राजस्थान के मंदिरों में जन्माष्टमी कल:नाथद्वारा में होटल-धर्मशाला फुल, जयपुर के 3 मंदिरों में दोपहर 12 बजे महोत्सव

जयपुर4 महीने पहले
कोरोना के 2 साल बाद इस बार जन्माष्टमी पर होंगे श्याम के होंगे साक्षात दर्शन।

राजस्थान में जन्माष्टमी को लेकर तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। इधर, जन्माष्टमी पर्व को लेकर दो अलग-अलग डेट को लेकर कंफ्यूजन है। कई लोग 18 को तो कई 19 अगस्त को जन्माष्टमी का पर्व मना रहे हैं। लेकिन, राजस्थान के बड़े मंदिरों जन्माष्टमी महोत्सव 19 अगस्त को मनाया जाएगा।

इसको लेकर प्रदेश के प्रमुख मंदिरों में कृष्ण जन्मोत्सव और जन्माष्टमी की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं। जयपुर के गोविंददेवजी मंदिर, राधा दामोदर मंदिर, लाड़ली जी का मंदिर, अक्षय पात्र कृष्ण बलराम मंदिर और इस्कॉन मंदिरों में तैयारियां तेज हो गई हैं।

श्रीनाथजी मंदिर, नाथद्वारा।
श्रीनाथजी मंदिर, नाथद्वारा।

गोविंददेवजी मंदिर में 31 तोपों की सलामी के साथ जन्मोत्सव मनाया जाएगा। नाथद्वारा के श्रीनाथजी मंदिर, जैसलमेर के गिरधारी और बांके बिहारी मंदिर, कोटा के राधा कृष्ण मंदिर, चित्तौड़गढ़ के सांवलिया सेठ मंदिर, जोधपुर के श्याम मनोहर प्रभु मंदिर और बालकृष्ण लाल मंदिर, कुंजबिहारी मंदिर, नागौर के बंशीवाला और मीरा मंदिर, उदयपुर के जगदीश मंदिर में जन्माष्टमी पर्व को लेकर लोग कृष्ण भक्ति में डूबने लगे हैं। कृष्ण जन्मोत्सव आने का उल्लास अभी से लोगों के चेहरे पर दिखाई दे रहा है। नाथद्वारा में 5 धर्मशाला, 150 होटल, टेम्पल बोर्ड के 5 कॉटेज सारे फुल हैं।

जयपुर के गोविंददेवजी मंदिर में जन्माष्टमी पर ये रहेंगी व्यवस्थाएं
जयपुर के गोविंद देवजी मंदिर में 19 अगस्त को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर सुबह 4.30 बजे मंगला आरती होगी। रात 12 बजे तिथि पूजन और 31 तोपों की सलामी के साथ ठाकुरजी का जन्माभिषेक होगा। जन्माभिषेक में 425 लीटर दूध, 365 लीटर दही, 11 किलो घी, 85 किलो बूरा, 11 किलो शहद से जन्माभिषेक होगा। सालिगराम पूजन और पंचामृत अभिषिक होगा। 6 पंडित वेदपाठ करेंगे।

ठाकुरजी को विशेष भोग में पंजीरी के लड्डू, खीर-रबड़ी का भोग लगाया जाएगा। रात को 11 बजे श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की व्रत कथा शुरू हो जाएगी। मंदिर परिसर और बाहर 1100 स्वयंसेवक दर्शन और व्यवस्थाएं संभालेंगे। 13 LED स्क्रीन और 3 प्लाज्मा टीवी पर LIVE दर्शन की व्यवस्था भी की जा रही है।

पुलिस प्रशासन के साथ निजी सिक्योरिटी गार्ड्स भी तैनात रहेंगे। 10 मेटल डिटेक्टर से मंदिर में श्रद्धालुओं को एंट्री दी जाएगी। खाटूश्यामजी मंदिर इलाके में हादसे से सबक लेते हुए मंदिर प्रशासन ने बीमार और बहुत ज्यादा बुजुर्ग, गर्भवती महिलाओं और बच्चों को मंदिर में नहीं आने की अपील की है।

जयपुर के तीन मंदिरों में दोपहर 12 बजे मनेगा जन्मोत्सव

  • अक्षय पात्र मंदिर,जगतपुरा,जयपुर- दोपहर 12 बजे, 19 अगस्त
  • राधा दामोदर मंदिर,चौड़ा रास्ता,जयपुर- दोपहर 12 बजे, 19 अगस्त
  • लाड़ली जी का मंदिर,रामगंज, जयपुर- दोपहर 12 बजे, 19 अगस्त

जन्माष्टमी पर यह रहेगा श्री गोविंददेवजी मंदिर में प्रोग्राम

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर 19 अगस्त को जयपुर शहर के आराध्य गोविंदेदवजी मंदिर में कृष्ण जन्मोत्सव मनाया जाएगा। सुबह 4.30 बजे मंगला आरती कर ठाकुर जी की आराधना की जाएगी। सुबह 7.30 बजे धूप आरती होगी। रात 12 बजे से 12.30 बजे तक तिथि पूजन और जन्म अभिषेक होगा। रात 12 बजे तिथि पूजन होगा। 31 तोपों की सलामी के साथ श्रीकृष्ण जन्माभिषेक किया जाएगा।

दो साल बाद निकलेगी शोभायात्रा, गोविंददेवजी में तैयारियां
दो साल बाद जयपुर में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की भव्य शोभायात्रा निकलेगी। 20 अगस्त को सुबह 9.15 से 10 बजे तक नंदोत्सव के तहत श्रृंगार झांकी निकाली जाएगी। शाम को शोभायात्रा निकाली जाएगी।

गोविंददेवजी से पुरानी बस्ती स्थित मंदिरश्री गोपीनाथजी तक निकलने वाली शोभायात्रा में श्रद्धालु उमड़ेंगे। शहर के आराध्य देव नगर भ्रमण पर निकलेंगे। 2 साल कोरोना पीरियड के कारण मंदिरों में भक्तों के लिए पट बंद रहे थे।

जन्माष्टमी पर ठाकुरजी के ऑनलाइन दर्शन करवाए गए थे। जयपुर के आराध्य गोविंद देवजी मंदिर में इस बार भक्त लड्डू गोपाल का अभिषेक, प्राकट्योत्सव जन्मोत्सव, नए वस्त्र धारण करवाने और पूजा अर्चना आरती के साक्षात दर्शन कर सकेंगे।

बड़े कृष्ण मंदिरों से LIVE दर्शन: भास्कर ऐप पर भगवान के जन्म की झांकी, अनसुनी कहानियां