राजे के हमले पर गहलोत का पलटवार:सीएम बोले- अगर बाहर निकला तो भीड़ जुटेगी, लोग कहेंगे प्रोटोकॉल तोड़ रहे हैं, मैं क्या करूं; वसुंधरा ने कहा था- बाढ़ के बावजूद चैन की नींद सो रही सरकार

जयपुर4 महीने पहले
राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे (बाएं) और मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (दाएं)।- फाइल फोटो।

कोटा संभाग के बाढ़ प्रभावित इलाकों में दौरा नहीं करने को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सोमवार को सफाई दी है। गहलोत ने कहा, ‘अगर मैं बाहर निकला तो लोगों की भीड़ जुटेगी और फिर लोग ही कहेंगे कि मुख्यमंत्री खुद कोरोना के प्रोटोकॉल तोड़ रहे हैं। मेरे लिए तो बड़ी समस्या बनी हुई है कि इसमें क्या करें?’ दो दिन पहले पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने गहलोत पर निशाना साधते हुए कहा था, ‘ बाढ़ की मार से परेशान हाड़ौती की जनता खून के आंसू रो रही है। राज्य सरकार जयपुर के सिविल लाइन्स में चैन की नींद सो रही है।’

आज राजस्थान हाउसिंग बोर्ड की आवासीय योजनाओं के शिलान्यास समारोह में गहलोत ने कहा कि देश से कोरोना अभी गया नहीं है। एक्सपर्ट अभी भी कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करने की बात कह रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘ इस कारण आज मैं खुद कहीं बाहर नहीं निकल पा रहा हूं। अगर मैं बाहर निकला तो लोगों की भीड़ जुटेगी और फिर लोग ही कहेंगे कि मुख्यमंत्री खुद कोरोना का प्रोटोकॉल तोड़ रहे हैं। मेरे लिए तो बड़ी समस्या बनी हुई है कि इसमें क्या करें?’

बाहर निकलकर जनता की सुध लें CM
दो दिन पहले पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने झालावाड़ क्षेत्र के बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई दौरा किया था। इसके बाद राजे ने एक बयान जारी कर कहा था, ‘ बाढ़ और अतिवृष्टि की मार से परेशान हाड़ौती की जनता खून के आंसू रो रही है। राज्य सरकार जयपुर के सिविल लाइन्स में चैन की नींद सो रही है। चक्रवात तूफान से हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पश्चिमी बंगाल, ओडिशा का दौरा किया था। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी बाढ़ग्रस्त इलाकों का दौरा कर लोगों को राहत पहुंचाई। राजस्थान के भी CM बाहर निकलें और जनता की सुध लें।’

इन प्रोजेक्ट्स का शिलान्यास
गहलोत ने जयपुर में बनने वाले विधायकों के मल्टी स्टोरी अपार्टमेंट का शिलान्यास किया। इस परियोजना में 6 ब्लॉक बनाए जाएंगे, जिसमें कुल 160 फ्लैट बनेंगे। इस परियोजना में हर फ्लैट 32,00 वर्गफीट में बनेगा, जिसमें 4 बैडरूम और एक सर्वेंट रूम होगा। इसके अलावा इस प्रोजेक्ट में क्लब हाउस, जिम, स्विमिंग पूल, हेल्थ सेंटर और एक बड़ा सेंट्रल हॉल के साथ तमाम सुविधाएं होगी। इसके अलावा IAS अधिकारियों की आवासीय योजना, मुख्यमंत्री जन आवास योजना और जयपुर के प्रताप नगर में स्टूडियो अपार्टमेंट की योजना का भी शिलान्यास किया।

कार्यक्रम में डोटासरा बोले- IAS की कौम सबसे ऊंची
बैठक में हाउसिंग बोर्ड के मकानों की क्वालिटी का जिक्र करते हुए गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि लोगों में धारणा थी कि हाउसिंग बोर्ड के मकान सबसे घटिया क्वालिटी के होते हैं। आज हाउसिंग बोर्ड के ही बनाए मकानों में IAS, विधायक और नेता रहने की तैयारी कर रहे हैं। IAS नेताओं से भी बड़ी ऊंची कौम होती है।

खबरें और भी हैं...