पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Make The Body Part Of The Mask, Come Forward To Give Samples, Reach The Hospital Before The Health Deteriorates.

कोरोना से जंग:मास्क काे शरीर का हिस्सा बनाएं, सैंपल देने आगे आएं, तबीयत बिगड़ने से पहले ही अस्पताल पहुंच जाएं

जोधपुर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
केएन कॉलेज में फॉर्म जमा करवाने आई छात्राएं बिना किसी सख्ती के चेहरों पर मास्क और आपस में सोशल डिस्टेंसिंग बनाती दिखीं।
  • हालात - आधे सितंबर में ही 101 मौत और 5490 संक्रमित, सैंपलिंग में हर चौथा व्यक्ति मिल रहा पॉजिटिव
  • बाधाएं - राेज 5500 टेस्टिंग की क्षमता, 2500 लोग ही करवा रहे, स्वास्थ्य गंभीर हाेने पर ही हाॅस्पिटल आ रहे

राज्य सरकार की ओर से मंगलवार को देश के प्रमुख चिकित्सा विशेषज्ञों के साथ कोरोना जागरुकता संवाद में मिले टेक-अवे और जोधपुर में बन रहे हालात के मद्देनजर प्रशासन की ओर से जागरूकता के लिए की जा रही तैयारी की जानकारी से भास्कर ने शहर के लोगों के लिए तैयार किए हैं ये 5 टिप्स। यह कोरोना के बढ़ते प्रकोप के दौर में जिंदगी और मौत के इस मोर्चे पर लड़ने के लिए हथियार बन सकते हैं।

1. पहले जैसी पाबंदी संभव नहीं, जिंदगी चलानी है और बचानी भी
कोरोना आया था तो लॉकडाउन लगाया। हटा तो केस बढ़े ही। बाजार बंद करने का समय तय किया, पर कोई असर नहीं। वीकेंड पर भी पाबंदी काम की नहीं। छह माह पहले जैसे वाले हालात अब नहीं हो सकते। जिंदगी को पटरी पर भी लाना है। काम—धंधे नहीं चलेंगे तो लोग यूं ही मर जाएंगे। खुद सचेत रहना होगा, कायदे मानने होंगे।
2. मास्क डर से नहीं स्वेच्छा से अपनाएं, दूसराें से भी लगवाएं
मास्क सख्ती या डर से नहीं, स्वेच्छा से लगाएं। यह वैक्सीन जैसे काम करता है। मास्क लगाने से कोरोना वायरस से ना केवल बचे रहेंगे, बल्कि आपमें इम्युनिटी सिस्टम भी बनता रहेगा। यदि कोई मास्क लगाता है व जाने-अनजाने में किसी संक्रमित के संपर्क में में भी आ जाता है, ताे 95 प्रतिशत वायरस से बचाव मास्क से हो जाता है। बाकी 5 प्रतिशत वायरस यदि मास्क के माध्यम से आपके अंदर भी जाता है तो वह शरीर में एंटीबॉडी डवलप होने में मददगार साबित होता है। इसलिए मास्क लगाना वैक्सीन की तरह काम करता है।

3. सख्ती से लागू करना होगा ‘नो मास्क नो एंट्री’ का नियम
प्रशासन को सख्ती से सार्वजनिक और खुली जगहों पर नो मास्क नो एंट्री का नियम लागू करना होगा। इससे मास्क के प्रति जागरुकता अाएगी। जो अभी चालान के डर से मास्क लगाते है वो इसे आदत बना लेंगे। यदि 4 सप्ताह तक सभी लोग कोरोना को हराने के लिए पूरे नियम से मास्क पहनें तो नवंबर से पहले ही कोरोना को रोक पाएंगे।
4. जिद करनी होगी, सीटी स्केन करवाने की
कोरोना दम घोंटकर मार रहा है। एक्स-रे भी इसे पकड़ने में इतना कारगर नहीं है। जयपुर में हर दिन 50 मरीजों की सीटी स्केन हो रही है, जोधपुर में महज 15। वह भी इतने ज्यादा केस सामने आने के बाद। कोरोना टेस्ट करवा लिया, पॉजिटिव आ गए, अब आइसोलेट हो जाओ। इतना काफी नहीं है। जिद करनी होगी। प्रशासन पर दबाव बनाना होगा कि जिसे भी दिक्कत है, उसकी सीटी स्केन करवाएं। इससे इलाज व जान बचाने में सहूलियत होगी।

5. हाॅस्पिटल पहुंचने का रिएक्शन टाइम घटाना होगा
बुखार आ गया, टेस्ट कराया नहीं, पंद्रह दिन निकाल दिए। ऑक्सीजन लेवल व पल्स देखी नहीं। सीटी स्केन करवाया नहीं। जब सांस लेने में बहुत दिक्कत होने लगी, तब अस्पताल पहुंचे। लोगों का रिएक्शन टाइम बढ़ता जा रहा है। पहले जो टेस्ट करवाने दौड़ते थे, अब रूटीन में ले रहे हैं। अस्पताल पहुंचने के 48 घंटे में 58 प्रतिशत लोगों की मौत हुई है। आईएलआई ओपीडी का मतलब ही यही है कि खुद आगे आकर जांच करवाएं।

कोरोना के इलाज में लगा शहर का हेल्थकेयर सिस्टम कितना तैयार

3 सरकारी, 3 निजी अस्पतालों की स्थिति, अस्पतालों में बेड, आईसीयू व वेंटिलेटर उपलब्ध, एडमिट होने में ना हिचकें

कुल बेड: 1518 भर्ती मरीज 429 कुल आईसीयू बेड: 177 भर्ती 146

कुल वेंटिलेटर: 120 भर्ती 37

शहर के 6 अस्पतालों में कोरोना बेड की स्थिती

कोरोना के उपचार के लिए शहर में प्रशासन ने छह अस्पतालों काे चिह्नित किया है। इसमें तीन सरकारी एमजीएच, एमडीएमएच और एम्स हैं। वहीं तीन निजी अस्पताल गोयल, वसुंधरा और श्रीराम अस्पताल हैं। इन सबमें मिलाकर 429 मरीज भर्ती हैं।

एमजी अस्पताल
कुल बेड 694 भर्ती मरीजों की संख्या 148
आईसीयू बेड 28 भर्ती मरीज 25
वेंटिलेटर 26 भर्ती मरीज 19
एमडीएम अस्पताल
कुल बेड 400 भर्ती मरीजों की संख्या 49
आईसीयू बैड 50 भर्ती मरीजों की संख्या 33
वेंटिलेटर 30 भर्ती मरीजों की संख्या 02
एम्स
कुल बेड 333 भर्ती मरीज 193
आईसीयू बेड 80 भर्ती मरीज 77
वेंटिलेटर 56 भर्ती मरीज 15

तीन निजी अस्पतालों में भर्ती मरीजों की स्थिति

गोयल + राजदादीसा हाॅस्पिटल
कुल बेड 46 भर्ती मरीजों की संख्या 18
आईसीयू बेड 10 भर्ती मरीजों की संख्या 04
वेंटिलेटर 04 भर्ती मरीजों की संख्या 00
वसुंधरा हाॅस्पिटल
कुल बेड 20 भर्ती मरीजों की संख्या 04
आईसीयू बेड 05 भर्ती मरीजों की संख्या 04
वेंटिलेटर 02 भर्ती मरीजों की संख्या 00
श्रीराम अस्पताल
कुल बेड 25 भर्ती मरीजों की संख्या 17
आईसीयू बेड 04 भर्ती मरीजों की संख्या 03
वेंटिलेटर 02 भर्ती मरीजों की संख्या 01

जिम्मेदार निरीक्षण करने पहुंचे, गंदे मिले कोविड सेंटर के टाॅयलेट

जोधपुर कोविड प्रभारी और उप निदेशक स्वास्थ्य डॉ. सुनीलकुमार सिंह बिष्ट और डॉ. मोहनदान ने बोरानाडा कोविड केयर सेंटर का निरीक्षण किया और 40 मरीजों से फीडबैक लिया। निरीक्षण के दौरान सेंटर के टॉयलेट में स्वच्छता की कमी मिलने पर तुरंत वार्ड बॉयज को बुलाकर सभी टॉयलेट सही करवाए साथ ही नियमित सफाई के निर्देश जारी किए।

एमडीएम और एमजीएच की व्यवस्था बेहतर करने को कहा
कोरोना मरीजों की इलाज व्यवस्थाओं का जायजा लेने डॉ. एसएन मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. जीएल मीणा ने एमडीएम और एमजीएच का राउंड लिया। डॉ. मीणा ने बताया कि व्यवस्थाएं संतोषजनक हैं, इन्हें और बेहतर करने के निर्देश दिए हैं। एमडीएम जनाना विंग को कोरोना अस्पताल घोषित कर दिया है।

...क्योंकि काेराेना से अब जिंदगी और मौत की जंग है

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में हैं। आपकी मेहनत और आत्मविश्वास की वजह से सफलता आपके नजदीक रहेगी। सामाजिक दायरा भी बढ़ेगा तथा आपका उदारवादी रुख आपके लिए सम्मान दायक रहेगा। कोई बड़ा निवेश भी करने के लिए...

और पढ़ें