कोरोना ने बदला विरोध का तरीका / श्रमिकों ने सोशल डिस्टेंसिंग रखते हुए किया केंद्र की नीतियों का विरोध, नहीं निकाला जुलूस

जयपुर रेलवे स्टेशन पर अपनी मांगों के समर्थन में प्रदर्शन करते रेलवे एम्पलाइज यूनियन और मजदूर संघ के सदस्य। जयपुर रेलवे स्टेशन पर अपनी मांगों के समर्थन में प्रदर्शन करते रेलवे एम्पलाइज यूनियन और मजदूर संघ के सदस्य।
X
जयपुर रेलवे स्टेशन पर अपनी मांगों के समर्थन में प्रदर्शन करते रेलवे एम्पलाइज यूनियन और मजदूर संघ के सदस्य।जयपुर रेलवे स्टेशन पर अपनी मांगों के समर्थन में प्रदर्शन करते रेलवे एम्पलाइज यूनियन और मजदूर संघ के सदस्य।

  • इंटक, एटक, हिन्द मजदूर सभा, सीटू, राज सीटू, एआईसीटीयू, बैंक, बीमा संगठनो से जुड़े श्रमिक नेताओं ने पीएम के नाम ज्ञापन सौंपा

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 02:46 PM IST

जयपुर. (शिवांग चतुर्वेदी)। कोरोना संक्रमण ने एक ओर जहां पूरी दुनिया को अपनी चपेट में लिया हुआ है वहीं दूसरी ओर इसके प्रभाव ने सभी के जीवनशैली को भी बदल दिया है। इस बात पर मुहर केंद्रीय श्रमिक संगठनों के एक विरोध प्रदर्शन ने लगाई।

दरअसल केंद्रीय श्रमिक संगठन के आव्हान पर देशभर के श्रमिकों की बदहाली एवं सरकार द्वारा उनके लिए पर्याप्त व्यवस्था करने में नाकामी को लेकर राजस्थान में शुक्रवार को इंटक, एटक, हिन्द मजदूर सभा, सीटू, राज सीटू, एआईसीटीयू, बैंक, बीमा संगठनो से जुड़े श्रमिकों ने विरोध प्रदर्शन किया।

सामान्यत विशाल जुलूस के साथ निकाले जाने वाले इन प्रदर्शनों में कोरोना का ऐसा खौफ रहा कि श्रमिकों ने अपने-अपने विभागों में कार्यस्थल पर ही कालीपट्टी बांधते हुए विरोध करना उचित समझा। संयुक्त मोर्चे के संयोजक व एचएमएस के प्रदेशाध्यक्ष मुकेश माथुर ने बताया कि कोविड-19 की गाइडलांइस की पालना करते हुए विरोध किया गया है। सभी ने सोशल डिस्टेंसिंग की पालना के साथ अपनी मांगों के समर्थन में नारेबाजी की।

ये हैं मांगें
हमने सरकार से श्रमिकों को लॉकडाउन अवधि के वेतन, इस दौरान दुर्घटनाग्रस्त मजदूरों को मुआवजा, प्रवासी मजदूरों को यातायात व्यवस्था करके उनके घर तक पहुंचाना, फैक्ट्री एवं कारखाने कोविड-19 से बचाव के मानकों का पालन करते हुए पुन: खुलवाना, प्रवासी मजदूरों को उनके गृह राज्य मे रोजगार एवं आर्थिक अनुदान देने, श्रम कानूनों मे परिवर्तन वापिस लेने, कर्मचारियों को बढ़े हुए डीए का भुगतान करने, कोविड-19 से जुड़े संविदा कर्मियों को अतिरिक्त भुगतान करने तथा जोखिम बीमा में कवर करने आदि पर शीघ्र कार्रवाई करने की मांग की है।

प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपाइस दौरान नेता रविन्द्र शुक्ला, मुकेश चतुर्वेदी, सौरभ दीक्षित, सुभाष पारीक, प्रवीण चौहान, विनीत मान, कुणाल रावत, अशीम खान, महेश मिश्रा सहित बड़ी संख्या में कर्मचारी मौजूद रहे। वहीं संगठन ने श्रम विभाग के अतिरिक्त आयुक्त को प्रधानमंत्री के नाम का ज्ञापन भी सैांपा। 

संयुक्त मोर्चा के प्रतिनिधियों ने  श्रम विभाग के अतिरिक्त आयुक्त को प्रधानमंत्री के नाम का ज्ञापन भी सैांपा।
संयुक्त मोर्चा के प्रतिनिधियों ने श्रम विभाग के अतिरिक्त आयुक्त को प्रधानमंत्री के नाम का ज्ञापन भी सैांपा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना