेना में बड़ा लम्बा अनुभव था। देश इस घटना को कभी नहीं भूल पाएगा। पूरा देश इन शहीदों के परिवारों के साथ है। राजस्थान के भी दो सेना के अधिकारी शहीद हुए हैं,लेकिन सीमाओं पर शहीद होने वाले सैनिक किसी प्रदेश के नहीं देश के होते हैं। इससे पूरा देश दुखी होता है।

राजस्थान के घर-घर से बलिदान,गर्व है मैं राजस्थान का CM हूँ

गहलोत ने कहा राजस्थान को गर्व है कि राजस्थान के घर-घर में ऐसे जवान हैं, जो देश की सीमाओं की रक्षा करते हैं। मैं ऐसे प्रदेश का मुख्यमंत्री हूँ जिसके घर-घर से जवान देश के लिए त्याग-बलिदान करने की भावना रखते हैं। देश की रक्षा करते हुए राजस्थान से कितने ही शहीद हुए हैं। करगिल युद्ध और उसके बाद भी बड़ी संख्या में यहां के जवान शहीद हुए हैं। करगिल युद्ध के दौरान 55-56 शहीदों के घर मैं खुद गया था। गहलोत ने कहा कि मुझे मालूम है, उनके परिवार में कितना जज्बा है। एक तरफ उनकी बॉडी आती है,दूसरी तरफ उनके मां-बाप,दादा-दादी कहते हैं कि हम अपने दूसरे बच्चे को सेना में भेजने के लिए तैयार हैं। मैंने यह जज्बा देखा है इस बात का मुझे गर्व है।