• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Rajasthan Cm Ashok Gehlot Said Lumpy Animal Disease Is A Big Challenge, Ministers Will Visit Districts, Union Minister Rupala Will Come On Saturday For Meeting

गहलोत बोले- लंपी 2-4 दिन में बहुत तेजी से फैली:कहा- रोका नहीं गया तो किस रफ्तार से बढ़ेगी, किसी को नहीं मालूम

जयपुर2 महीने पहले
गहलोत बोले-CM रिलीफ फंड में MLA देंगे 10 लाख - Dainik Bhaskar
गहलोत बोले-CM रिलीफ फंड में MLA देंगे 10 लाख

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा इंसानों में कोरोना की तरह अब पशुओं में लंपी स्किन डिजीज बहुत तेजी से फैल रही है। जिस तरह विधायकों के डवलपमेंट फंड में कोरोना के वक्त में छूट दी गई थी, उसका अच्छा असर पड़ा था। अभी कुछ विधायकों- मेवाराम जैन, हेमाराम चौधरी ने कोष से पैसा ऑफर किया है। ताकि पशुओं की जिन्दगी बचाई जा सके। मैं पशुपालन मंत्री लालचन्द कटारिया से कहूंगा कि 10 लाख रुपए CM रिलीफ फंड में विधायक दे सकते हैं। जिससे फंड में कमी नहीं आए। हमें गौवंश को बचाना है।

सरकार ने पहले गायों के लिए निदेशायलय बनाया, अब विभाग तक बन चुका है। बकायदा गोशालाओं को अनुदान देने का बड़ा फैसला लिया है। साल में 6 की बजाय 9 महीने का अनुदान देना प्रदेश सरकार का बड़ा फैसला है। लंपी बीमारी के टाइम हमारा कर्तव्य बढ़ जाता है।

CM गहलोत ने लंपी प्रभावित कैटल वाले जिलों में प्रभारी मंत्रियों को दौरा करने को कहा है।
CM गहलोत ने लंपी प्रभावित कैटल वाले जिलों में प्रभारी मंत्रियों को दौरा करने को कहा है।

जिन जिलों में लंपी फैली वहां प्रभारी मंत्री करेंगे दौरा

गहलोत ने कहा- लंपी स्किन डिजीज अचानक पिछले 2-4 दिन में बहुत तेजी से फैली है। इस बीमारी की रफ्तार तेज हुई है। अगर रोका नहीं गया तो यह किस रफ्तार से बढ़ेगी, किसी को नहीं मालूम। जो नुकसान होगा आप समझ सकते हो। राजस्थान सरकार की प्राथमिकता है लंपी स्किन डिजीज से निपटने में हम कामयाब होंगे। हमारे सामने बड़ी चुनौती है। हमें इसे चैलेंज के रूप में लेना चाहिए। कोरोना के वक्त सरकारी और गैर सरकारी जो व्यवस्था की गई थी, उसे लेकर पूरे देश में चर्चा हुई थी।

20 राज्यों में फैल चुकी लंपी, बचाव के लिए अवेयरनेस फैलाएं

लंपी स्किन डिजीज देश के 20 राज्यों में फैल चुकी है। राजस्थान के कुछ जिलों में यह फैली है। जिसमें प्रभारी मंत्री जाएंगे। पैसे की कमी कोरोना के वक्त भी नहीं आने दी, अब भी नहीं आने दी जाएगी। पशुधन बहुत बड़ा सहारा होता है। अकाल-सूखे में भी पशुधन बड़ा साधन होता है। सीएम ने कहा-मैं उम्मीद करता हूँ सभी बीमारी से बचाव के लिए अवेयरनेस फैलाएं। किसान, पशुपालक, दूध उत्पादक, धर्मगुरू, एक्टिविस्ट, समाजसेवियों को इनवॉल्व करें। चीफ सेक्रेट्री,पशुपालन मंत्री और विभाग के अधिकारियों ने मीटिंग करके राजस्थान भर में मोबलाइज कर लिया है।

पुरूषोत्तम रूपाला,केंद्रीय पशुपालन और डेयरी मंत्री।
पुरूषोत्तम रूपाला,केंद्रीय पशुपालन और डेयरी मंत्री।

केंद्रीय पशुपालन मंत्री पुरूषोत्तम रूपाला शनिवार को आएंगे जयपुर

गहलोत ने दिल्ली के बीकानेर हाउस से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए पशुपालन विभाग की रिव्यू बैठक ली। उन्होंने कहा-केंद्रीय पशुपालन और डेयरी मंत्री पुरूषोत्तम रूपाला शनिवार को जयपुर आ रहे हैं। प्रदेश के पशुपालन मंत्री लालचंद कटारिया और चीफ सेक्रेट्री उषा शर्मा उनके सम्पर्क में है।

केंद्र कैसे वैक्सीन और दवा मैनेजमेंट करेगा मीटिंग के बाद क्लीयर होगा

CM ने कहा-लंपी से निपटने के लिए देश में दवाईयां नहीं है, अभी बकरियों की दवाईयां काम में ली जा रही हैं। केंद्र सरकार किस तरह वैक्सीन और दवाईयों का मैनेजमेंट करेगी। ये तमाम बातें मीटिंग के बाद क्लीयर होंगी। लेकिन स्टेट गवर्नमेंट की ओर से जो प्रोग्राम चलना चाहिए, इसमें हर बात का ख्याल रखना होगा। चाहे कोरोना हो या लंपी- पंचायत राज के प्रतिनिधि प्रमुख, प्रधान, जिला परिषद, पंच, सरपंच सब प्रतिनिधि लोगों की सेवा में लग जाते हैं। शहरों में भी मेयर, विधायक सब लग जाते हैं। लोगों में लंपी को लेकर पेम्पलेट, पोस्टर के जरिए अवेयरनेस लाना जरूरी है। प्रचार-प्रसार का काम सूचना जनसम्पर्क विभाग के जरिए बड़े रूप में हो।