• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sonia Gandhi | Congress Chintan Shivir Posters: Subhash Chandra Bose, Bhagat Singh, And Sardar Patel Vs Gandhi Family

कांग्रेस के चिंतन शिविर में 8 चौंकाने वाले पोस्टर:गांधी परिवार से ज्यादा अहमियत सुभाषचंद्र बोस, भगत सिंह और सरदार पटेल को

जयपुर/उदयपुर4 महीने पहलेलेखक: समीर शर्मा

उदयपुर में चल रहे कांग्रेस के चिंतन शिविर में इस बार लगाए गए पोस्टर्स कुछ खास हैं। आमतौर पर कांग्रेस के शिविरों, अधिवेशनों या सम्मेलनों के पोस्टरों में महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू के साथ गांधी परिवार को तवज्जो दी जाती है या फिर संबंधित प्रदेश के मुख्यमंत्री और प्रदेशाध्यक्ष को।

इस बार सड़क के दोनों ओर लगे पोस्टर में महात्मा गांधी, पंडित जवाहर लाल नेहरू, मनमोहन सिंह के साथ स्वतंत्रता सेनानियों को भी बराबर महत्व दिया गया है। पोस्टर में कांग्रेस का इनोवेशन चर्चा का मुद्‌दा बना हुआ है। हालांकि, भाजपा इसे नेहरू-गांधी परिवार की छाया से बाहर निकलने की विफल कोशिश बता रही है।

VIDEO के लिए फोटो पर क्लिक करें-

उदयपुर एयरपोर्ट से से लेकर शहर में कई जगह ऐसे पोस्टर लगाए गए हैं।
उदयपुर एयरपोर्ट से से लेकर शहर में कई जगह ऐसे पोस्टर लगाए गए हैं।

वंशवाद के आरोप से छुटकारा पाने के उपाय
आमतौर पर कांग्रेस के कार्यक्रमों में पोस्टर में गांधी परिवार या मुख्यमंत्री-प्रदेशाध्यक्ष के ही चेहरे नजर आते हैं। जिसे लेकर कांग्रेस पर कई बार परिवारवाद के आरोप भी लग चुके हैं। भाजपा ने कई बार आरोप लगाए हैं कि कांग्रेस पंडित नेहरू, इंदिरा गांधी, सोनिया गांधी को याद करती है, लेकिन पीवी नरसिम्हा राव, सुभाष चंद्र बोस, लाला लाजपत राय जैसे नेताओं और स्वतंत्रता सेनानियों को योगदान भूल गई है। राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि कांग्रेस ने इन पोस्टर के जरिए परिवारवाद के आरोपों का मौन जवाब देने की कोशिश की है। उदयपुर एयरपोर्ट से से लेकर शहर में कई जगह ऐसे पोस्टर लगाए गए हैं।

पोस्टर में किसके साथ कौन
1 - मनमोहन सिंह के साथ पीवी नरसिम्हा राव
2 - मौलाना अबुल कलाम आजाद के साथ बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर
3 - डॉ. राजेंद्र प्रसाद के साथ लाल बहादुर शास्त्री
4 - गोपाल कृष्ण गोखले के साथ भगत सिंह
5 - पंडित जवाहर लाल नेहरू के साथ सरदार वल्लभ भाई पटेल
6 - लाला लाजपत राय के साथ महात्मा गांधी
7 - रवींद्र नाथ टैगोर के साथ सुभाष चंत्र बोस
8 - सरोजनी नायडू भी हैं पोस्टर में मौजूद

कांग्रेस के चिंतन शिविर के ये पोस्टर पार्टी में बदलाव से जोड़कर देखे जा रहे हैं।
कांग्रेस के चिंतन शिविर के ये पोस्टर पार्टी में बदलाव से जोड़कर देखे जा रहे हैं।

पोस्टर इनोवेशन को लेकर किसका क्या है कहना
पार्टी ने इन बड़े और पुराने नेताओं और स्वतंत्रता सेनानियों को हमेशा याद रखा है। भाजपा और RSS वाले आजादी की लड़ाई में दूर-दूर तक नहीं दिखाई दिए। अब बातें करते हैं और आरोप लगाते रहते हैं।
अजय माकन, प्रदेश प्रभारी
भाजपा राष्ट्रवाद का दिखावा करती है। हमारे नेताओं ने आजादी के लिए कुर्बानी दी। तब संघवाले और भाजपा के कौन से नेता शामिल हुए? हमारे नेताओं को हमेशा याद रखा जाएगा।
मल्लिकार्जुन खड़गे, वरिष्ठ नेता कांग्रेस
ये कांग्रेस की नेहरू-गांधी खानदान की छाया से बाहर निकलने की विफल कोशिश है। कांग्रेस ने सुभाष चंद्र बोस को कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष बनने से रोका गया। नरसिम्हा राव जिस सम्मान के हकदार थे, उन्हें कभी नहीं दिया गया। महापुरुषों के पोस्टर अपने नेताओं के साथ लगाना महज कांग्रेस का दिखावा है। अंदर नीयत वंशवाद को ही पोषित करने की है।
सतीश पूनिया, प्रदेश अध्यक्ष भाजपा

कांग्रेस उस पर लगने वाले परिवारवाद के आरोपों को इस शिविर के द्वारा दूर करने का हरसंभव प्रयास कर रही है।
कांग्रेस उस पर लगने वाले परिवारवाद के आरोपों को इस शिविर के द्वारा दूर करने का हरसंभव प्रयास कर रही है।