पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Intelligence Agencies Alert After Large Consignment Of Fake Notes From Pakistan, ATS Team Also Reached For Investigation

बाड़मेर:पाकिस्तान से आई नकली नोटों की बड़ी खेप के बाद खुफिया एजेंसिया सतर्क, जांच के लिए एटीएस की टीम भी पहुंची

जोधपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बाड़मेर में नकली नोट के साथ पकड़ा गया अकबर खान।
  • नकली नोटों की सप्लाई को लेकर पाक तस्कर रोशन खान एक बार फिर चर्चा में

सीमा पर सारी सुरक्षा व्यवस्था को धता बताकर पाकिस्तान से बाड़मेर में आई नकली नोटों की बड़ी खेप के बाद खुफिया एजेंसियां सतर्क हो गई है। नकली नोटों के भारतीय सीमा में पहुंचने के तरीकों से लेकर इसके नेटवर्क का पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है। शुक्रवार को जयपुर से एटीएस की विशेष टीम भी जांच के लिए बाड़मेर पहुंच चुकी है। बाड़मेर पुलिस की 6 टीमें पहले से इसके तार जोड़ने में जुटी है।

करीब छह साल बाद बाड़मेर जिला नकली नोटों की तस्करी से फिर सुर्खियों में आ चुका है। बॉर्डर से सटे बाखासर इलाके में मिली करीब 6.55 लाख रुपए के 500-500 के नकली नोटों की खेप ने कई सवाल खड़े कर दिए हैं। जबकि डेढ़ लाख रुपए के नकली नोट बाजार में चला भी दिए गए। बाड़मेर में नकली नोटों की खेप में पकड़े गए आरोपियों से अब तक की हुई पूछताछ में पाक तस्कर रोशन खां का नाम सामने आया है। पाक तस्कर रोशन खां ने ही पाक आईएसआई की मदद से नकली नोटों की खेप भारत-पाक के नवा तला तारबंदी इलाके से भारत में रह रहे पराड़िया निवासी अकबर खां के लिए सावर खान को सप्लाई की थी।

पाक तस्कर रोशन खान का नाम फिर सुर्खियों में
वर्ष 2014 के बाद एक बार फिर पाक तस्कर रोशन खान का नाम सुर्खियों में है। पाक तस्कर इससे पूर्व भी 2014 में नकली नोट, हेरोइन की तस्करी में भी लिप्त रहा है। पराड़िया निवासी अकबर खान का रिश्तेदार भी है। ऐसे में अकबर और रोशन खां के बीच नकली नोटों की खेप को लेकर बातचीत भी होती रही है। हिरासत में लिए गए आरोपियों से पूछताछ में हुए खुलासे के बाद अब पुलिस पूरे मामले की जांच पड़ताल में जुट गई है। छह टीमें गठित कर अलग-अलग जगह दबिश देने के अलावा पूरे मामले की जांच में जुटी हुई है।

बाड़मेर में छह साल बाद आई नकली नोटों की खेप
बाड़मेर में वर्ष 2014 में बॉर्डर पार से पाक तस्कर रोशन खां ने नबिया व अन्य तस्करों को नकली नोट, हेरोइन तस्करी की चार बार खेप पहुंचाई थी। काफी दिनों तक मामला गर्माया था और करीब दो दर्जन आरोपियों की गिरफ्तारी हुई थी। इसके बाद अब एक बार फिर बाड़मेर नकली नोटों की तस्करी से सुर्खियों में है। पुराने पाक तस्कर रोशन खान से तार जुड़े होने की जानकारी मिल रही है। बॉर्डर पार से नकली नोटों की तस्करी में बॉर्डर से सटे गांवाें के ही कुछ तस्कर सक्रिय है।

असली नोटों के साथ चलाते थे नकली नोट, डेढ़ लाख चला भी दिए

अकबर व सावर खान से हुई पुलिस पूछताछ में सामने आया है कि ये तस्कर पाक से आई नकली नोटों की खेप को असली नोटों के साथ मिक्स करके चलाते थे। ग्रामीण क्षेत्रों के भोले-भाले लोगों को असली के रूप में नोट दे देते थे। हालांकि नकली नोट भी दिखने में असली जैसे ही थे, पेपर देख कर पहचान करना मुश्किल था।

बीएसएफ की मिलीभगत के बगैर बॉर्डर पार से तस्करी संभव नहीं

2014 में इसी बॉर्डर पर तैनात बीएसएफ हवालदार प्रेमसिंह की गिरफ्तारी देशद्रोह जैसे मामलों में हुई थी, इसके बाद अब बीएसएफ खुद सवालों के घेरे में है। बाड़मेर बॉर्डर सालों से तस्करी का अड्डा रहा है, सरूपे का तला से भभूते की ढाणी के बीच के बॉर्डर इलाके से पिछले वर्षों में कई तस्करी के मामले सामने चुके हैं। पूर्व में भी बीएसएफ जवानों की तस्करी के मामले में गिरफ्तारी हुई थी, ऐसे में अब यह भी अंदेशा लगाया जा रहा है कि बीएसएफ जवानों की मिलीभगत के बगैर बॉर्डर पार से नकली नोटों की तस्करी संभव नहीं है।

6 टीमें कर रही है जांच, एटीएस भी पहुंची
नकली नोट प्रकरण को लेकर जयपुर मुख्यालय से आई एटीएस की टीम अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ओपी उज्ज्वल के नेतृत्व में बाड़मेर पहुंच चुकी है। यह टीम अपने स्तर पर जांच शुरू करेगी। बाड़मेर के पुलिस अधीक्षक आनंद शर्मा ने बताया कि बॉर्डर पर पकड़ी गई नकली नोटों की खेप को लेकर एसएचओ ग्रामीण रामनिवास, एसएचओ प्रदीप डागा, एसएचओ बाखासर, एसएचओ कोतवाली, सीओ चौहटन व बाड़मेर की छह टीमें गठित की गई है। गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ और छानबीन की जा रही है। अभी तक कई अन्य लोगों से भी पूछताछ चल रही है। खेप पाक से आई है, इससे भी इनकार नहीं किया जा सकता है।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- लाभदायक समय है। किसी भी कार्य तथा मेहनत का पूरा-पूरा फल मिलेगा। फोन कॉल के माध्यम से कोई महत्वपूर्ण सूचना मिलने की संभावना है। मार्केटिंग व मीडिया से संबंधित कार्यों पर ही अपना पूरा ध्यान कें...

और पढ़ें