पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • People Seen Walking Around In The Kovid Ward Of The District Hospital Handcuffed With The Infected, Relatives Give Food And Water To The Patients

घनघोर लापरवाही:जिला अस्पताल के कोविड वार्ड में बेरोकटोक घूमते दिखे लोग संक्रमितों के साथ हथाई, परिजन देते हैं मरीजों काे खाना-पानी

बाड़मेर2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बाड़मेर जिला अस्पताल में लापरवाह सिस्टम की लापरवाही संक्रमण को रोकने की बजाय बढ़ाने का काम कर रही है
  • कोविड केयर सेंटर में सुरक्षा गार्ड तक नहीं, संक्रमितों के साथ घूमते मिले लोग, सिस्टम लापरवाह, लोग भी बेपरवाह

प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मरीजों को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक दिन पूर्व ही नो मास्क नो एंट्री का सुझाव दिया है। संक्रमण को रोकने के लिए हर स्तर पर प्रयास रहे हैं, लेकिन बाड़मेर जिला अस्पताल में लापरवाह सिस्टम की लापरवाही संक्रमण को रोकने की बजाय बढ़ाने का काम कर रही है।

हाल ये है कि जिला अस्पताल की बिल्डिंग के काेविड केयर सेंटर की सुरक्षा भगवान भरोसे है। यहां आईसीयू वार्ड को छोड़ कहीं सुरक्षा गार्ड नहीं है। आईसीयू वार्ड में भी परिजन खुद मरीजों के पास दवा, खाना और अन्य सामग्री पहुंचा रहे हैं। वहीं दूसरे साधारण कोविड वार्ड के तो हालात देख हर कोई चौंक जाएगा। कोरोना पॉजिटिव के पास परिजनों सहित अन्य मिलने वाले लोग वार्ड में इधर-उधर घूमते नजर आ रहे हैं।

चाय, पानी, भोजन तक अपने घर से लेकर आ रहे हैं। कोरोना संक्रमण के बीच लापरवाह सिस्टम को लेकर कई सवाल उठ रहे हैं। जबकि कुछ दिन पूर्व ही जोधपुर संभागीय आयुक्त ने जिला अस्पताल में फैली अव्यवस्थाओं को लेकर नाराजगी जताई थी। इसके बावजूद लापरवाह सिस्टम सुधर नहीं रहा है। लोग भी लापरवाह होकर कोरोना के प्रति गंभीर नहीं है।

नाम का कोविड वार्ड: हाल साधारण वार्ड जैसे, बिना मास्क घूम रहे हैं लोग

जिला अस्पताल में बनाया गया कोविड वार्ड इन दिनों जिला अस्पताल की लापरवाही का शिकार है। इसमें सिस्टम और आम लोग दोनों भी जिम्मेदार है। जहां कोरोना पॉजिटिव मरीज भर्ती है, वहां लोगों का विचरण निषेध होना चाहिए, लेकिन यहां कोई रोक टोक नहीं है।

सामान्य वार्डों की तरह कोई भी इधर-उधर घूम कर आ सकता है। यहां तक की पॉजिटिव मरीज यहां से मर्जी चाहे तब बाहर भी जा सकता है। सुरक्षा के नाम पर एक गार्ड है, वो सिर्फ आईसीयू वार्ड की देखरेख कर रहा है। यहां पॉजिटिव मरीजों के पास लोग अपने बच्चों को लेकर भी आ रहे हैं।

चाय, पानी और अन्य सामग्री भी मरीजों तक परिजन पहुंचा रहे है। यहां तक कि दवाई भी परिजन ही लेकर आ रहे हैं। घंटों तक कोरोना संक्रमित मरीज के वार्ड में परिजन बैठे रहते हैं। इस दौरान इन लोगों को न कोई रोकने वाला दिखा न मरीजों के परिजन जागरूक दिखाई दिए।

कोरोना पॉजिटिव मरीजों के वार्ड में आ रहे हैं दूसरे लोग और उनके परिजन भी

बुधवार दोपहर 2 बजे जब भास्कर टीम जिला अस्पताल कोविड सेंटर पहुंची। संक्रमितों के वार्ड में अन्य सामान्य लोग बैठे और घूमते नजर आए। पॉजिटिव लोगों से मिलने आए कई परिजनों में तो महिलाएं और छोटे बच्चों तक को लेकर पहुंची थी। बिना मास्क वार्ड में बैठी रही। यहां तक की पॉजिटिव वार्ड की गैलेरी में कई अन्य लोग भी बैठे रहे। .

वार्ड में भी सामान्य लोग भी पॉजिटिव लोगों के पास बैठने के अलावा हथाई करते नजर आए। जब आईसीयू वार्ड की तरफ पहुंचे तो वहां भी हालात ऐसे ही थे, जब वहां खड़े गार्ड से पूछा तो बोले कि अकेला हूं, एक ही वार्ड संभाल सकता हूं।

कोविड वार्ड में दूसरी तरफ भी रास्ता खुला है, लोग आते-जाते रहते हैं, कैसे रोकूं। इसी दौरान आईसीयू वार्ड में एक युवक दवाई लेकर आया और सीधे वार्ड में संक्रमित के पास जाने लगा, लेकिन टीम की ओर से इशारा करने पर गार्ड ने उसे रोका, लेकिन उसने कहा कि अभी तो अंदर से ही गया हूं।

दोषी सिर्फ सिस्टम ही नहीं, हम भी है सतर्क रहिए क्योंकि संख्या बढ़ रही है

कोरोना वैश्विक महामारी का संकट पूरे विश्व में है। इसे रोकने के लिए देशव्यापी लॉकडाउन लागू किया। सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क और कोरोना को लेकर सचेत रहने की जिम्मेदारी हमारी भी है। एक बार पॉजिटिव आने से परिवार को कितनी परेशानी उठानी पड़ती है। जिला अस्पताल में दिखी लापरवाही में सिस्टम तो लापरवाह है, इसके साथ आमजन भी लापरवाह है कि वे कोरोना महामारी को हल्के में ले रहे हैं। पॉजिटिव के वार्ड में जा रहे, संक्रमितों से मिल रहे।

  • जिला अस्पताल का कोविड सेंटर बाड़मेर सीएमएचओ के अधीन आता है। अगर कोविड सेंटर में आम लोगों की आवक-जावक है तो गंभीर है। वहां गार्ड लगाए हुए है, अगर ऐसी लापरवाही है तो गंभीर है। मैं भी पता करवाता हूं। - डॉ. बीएल मंसुरिया, पीएमओ, जिला अस्पताल, बाड़मेर।

ये भी है दर्द

4 साल की मासूम व पिता भर्ती, मां के बिना खाना तक नहीं खा रही

भास्कर टीम जब बुधवार दोपहर करीब 3 बजे गडरारोड मार्ग स्थित कोविड सेंटर पहुंची तो यहां व्यवस्थाएं संतोषजनक मिली, हालांकि यहां भी सुरक्षा तो भगवान भरोसे थी , लेकिन शहर से बाहर होने के कारण कोविड सेंटर में जिला अस्पताल जैसी अव्यवस्थाएं नहीं थी। यहां धोरीमन्ना निवासी एक 4 साल की मासूम और उसका पिता कोरोना संक्रमित होने पर भर्ती थे। भास्कर टीम को देख खिड़की से ही बच्ची को लिए पिता ने आवाज लगाई।

पिता ने नम आंखों से कहा कि मेरी ये 4 साल की बेटी 9 दिन से इस कोविड सेंटर में भर्ती है, मां के बगैर रह नहीं सकती। यह बाहर का खाना भी नहीं खा रही है। बिस्किट्स लेकर आया था वो भी खत्म हो गए। मैं बाहर जा नहीं सकता। बच्ची दिन-रात रोती है, हर समय मां की जिद करती है। प्रशासन से धोरीमन्ना कोविड सेंटर या होम आइसोलेट करने की मांग की थी, लेकिन किसी ने नहीं सुनी।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज उन्नति से संबंधित शुभ समाचार की प्राप्ति होगी। धार्मिक और आध्यात्मिक कार्यों में भी कुछ समय व्यतीत होगा। किसी विशेष समाज सुधारक का सानिध्य आपके अंदर सकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न करेगा। बच्चे त...

और पढ़ें