जयपुर समेत प्रदेशभर में छाया घना कोहरा:मौसम विभाग का अलर्ट, अगले 3 दिन बारिश-ओले, फसली उपज को स्टोरेज करने की सलाह

जयपुर5 महीने पहले
जयपुर समेत प्रदेशभर में छाया घना कोहरा - Dainik Bhaskar
जयपुर समेत प्रदेशभर में छाया घना कोहरा

शुक्रवार की सुबह राजधानी जयपुर समेत प्रदेश कोहरे की चादर में लिपटा हुआ नजर आया। धुंध के कारण तीन दिन बाद तापमान में भी बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। घने कोहरे की वजह से जयपुर में सुबह के वक्त वाहनों को सड़कों पर विजिबिलिटी प्रॉब्लम का सामना करना पड़ा। मॉर्निग वॉकर्स भी विजिबिलिटी कम होने और ठिठुरन बढ़ने के कारण घरों से कम ही बाहर निकले।

मौसम विभाग का अलर्ट-अगले 3 दिन बारिश-ओले
मौसम केन्द्र जयपुर के निदेशक राधेश्याम शर्मा ने 21 से 23 जनवरी तक प्रदेश में अलग-अलग इलाकों में बारिश और ओले गिरने का अलर्ट जारी किया है। आज प्रदेश के 13 जिलों में बारिश की सम्भावना है। 22 जनवरी को 15 जिलों में बरसात होने के आसार हैं। वहीं 23 जनवरी को भरतपुर और जयपुर सम्भाग में हल्की बारिश होने की सम्भावना जताई गई है। रविवार 23 जनवरी को बाकी सम्भागों में मौसम शुष्क रहेगा।

दक्षिण-पश्चिम राजस्थान के ऊपर साइक्लोन सर्कुलेशन
मौसम विभाग के मुताबिक एक नए वेस्टर्न डिस्टर्बेंस के एक्टिव होने के कारण आज दक्षिण-पश्चिम राजस्थान के ऊपर साइक्लोन सर्कुलेशन सिस्टम बना है। अरब सागर से हवाएं अपने साथ काफी नमी भी लेकर आ रही हैं। जिससे आज की रात से जोधपुर, बीकानेर, अजमेर, जयपुर, कोटा और भरतपुर सम्भाग के जिलों में बादल गरजने के साथ कुछ जगह हल्के से मध्यम दर्जे की बारिश हो सकती है। 22 जनवरी को इस सिस्टम का सबसे ज्यादा असर देखने को मिलेगा। राजस्थान के उत्तरी भागों में कहीं-कहीं बादल गरजने के साथ एक-दो जगह ओले भी गिर सकते हैं। जोधपुर, अजमेर जयपुर, बीकानेर और भरतपुर सम्भाग के जिलों में 21-22 जनवरी को 20 से 30 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चलने की सम्भावनाएं भी हैं। रविवार 23 जनवरी को केवल भरतपुर और जयपुर सम्भाग में ही हल्की बारिश के आसार हैं। बाकी जिलों में मौसम सूखा रहेगा।

फसली उपज स्टोरेज करने की सलाह
मौसम विभाग ने बीकानेर, अजमेर, जयपुर, भरतपुर सम्भाग के जिलों में किसानों को विशेष तौर पर अलर्ट किया है। जिसमें कृषि मंडियों और धान मंडियों में खुले में रखे हुए अनाज और जिंसों को सुरक्षित स्टोरेज करने और भीगने से बचाने को कहा है। खुले आसमान तले पककर तैयार रखी फसलों को भी ढंकने या सुरक्षित स्टोरेज करने की सलाह दी गई है। रबी की फसलों में सिंचाई या किसी भी तरह का कैमिकल छिड़काव बारिश को ध्यान में रखकर ही करने को कहा गया है।