• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • In April – May, 60% Of People Infected Are Up To 40 Years Of Age; Only 12% Of 60+, If Not Vaccinated, Third Wave Too Heavy On This Age Group

कोरोना की दूसरी लहर बच्चों और युवाओं के लिए घातक:अप्रैल-मई में हुए संक्रमितों में 59% मरीज 40 साल तक की उम्र वाले, इनमें 20 साल से कम आयु के 13575 लोग; 60+ वाले सिर्फ 12%

जयपुर6 महीने पहलेलेखक: दिनेश पालीवाल
  • कॉपी लिंक

जयपुर में कोरोना की दूसरी लहर सबसे ज्यादा बच्चों और युवाओं के लिए घातक साबित हो रही है। अप्रैल-मई में अब तक जयपुर में जितने भी केस आए हैं, उसमें से 59 फीसदी से ज्यादा 40 साल तक की उम्र के हैं। जबकि इससे पहले नवंबर-दिसंबर में आई पहली लहर में इस एज ग्रुप के लोगों की संख्या 45 फीसदी थी। डराने वाली बात ये है कि इस बार 20 साल से कम आयु वाले भी संक्रमण की चपेट में ज्यादा आए हैं। CMHO जयपुर से मिली रिपोर्ट के मुताबिक जयपुर में मई के शुरुआती 24 दिन में 7258 और पूरे अप्रैल में 6317 बच्चे कोरोना से संक्रमित हुए हैं।

तीसरी लहर सितंबर-अक्टूबर तक आने की आशंका विशेषज्ञों ने जताई है। कुछ विशेषज्ञ इस तीसरी लहर को बच्चों के लिए ज्यादा घातक मान रहे हैं। क्योंकि इस समय तक 18 साल तक की उम्र के बच्चों का वैक्सीनेशन शुरू नहीं हुआ है और आने वाले 3-4 माह में इसके शुरू होने के कोई आसार भी नजर नहीं आ रहे हैं।

बुजुर्ग रहे सुरक्षित, कम संक्रमित हुए

60 से ज्यादा उम्र के लोगों का वैक्सीनेशन एक मार्च से प्रदेश में शुरू हो गया था। अप्रैल में दूसरी लहर के आने तक राज्य के इस एज ग्रुप के 42 फीसदी लोगों को वैक्सीन की पहली डोज लग गई थी। इसी का परिणाम रहा कि दूसरी लहर में इस एज ग्रुप के लोग भी कम संक्रमित हुए। नवंबर-दिसंबर में इस एज ग्रुप के करीब 23 फीसदी लोग संक्रमित हुए थे, जो अप्रैल-मई में दूसरी लहर में 12 फीसदी तक ही रह गए।

कम उम्र के बच्चों में भी फैल रहा है संक्रमण

कोरोना अप्रैल से ज्यादा मई के महीने में बच्चों को अधिक प्रभावित कर रहा है। विशेषज्ञों की माने तो इसके पीछे कारण परिवार के ही लोग है। परिवार में कई लोग ऐसे भी है जो संक्रमित तो हो गए, लेकिन उनमें संक्रमण जैसे कोई लक्षण नहीं दिखे और उन्हीं से बच्चे भी संक्रमित हो गए।

यूथ सबसे ज्यादा पॉजिटिव हुए

जयपुर में दूसरी लहर में सबसे ज्यादा प्रभावित यूथ (21 से 40 उम्र के) पॉजिटिव हुए है। जयपुर में अप्रैल-मई में जितने भी संक्रमण के केस मिले है उनमें करीब 48 फीसदी इसी एज ग्रुप के है। कोरोना की पहली लहर नवंबर-दिसंबर में आए कुल केस में इस एज ग्रुप के 37 फीसदी लोग थे।

यूं हुए प्रभावित

एज ग्रुपमई 21अप्रैल 21दिसंबर 20नवंबर 20
0-2010.5%11.4%7.2%7.8%
21-4049.3%48%37.1%38.2%
41-6028.4%28.3%32.7%33.5%
60+11.7%12.1%22.9%20.3%
खबरें और भी हैं...