हॉर्स ट्रेडिंग केस-केंद्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह को नोटिस तामील:महेश जोशी बोले-​​​​​​​हमने कोई समय नहीं चुना, उन्हें तय करना है वॉइस सैम्पल देंगे या नहीं

5 महीने पहले
केंद्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह की बढ़ी मुश्किलें, नोटिस तामील

राजस्थान ACB ने दिल्ली में केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत को नोटिस तामील करा दिया है। साल 2020 में पूर्व डिप्टी CM सचिन पायलट खेमे की बगावत के दौरान कांग्रेसी विधायकों की कथित खरीद-फरोख्त संबंधी ऑडियो फोन टेप मामले में कोर्ट से जारी नोटिस तामील होने के बाद गजेन्द्र सिंह की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। विधानसभा में तत्कालीन सरकारी मुख्य सचेतक और मौजूदा कैबिनेट मंत्री महेश जोशी की शिकायत पर 17 जुलाई 2020 को मामले में FIR दर्ज हुई थी। नोटिस तामील होने के बाद राज्य के कैबिनेट मंत्री डॉ महेश जोशी ने कहा है कि कार्रवाई के लिए हमने कोई समय नहीं चुना है। जैसा कि बीजेपी हम पर आरोप लगा रही है। हॉर्स ट्रेडिंग हुई और ACB में FIR दर्ज कराना हमारा अधिकार था। अब केन्द्रीय मंत्री को तय करना है कि वो वॉइस सैम्पल देंगा या नहीं।

PHED मंत्री डॉ महेश जोशी ने कहा - FIR को 2 साल से ज्यादा हो चुके हैं। समय-समय पर यह बातें उठती भी रहीं हैं। ACB ने इच्छा भी जाहिर की, लेकिन किन्हीं कारणों से यह कार्यवाही टलती रही। मुझे खुद पता नहीं था कि कोर्ट ने कब और क्या आदेश दिया है। मुझे तो मीडिया से जानकारी लगी। हम कहते आए हैं कि हम कानून और पुलिस के मामले में दखल नहीं देते हैं। ACB में FIR दर्ज कराना हमारा अधिकार था। उस अधिकार का उपयोग हुआ। हमने रिपोर्ट दर्ज कराई और राजस्थान में उस वक्त सम्भावित हॉर्स ट्रेडिंग हुई, वो रुकी। अभी राज्यसभा के हालिया चुनाव में भी हमें अंदेशा था कि हॉर्स ट्रेडिंग का माहौल बनाया जाएगा। अब बीजेपी ने हमारे अंदेशे को महाराष्ट्र में सिद्ध कर दिया है।

उन्हें तय करना है वॉइस सैम्पल देंगे या नहीं,ACB-कोर्ट अपना काम करेंगी

जोशी ने कहा- कोर्ट का आदेश है। समन तामील हुए हैं। आगे की जो कार्यवाही है, वो केन्द्रीय मंत्री को करनी है। मैं उम्मीद करके चलता हूँ कि एक कानून पसंद व्यक्ति के रूप में वे आगे बढ़ेंगे। जैसा उन्होंने कई मौकों पर कहा उन्हें कोई गुरेज नहीं है। उनसे वॉइस सैम्पल मांगा ही नहीं जा रहा। अब उनको तय करना है, वो वॉइस सैम्पल देते हैं या नहीं देते हैं। ACB और अदालत अपना काम करेंगी। हम शिकायत कर्ता हैं। हम पीड़ित पार्टी हैं। मैं उम्मीद करके चलता हूं कि कानूनी तरीके से आगे की कार्यवाही चलेगी।

BJP ने हॉर्स ट्रेडिंग को परमानेंट राजनीतिक हथियार बनाया

जोशी ने कहा बीजेपी ने हॉर्स ट्रेडिंग को अपना परमानेंट राजनीतिक हथियार बना लिया है। जहां कर सकते हैं वहां हॉर्स ट्रेडिंग कर लो, जहां हॉर्स ट्रेडिंग सफल नहीं होती वहां अपने आप को पाक साफ साबित करने की कोशिश करते हैं। लेकिन देश की जनता देख रही है। जिस तरीके से महाराष्ट्र में, उससे पहले गुजरात में, राज्यसभा चुनाव में, कर्नाटक में, मध्यप्रदेश में हुआ। सारी बातें जनता के सामने हैं। जनता तय करेगी कि वह इस तरीके की हॉर्स ट्रेडिंग को बढ़ावा देती है या विरोध करती है। इस तरह की हॉर्स ट्रेडिंग का कांग्रेस विरोध करती रही है। भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ती रही है। अभी भी हम भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ रहे हैं। सच्चाई के लिए लड़ रहे हैं। चाहे वो राहुल गांधी की लड़ाई हो या और कोई हो। कितनी ही कीमत कांग्रेस को चुकानी पड़े लेकिन कांग्रेस सच के रास्ते से नहीं हटेगी।

हमने कोई समय नहीं चुना,ये बीजेपी का अपना अपराध बोध

डॉ महेश जोशी ने कहा बीजेपी इस बात को मानती है कि यह कार्रवाई करने में देरी हुई है। कार्रवाई पहले ही हो जानी चाहिए थी। वो आरोप लगा रहे हैं कि हमने ये समय चुना है। लेकिन हमने कोई समय नहीं चुना है। ये बीजेपी का अपना अपराध बोध है। बीजेपी ने सच कहा- ये कार्रवाई तो पहले ही हो जानी चाहिए थी। अगर हम बदले की भावना से कार्रवाई करते, तो राज्यसभा चुनाव के टाइम करते, जब तुरंत ही एफआईआर दर्ज करवाई थी, तब आनन फानन में पीछे पड़ते। यह कोई बदले की भावना की कार्रवाई नहीं है। कानून सम्मत कार्रवाई है। मैं उम्मीद करता हूँ बीजेपी और केन्द्रीय मंत्री इसका सम्मान करेंगे और कानूनी तरीके से अपने आप को जनता के सामने पेश करेंगे।