राजस्थान:चिटफंड कंपनी बनाकर करोड़ों रूपये की ठगी करने वाले अंतर्राज्यीय गिरोह पकड़ा, यूपी से दो ठग गिरफ्तार

करौलीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
करौली में जिला स्पेशल सेल ने किया लाखों रूपए की ठगी केस में दो ईनामी शातिर ठगों को गिरफ्तार - Dainik Bhaskar
करौली में जिला स्पेशल सेल ने किया लाखों रूपए की ठगी केस में दो ईनामी शातिर ठगों को गिरफ्तार
  • पांच पांच हजार रूपए के ईनामी वांटेड है दोनों शातिर ठग, वाराणसी में पुलिस के हत्थे चढ़े
  • करौली में जिला स्पेशल टीम की कार्रवाई, एमपी, यूपी, गुजरात व तेलंगाना में भी केस दर्ज है

चिटफंड कंपनी बनाकर करोड़ों रूपये का गबन करने वाले अंतर्राज्यीय गिरोह के दो शातिर ठगों को राजस्थान की करौली जिले की पुलिस ने यूपी के वाराणसी से गिरफ्तार कर लिया है। इन दोनों ठगों की गिरफ्तारी के लिए करौली पुलिस द्वारा 5000-5000 रुपये का ईनाम घोषित किया हुआ था। यह कार्रवाई करौली जिले की स्पेशल पुलिस टीम ने की। करौली एसपी मृदुल कच्छावा ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी जयहिन्द कुमार प्रजापति निवासी शिवपुर जिला वाराणसी और महेन्द्र कुमार विश्वकर्मा, गांव अकिलवा थाना लोहता जिला वाराणसी है।

दोनों आरोपित के विरुद्ध राजस्थान के करौली, राजसमन्द व भीलवाड़ा जिले में 5, उत्तरप्रदेश में 12, गुजरात में 4, तेलंगाना व मध्यप्रदेश में 1-1 मुकदमे दर्ज है। हिण्डौन सिटी कस्बे में सन 2012 मे स्काईलार्क कुलाक एसएलडीआई इन्फ्राकोन नाम की एक चिटफन्ड कम्पनी खुली थी, जिसमें बहुत ही कम समय में पैसा को दोगुना करने का झांसा देकर जिले के हजारों निवेशकों से करीब 95 लाख रूपये की ठगी की गई। जिसमें थाना हिण्डौन सिटी व थाना सूरौठ में निवेशकों ने मुकदमे दर्ज करवा रखे हैं।

मोबाइल नंबर को ट्रेक कर ठगों तक पहुंची पुलिस

निवेशकों की मांग पर एसपी मृदुल कच्छावा ने डीएसटी प्रभारी यदुवीर सिंह को घोटाले के आरोपियों की गिरफ्तारी का टास्क दिया गया। टीम के सदस्य कांस्टेबल परमजीत व मान सिंह ने आसूचना संकलित कर दोनों के वाराणसी में होने की सूचना दी। सूचना पर डीएसटी प्रभारी यदुवीर सिंह एक विशेष टीम के साथ वाराणसी पहूंचे ओर सभी संभावित स्थान पर दबिश दी। इसी दौरान मुखबिर ने आरोपी महेन्द्र विश्वकर्मा के मोबाईल नम्बर दिये, जिसकी साईबर सेल से लोकेशन प्राप्त कर महेन्द्र को पकड़ लिया। महेंद्र की सूचना पर दूसरे आरोपी जयहिन्द कुमार प्रजापति को उसके गांव अकिलवा से पकड़ दोनों को थाना हिण्डौन सिटी थाना प्रभारी को सुपुर्द किया गया।

इस तरह करते है ठगी की वारदात

डीएसटी प्रभारी यदुवीर सिंह के अनुसार पकड़े गये बदमाश अलग-अलग राज्यों मे जाकर प्राईवेट चिटफन्ड कम्पनियां खोलकर निवेशको को कम समय मे पैसा दुगुना करने का झांसा देकर इन्वेस्टमेंट कराते, फिर दिये हुए समय से पहले अपनी कम्पनी सहित भाग जाते थे। और अन्य राज्य में जाकर इसी प्रकार से वारदात करते।

खबरें और भी हैं...