पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

रेलवे का यूटर्न:गलत आदेश ने कराई व्यापारियों की भागदौड़, शिकायत करने पर किया गलती में सुधार

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पार्सल स्पेशल को उस स्टेशन से चलाने की प्लानिंग की, जहां पार्सल बुक ही नहीं होता

(शिवांग चतुर्वेदी)। उत्तर पश्चिम रेलवे के जयपुर मंडल ने एक पार्सल ट्रेन चलाने की योजना बनाई जो अपने आप में विवादित थी। रेलवे ने जयपुर के कनकपुरा रेलवे स्टेशन से चेन्नई के रोया पुरम स्टेशन के बीच एक पार्सल स्पेशल ट्रेन चलाने की योजना बनाई। इसकी रेलवे ने सभी जगह पब्लिसिटी भी की।

रेलवे की ट्रेन चलाने की प्लानिंग काफी विवादित साबित हुई। रेलवे ने पार्सल स्पेशल ट्रेन को उस स्टेशन से चलाने का निर्णय किया, जिस स्टेशन पर ना तो पार्सल ऑफिस है और ना ही पार्सल बुक करने की सुविधा। साथ ही रेलवे ने इस स्टेशन पर पार्सल बुक करने की कोई व्यवस्था भी नहीं की।

ऐसे में जब रेलवे के लीज होल्डर्स को ट्रेन में पार्सल बुक करने के लिए ऑर्डर मिले तो उन्होंने इस ओर रेलवे प्रशासन का ध्यान आकर्षित किया क्योंकि व्यापारियों को पार्सल बुक कराने के लिए तो जयपुर रेलवे स्टेशन जाना पड़ा रहा था वहीं पार्सल लोड कराने के लिए कनकपुरा रेलवे स्टेशन पर जाना पड़ रहा था। ऐसे में उन्होंने रेलवे के समक्ष विरोध किया। जब स्थानीय स्तर पर कोई समाधान होता नजर नहीं आया तो व्यापारियों ने रेलवे के ट्विटर अकाउंट पर शिकायत की।

शुक्रवार दोपहर ट्रेन जानी थी, गुरुवार देर शाम बदला आदेश
रेलवे ने कनकपुरा (जयपुर)-रोया पुरम (चेन्नई) के बीच चलने वाली वीकली पार्सल स्पेशल ट्रेन को गुरुवार देर शाम कनकपुरा के बजाय जयपुर से संचालित करने का आदेश जारी किया। यह ट्रेन प्रत्येक शुक्रवार को दोपहर 12:40 पर जयपुर स्टेशन से रवाना होकर अजमेर, रतलाम, सूरत इत्यादि स्टेशन होते हुए रविवार मध्य रात्रि 12:40 ( सोमवार) रोया पुरम चेन्नई पहुंचेगी। वापसी में यह ट्रेन प्रत्येक मंगलवार को अल सुबह 2:30 बजे रोया पुरम से रवाना होकर गुरुवार शाम 5:10 पर जयपुर स्टेशन पहुंचेगी। ट्रेन में 10 पार्सल कोच और दो एसएलआर सहित 12 डिब्बे होंगे।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय पूर्णतः आपके पक्ष में है। वर्तमान में की गई मेहनत का पूरा फल मिलेगा। साथ ही आप अपने अंदर अद्भुत आत्मविश्वास और आत्म बल महसूस करेंगे। शांति की चाह में किसी धार्मिक स्थल में भी समय व्यतीत ह...

और पढ़ें