• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Heavy Rain Fall In Jaipur All The Claims Of The Smart City Failed, People Said Government Is Closed In The Hotel, We Are In Trouble

बारिश से बेहाल जयपुर की ग्राउंड रिपोर्ट:जयपुर डूब गया, सरकार विश्वास मत हासिल करने में लगी रही, स्मार्ट सिटी के दावों की भी खुली पोल

जयपुरएक वर्ष पहलेलेखक: विष्णु शर्मा
  • कॉपी लिंक
जयपुर में हुई मूसलाधार बारिश की वजह से दिल्ली हाइवे पर गणेशपुरी कच्ची बस्ती में मिट्‌टी में दब गए घर और वाहन। - Dainik Bhaskar
जयपुर में हुई मूसलाधार बारिश की वजह से दिल्ली हाइवे पर गणेशपुरी कच्ची बस्ती में मिट्‌टी में दब गए घर और वाहन।
  • मौसम विभाग ने दी थी चेतावनी, लेकिन सोता रहा जिला प्रशासन, नगर निगम, जेडीए व आपदा राहत विभाग
  • सरकारी विभागों क जिम्मे छोड़ा बारिश से बेहाल जयपुर को, न मुख्यमंत्री न कोई मंत्री ने बारिश का जिक्र किया

राजधानी जयपुर में भारी बारिश आम लोगों पर कहर बनकर टूटी। कुछ ही घंटों में शहर का ज्यादातर हिस्सा जलमग्न हो गया। पानी के तेज बहाव में फंसकर 4 लोग की जान चली गई। कई वाहन पानी में बह गए। सैंकड़ों कच्चे घर ढह गए हैं। बारिश रुकने के बाद कुछ इलाकों में जलस्तर कम हुआ तो वहां दर्जनों वाहन मलबे में दबे मिले। भास्कर टीम ने ग्राउंड रिपोर्ट पर उतरकर बारिश के कहर को देखा। वहां मौजूद लोगों से बातचीत की।

गणेशपुरी बस्ती में वाहन बहकर एक दूसरे पर चढ़ गए, कचरे से ढक गए
गणेशपुरी बस्ती में वाहन बहकर एक दूसरे पर चढ़ गए, कचरे से ढक गए

जयपुर दिल्ली हाइवे पर लालडूंगरी मीणा पेट्रोल पंप के पीछे स्थित गणेशपुरी कच्ची बस्ती में मिट्‌टी का टीला ढहने से करीब 50 से ज्यादा घरों में मलबा इकट्‌ठा हो गया था। घरों के मुख्य दरवाजों तक मिट्‌टी से दबे थे। लोगों ने बताया कि काफी देर तक प्रशासन की कोई राहत टीम उनकी तक नहीं पहुंची। घरों में पानी भरा होने के कारण कई परिवारों को दूसरी जगह शरण लेनी पड़ी।

बारिश के पानी के साथ मिट्टी भी घरों के अंदर पहुंची।
बारिश के पानी के साथ मिट्टी भी घरों के अंदर पहुंची।

घाट गेट की मालती देवी ने बताया कि शहर के नालों की सफाई के नाम पर खानापूरी की जाती है। हल्की बारिश में ही नाले सड़कों पर बहने लगते हैं। तेज बारिश होने की चेतावनी के बाद भी कोई इंतजाम नहीं किया गए। पूरी सरकार और अधिकारी राजनीतिक खेल में व्यस्त रहे।

मिट्टी बहने से गाड़ियां क्षतिग्रस्त हुईं।
मिट्टी बहने से गाड़ियां क्षतिग्रस्त हुईं।

जौहरी बाजार के रहने वाले विकास भी यही बात कहते हैं। मौसम विभाग ने पहले ही जयपुर में भारी बारिश की चेतावनी जारी कर दी थी। लेकिन जिला प्रशासन, नगर निगम, जेडीए और आपदा एवं राहत बचाव दल के अधिकारी बेपरवाह रहे। मंत्री भी विश्वास मत हासिल करने में लगे रहे। सरकार तो होटल से चल रही थी। किसी ने ठोस राहत के कार्य नहीं किए। इससे पूरी बस्ती जलमग्न हो गई। कच्चे घरों में रहने वाले तमाम लोगों के घर ढह गए। इससे कई परिवार बेघर हो गए। भाजपा नेता अशोक परनामी ने ऐसे कई इलाकों में पहुंचे। उन्होंने सरकार पर बदइंतजामी के आरोप लगाए।

घर से पानी बाहर निकालने की कोशिश करते रहे लोग।
घर से पानी बाहर निकालने की कोशिश करते रहे लोग।

लोगों ने सामुदायिक केंद्रों में आसरा लिया स्थानीय संगठनों की मदद से उनके रहने और खाने की व्यवस्था सामुदायिक केंद्र में की गई। लोगों का आरोप था कि सरकार के होटल में बंद होने से सरकारी नुमाइंदे बेपरवाह रहे। नतीजा यह कि आज बारिश ने कहर बरपाया।