पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Not Caught Even After 24 Hours, Two Policemen Line Up, The State Minister Said, Every Mistake Demands A Price…

डॉक्टर दंपती को मारने गिरवी रखी बाइक लेकर आए हत्यारे:24 घंटे बाद भी पकड़ में नहीं आए, दो पुलिसकर्मी लाइन हाजिर, राज्य के मंत्री ने कहा, हर गलती कीमत मांगती है…

भरतपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भरतपुर में नीम दा गेट के पास डॉक्टर दंपती की हत्या के आरोपी 24 घंटे बाद भी पुलिस की पकड़ में नहीं आ सके। पुलिस बाइक तो दूर नंबर भी पता नहीं लगा सकी है। फिलहाल पुलिस अधिकारियों ने खुद की नाकामी को छिपाने के लिए एक हैडकांस्टेबल व एक सिपाही को लाइन हाजिर कर दिया है।

चिकित्सा राज्य मंत्री सुभाष गर्ग व एडीजी ने शनिवार को भरतपुर में क्राइम मीटिंग ली। चिकित्सा राज्यमंत्री ने इस दौरान विवादित बयान भी दिया। उन्होंने कहा कि हर गलती सजा मांगती है। उन्होंने कहा कि दोनों आरोपियों को पुलिस जल्द गिरफ्तार कर लेगी। उधर, डीजीपी एमएल लाठर ने बयान जारी कहा कि दोनों आरोपियों की पहचान कर ली गई है। कुछ लोगों को हिरासत में लिया है। जल्द ही आरोपी गिरफ्त में होंगे। यह हत्या दो परिवारों की आपसी रंजिश का परिणाम है।

जानिये, हत्यारे कैसे आए थे बाइक पर
दैनिक भास्कर ने हत्या में शामिल हत्यारों और बाइक के बारे में अहम जानकारी जुटाई है। हत्या की गुत्थी में एक ओर युवक का नाम सामने आया है। डॉक्टर दंपती की हत्या में शामिल बाइक को कुछ दिनों पहले ही गिरवी रखा गया था। डॉक्टर की प्रेमिका दीपा गुुर्जर का भाई अनुज उसी बाइक को लेकर कुछ दिनों से घूम रहा था। अनुज के रिश्तेदार दौलत के पास बाइक को कुछ रुपए उधार लेने के लिए गिरवी रखा गया था। उस बाइक को अनुज ने अपने जीजा दौलत से ली थी। पिछले कुछ दिनों से अनुज ही बाइक को चला रहा था। पुलिस पूछताछ के लिए दौलत की तलाश कर रही है।

जाहरपीर के दर्शनों के लिए रोजाना जाते थे डॉक्टर दंपती
डॉक्टर दंपती रोजाना शाम को जाहरपीर के दर्शनों के लिए जाते थे। दीपा गुर्जर का भाई अनुज बहन व भांजे की मौत का बदला लेने के लिए पागल हो गया था। उसने पहले गिरवी रखी बाइक ले ली थी। इसके बाद बाइक से रेकी शुरू कर दी थी। डॉक्टर दंपती के रोजाना जाहरपीर में जाने का उसे पता लगा। इसके बाद डॉक्टर दंपती के घर से निकलने के बाद रेकी करते हुए पीछा किया। पीछा कर रास्ते में ही नीम दा गेट के पास बाइक को गाड़ी के सामने लगा दिया। अनुज के साथ उसका धौलपुर का दोस्त भी था। उसने पहले डॉक्टर सुदीप गुप्ता पर दो गोली मारी और फिर सीमा गुप्ता पर तीन गोली मारी। वे दोनों बाइक लेकर हाथ में पिस्तौल को लहराते हुए फरार हो गए। जांच में पता लगा कि वे बाइक के साथ धौलपुर व डांग इलाके की तरफ भागे है।

डॉक्टर दंपती की हत्या के दौरान अनुज व महेश।
डॉक्टर दंपती की हत्या के दौरान अनुज व महेश।

चार टीमें दे रही दबिश, अनुज की बहन से पूछताछ
डॉक्टर दंपती की हत्या में शामिल अनुज और महेश दोनों युवकों को पकड़ने के लिए चार टीमें बनाई गई हैं। धौलपुर, करौली सहित भरतपुर में पुलिस की टीमें तलाश कर रही है। जांच में पता लगा कि दोनों बदमाश डांग इलाके की तरफ भाग कर गए है। धौलपुर पुलिस को भी दोनों की तलाश में लगाया गया है, वहीं पुलिस ने अनुज की दूसरी बहन को हिरासत में लिया है। पुलिस उसकी बहन से दोनों के बारे में पूछताछ करने में जुटी हुई है।

डॉक्टर दंपती का एक ही चिता पर अंतिम संस्कार किया गया।
डॉक्टर दंपती का एक ही चिता पर अंतिम संस्कार किया गया।

एक ही चिता पर डॉक्टर दंपती का अंतिम संस्कार
भरतपुर पुलिस ने दोपहर बाद डॉक्टर दंपती के शवों का पोस्टमार्टम कर परिजनों को सौंप दिया। दोपहर को डॉक्टर सुदीप की बहन बंगलुरु से भरतपुर पहुंची। बहन के आने के बाद ही शव सुपुर्द किए गए। डॉक्टर दंपती के शवों का एक ही चिता पर अंतिम संस्कार किया गया। डॉक्टर के बेटे ने मुखाग्नि दी। वारदात के बाद डॉक्टर दंपती के घर व अन्य रिश्तेदारों के घर पर सुरक्षा के लिए पुलिसकर्मी लगाए गए है।

डॉक्टर सुदीप के रिश्तेदार के घर के बाहर पुलिसकर्मी तैनात किए।
डॉक्टर सुदीप के रिश्तेदार के घर के बाहर पुलिसकर्मी तैनात किए।

हैडकांस्टेबल व कांस्टेबल पर गिरी गाज
डॉक्टर दंपती की हत्या का लेकर लापरवाही मानते हुए हैडकांस्टेबल व कांस्टेबल को लाइनहाजिर किया गया है। नीम दा गेट पर घटना शाम को 4.30 बजे हुई थी। घटनास्थल थाने से महज पांच सौ मीटर की दूरी पर ही था। पुलिस अनुज व महेश की कुछ दिनों से रूदावल में फायरिंग मामले में तलाश भी कर रही थी। इसके बावजूद दोनों हथियार लेकर शहर में घूमते रहे। रेकी कर डॉक्टर के पीछे पहुंचे और सरेआम दिनदहाड़े हत्या कर दी। लॉकडाउन होने के बावजूद दोनों आराम से फरार हो गए,जबकि कई जगह पर पुलिस की नाकाबंदी भी लगी हुई थी।

बदले की भावना का ट्रिपल एंगल, तीनों की कहानी पढ़ें

मृतका दीपा का भाई अनुज
मृतका दीपा का भाई अनुज

1. अनुज : 10वीं कक्षा तक पढ़ा हुआ है। भरतपुर में नीम दा गेट पर रहता है। चार बहनें है। अनुज और अनिल दो भाई हैं। अनुज सबसे छोटा है। रूदावल में बाजार हुई फायरिंग में शामिल था। फायरिंग के मामले में फरार चल रहा था। डॉक्टर दंपती को अक्सर अस्पताल में धमकी देने जाता था। पहले से ही कई ऑपराधिक मामले दर्ज है। पुलिस कई दिनों से उसकी तलाश कर रही थी। अनुज की बहन की शादी दौलत से हुई थी।

वारदात के दौरान अनुज का दोस्त महेश।
वारदात के दौरान अनुज का दोस्त महेश।

2. महेश : धौलपुर के नादनपुर(डांग इलाके) का रहने वाला है। यह दौलत का साला है और अनुज का खास दोस्त है। दौलत के मकान में रहता था। अनुज से दोस्ती होने पर अक्सर भरतपुर में ही रहने लगा। डॉक्टर दंपती की हत्या के समय बाइक को चला रहा था। इसके पास भी देशी कट्‌टा लगा हुआ था। इसके खिलाफ कई मारपीट व फायरिंग के भी मामले दर्ज है।

दौलत रिश्ते में अनुज का जीजा है।
दौलत रिश्ते में अनुज का जीजा है।

3. दौलत : भरतपुर का रहने वाला है। पास में ही पहलवानी करता है। दौलत और अनुज दोनों जीजा-साले है। दौलत लोगों को ब्याज पर रुपए देने का काम करता है। प्रोपर्टी व जरूरी वस्तुओं को गिरवी रख कर रुपए देता है। देशी अखाड़े में पहलवानी के कारण दोनों कान टूटे हुए है। पुलिस हत्या में दौलत की भूमिका की भी जांच कर रही है। फिलहाल फरार चल रहा है।

खबरें और भी हैं...