• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • On Suspicion Of An Illegal Relationship, The Young Man Was Tied To A Tree, Shaved And Fed Urine, The Panches Of The Society Settled The Matter In The Panchayat.

अपराध:अवैध संबंध के शक में युवक को पेड़ से बांध बाल काटे व मूत्र पिलाया, समाज के पंचों ने पंचायत बैठा आपस में सुलझा लिया मामला

जोधपुर2 वर्ष पहले
बाड़मेर जिले के चौहटन क्षेत्र के एक गांव में पेड़ से बांधा गया युवक।
  • वीडियो वायरल होने पर हरकत में आई पुलिस

सरहदी बाड़मेर के चौहटन थानान्तर्गत एक युवक के साथ बर्बरतापूर्वक मारपीट कर बाल काटने व जबरन मूत्र पिलाने का वीडियो वायरल होने के बाद हरकत में आई पुलिस ने पड़ताल की तो पता लगा कि वीडियो तीन दिन पुराना है। एक युवक को अवैध संबंध के शक में लोगों ने बंधक बनाकर खेजड़ी के पेड़ से बांध दिया और उसके साथ मारपीट की गई। इसके बाद समाज की पंचायत में दोनों पक्षों में समझौता हो गया और मामला पुलिस तक नहीं पहुंचा। अब वीडियो वायरल होने पर पुलिस स्वयं आगे आई और आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। बाड़मेर पुलिस अधीक्षक आनंद शर्मा ने बताया कि चौहटन थानाधिकारी पेमाराम को 28 जुलाई को गश्त के दौरान सोशल मीडिया पर वीडियो देखा। कुछ लोग एक व्यक्ति को पेड़ से बांध कर बाल काट रहे हैं। वीडियो में मारपीट करते हुए भी दिखाई दे रहे हैं। पेड़ से बंधे युवक की पहचान मोगावां बाखासर निवासी भील जाति के युवक के रूप में की गई है। यह युवक रतनपुरा कोनरा गांव में एक घर में रात को रुका था। इस पर आसपास के लोगों ने उसे पकड़ लिया और पेड़ से बांध दिया। मौके पर भारी भीड़ जमा हो गई। इस पर उसके साथ बर्बरतापूर्वक मारपीट की गई। अमानवीय व्यवहार करते हुए उसे बोतल से पेशाब पिलाया गया। सोशल मीडिया पर वीडियो के वायरल होने के बाद पुलिस ने स्वयं आगे आकर मामला दर्ज किया है। उन्होंने बताया कि पुलिस द्वारा की गई जांच पड़ताल में बात सामने आई कि यह मामला पूरा अवैध संबंधों का था। युवक भूपत राम भील निवासी मोगावां पुलिस थाना भाखासर अपने गांव से रतनपुरा के एक घर में एक महिला के घर में घुसा था तथा रात में वहीं रूका था। इसकी जानकारी आसपास के ग्रामीणों को मिल गई थी जिस पर एक युवक को पेड़ से बांध कर मारपीट, पेशाब पिलाने और बाल काटने की बात सामने आई थी। पुलिस द्वारा जब पीड़ित पक्ष को मामला दर्ज कराने के संबंध में बात की गई तो उन्होंने बताया कि दोनो पक्षों में समझौता हो गया हैं और हम कोई मामला दर्ज कराना नहीं चाहते। इस पर पुलिस ने वायरल हुए वीडियो के आधार पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। जांच अधिकारी पुलिस उपअधीक्षक अजीत सिंह ने बताया कि दोनो पक्ष भील जाति के हैं तथा जो घटना घटित हुई थी उनमें दोनो पक्ष कोई मुकदमा दर्ज नहीं करवाना चाह रहे हैं। यह मामला तीन दिन पुराना हैं। दो दिन तक दोनो पक्षों के बीच में पंचायती चल रही थी उसके बाद दोनो ने आपस में कोई मुकदमा दर्ज न करवाने का निर्णय किया। पुलिस ने स्वयं मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की है।

खबरें और भी हैं...