पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Mullis Exposed The Blind Murder In Pur, Controversy Started After Molesting Girlfriend, Absconding After Killing Shyamlal, Accused Police Arrested From Andhra Pradesh

गर्लफ्रेंड को छेड़ने से रोका तो करा दिया मर्डर:युवक को निर्वस्त्र किया, हाथ-पैर बांधकर चाकू से गले पर किए थे वार; माफी नहीं मांगी तो दोस्तों से करा दी हत्या, आंध्रप्रदेश से 2 गिरफ्तार

भीलवाड़ा6 दिन पहले
हत्या के मामले में पुलिस की गिरफ्त में आरोपी।

जिले के पुर थाना क्षेत्र के गठीला खेड़ा गांव की नाड़ी की पाल पर हुए ब्लाइंड मर्डर मामले में पुलिस ने खुलासा करते हुए आंधप्रदेश से दो युवकों को गिरफ्तार किया है। जब उनसे पूछताछ की तो सामने आया कि मृतक श्याम लाल बैरवा की मौत के पीछे गर्लफ्रेंड को लेकर हुआ विवाद था। आरोपी युवकों के दोस्त अशोक मीणा ने श्याम लाल की गर्लफ्रेंड से छेड़खानी की थी। इस पर श्याम लाल ने उसके साथ मारपीट की। इसका बदला लेने के लिए अशोक के दोस्त अजीत और प्रिंस ने निर्वस्त्र कर पहले उसके हाथ-पैर बांधे और इसके बाद चाकू से हमला कर गला रेत दिया। पुलिस ने दोनों आरोपियों को आंध्रप्रदेश से गिरफ्तार किया है।

22 जून को पुर थाना पुलिस को जानकारी मिली थी कि थाना क्षेत्र की सीमा में आने वाले गठीला खेड़ा गांव की नदी की पाल पर एक युवक का खून में सना हुआ शव पड़ा है। मृतक की पहचान चित्तौड़गढ़ के फलोदी गांव निवासी श्यामलाल बैरवा के रूप में हुई थी। इस हत्या के बाद मृतक के पिता द्वारा हत्या का प्रकरण भी दर्ज करवाया गया था। इस निर्मम हत्या के बाद पुर थाना पुलिस द्वारा 24 घंटे के अंदर ही आरोपियों का पता लगा दिया गया था, लेकिन आरोपी फरार हो गए थे। जिन्हें बुधवार को हिरासत में लिया गया। पुर थाना पुलिस द्वारा श्यामलाल की निर्मम हत्या करने के मामले में बिहार के भोजपुर जिले के सारंगपुर निवासी अजीत पुत्र त्रिभुवन साह व बारा जिले के बड़ोद निवासी प्रिंस उर्फ नरेश पिता नंद किशोर को गिरफ्तार किया गया है।

यह था पूरा मामला
यह पूरा विवाद श्यामलाल की गर्लफ्रेंड को छेड़ने से शुरू हुआ था। पुलिस ने बताया कि अशोक मीणा नाम के युवक ने उसके साथ छेड़छाड़ की थी। इसके बाद श्यामलाल ने अशोक को सबक सिखाने के लिए मारपीट की। अशोक के दोस्त अजीत व प्रिंस को जब पता चला तो उन्होंने श्यामलाल को माफी मांगने को कहा, लेकिन उसने मना कर दिया। मृतक ने अपने मकान मालिक ओम गुर्जर से इस मामले की शिकायत की थी। मकान मालिक ओम गुर्जर ने भी मामले में आरोपियों से झगड़ा कर लिया। इस झगड़े में प्रिंस का मोबाइल टूट गया था।

प्रिंस के मोबाइल को ठीक कराने के लिए उसने श्यामलाल से रुपए भी मांगे, लेकिन उसने देने से मना कर दिया, जिसके बाद से इनमें रंजिश बढ़ गई थी। 22 जून को दोनों आरोपी ने श्यामलाल को बाइक पर बैठाकर मंडपिया से सर्विस रोड होते हुए संगम कॉलेज के सामने वाले पुलिया से गठीला खेड़ा नाडी की पाल पर ले कर गए। आरोपियों ने पहले श्यामलाल को निर्वस्त्र कर उसके हाथ पैर बांधे और उसके बाद चाकू से उसका गला रेत कर निर्मम हत्या कर दी।

पुलिस से बचने के लिए 3500 किलोमीटर तक काटी फरारी
पुलिस ने बताया कि दोनों आरोपियों ने इस वारदात के बाद आरोपी फरार हो गए थे। पुलिस को इनकी लास्ट लोकेशन बिहार के भोजपुर में मिली। इसके बाद आरोपी लगातार अपनी जगह बदल रहे थे। आरोपियों ने पुलिस से बचने के लिए मुकंदगढ़ बिहार, नोएडा, सहारनपुर, सांची, आनंदपुर में अपनी फरारी काटी थी। इसके बाद आरोपियों को आंध्र प्रदेश पुलिस की मदद से अनंतपुरम से गिरफ्तार किया था।

आरोपी जहां रुके वही की मजदूरी
पुलिस ने बताया कि पुर थाना पुलिस की टीम लगातार आरोपियों का पीछा कर रही थी। इसकी भनक आरोपियों को भी लग चुकी थी। लेकिन आरोपी जहां भी जगह बदल रहे थे। वहां ज्यादा समय नहीं ठहर रहे थे। आर्थिक तंगी के चलते आरोपी जहां रुके वही मजदूरी की और कुछ पैसे इकट्ठे होते हैं उस जगह को छोड़ रहे थे। एसपी विकास शर्मा ने बताया कि इस ब्लाइंड मर्डर का राजफाश करने में पुर थाना प्रभारी मुकेश कुमार, हेड कांस्टेबल अशोक कुमार, कांस्टेबल मुकेश कुमार, कांस्टेबल विश्वंभर दयाल व कांस्टेबल गोपाल लाल की भूमिका अहम रही।

खबरें और भी हैं...