राजस्थान में सियासी उठापटक:गहलोत खेमे के 90 विधायक जयपुर से जैसलमेर शिफ्ट; गहलोत बोले- अमित जी को क्या हो गया? हर वक्त सरकार गिराने की सोचते हैं?

जयपुर2 वर्ष पहले
फोटो जयपुर एयरपोर्ट का है। गहलोत खेमे के विधायक जैसलमेर रवाना होते हुए। कहा जा रहा है कि हॉर्स ट्रेडिंग की आशंका को देखते हुए 18 दिन बाद विधायकों की लोकेशन बदली गई।
  • प्लेन में जगह नहीं होने के कारण 2 विधायक एयरपोर्ट से लौटे, वे कल जैसलमेर जाएंगे
  • मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आरोप- अब तो इस खेल में केंद्र सरकार भी लग गई है
  • गहलोत गुट के विधायक ईद-रक्षाबंधन बाड़ेबंदी में ही मनाएंगे, रिश्तेदारों-करीबियों से मिल सकेंगे

अनंत ऐरन/विष्णु शर्मा. राजस्थान के सियासी घमासान का शुक्रवार को 22वां दिन है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत खेमे के 90 विधायकों को 3 स्पेशल प्लेन से जयपुर से जैसलमेर शिफ्ट किया गया। उन्हें यहां फाइव स्टार होटल सूर्यगढ़ में ठहराया गया है। गहलोत भी जैसलमेर पहुंचे हैं। इससे पहले उन्होंने जयपुर एयरपोर्ट पर मीडिया से बात करते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर निशाना साधा। मुख्यमंत्री ने कहा- अमित शाह जी आपको यह क्या हो गया है? हर वक्त सोचते हैं कि सरकार कैसे गिराऊं?

गहलोत ने भाजपा पर 3 आरोप लगाए

  • पूरे देश को राजस्थान का घटनाक्रम पता है। भाजपा नेता कैसा खेल खेल रहे हैं। हमारे साथियों को साजिश करके मानेसर में रखा गया है। माहौल ऐसा बन गया कि राजस्थान में क्या हो रहा है।
  • मंत्री आते-जाते रहेंगे। हम सरकार में लगातार काम कर रहे हैं, लेकिन सरकार बचाना जरूरी है, क्योंकि केंद्र सरकार खुद लग गई है। इसके बावजूद हम सरकार चला रहे हैं।
  • अमित शाह का नाम इसलिए लेता हूं, क्योंकि फ्रंट पर वही आते हैं। चाहे गोवा हो या मणिपुर हो। इसलिए कहना पड़ता है अमित शाह जी आपको क्या हो गया है? आप रात-दिन जागते हुए हर वक्त सोचते हैं कि सरकार कैसे गिराऊं?

पहले सीएम गहलोत गुट के 95 विधायकों के पहुंचने की चर्चा थी

पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत समेत उनके गुट के 95 विधायकों के पहुंचने की चर्चा थी। लेकिन, रात को साफ हुआ कि सरकार के 7 मंत्री और 5 विधायक जैसलमेर नहीं पहुंचे हैं। सूत्रों का कहना है कि यह सभी शनिवार को आएंगे। जैसलमेर नहीं पहुंचने वाले मंत्रियों में प्रताप सिंह, रघु शर्मा, अशोक चांदना, लालचन्द कटारिया, सुभाष गर्ग, उदयलाल आंजना और भंवरलाल मेघवाल के नाम शामिल। वहीं, पांच विधायक जगदीश जांगिड़, अमित चाचाण, परसराम मोरदिया, बाबूलाल बैरवा, बलवान पूनिया भी नहीं पहुंचे हैं।

गहलोत ने कहा- विधायक एक ही जगह रहकर तंग आ गए थे
मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि विधायक एक ही जगह पर रहकर तनाव में आ गए थे, इसलिए उन्हें शिफ्ट करना पड़ा। इससे दबाव कम होगा। सभी विधायक पिछले 18 दिन यानी 13 जुलाई से जयपुर के फेयरमॉन्ट होटल में ठहरे थे।

जैसलमेर रवाना होने से पहले जयपुर एयरपोर्ट की लॉबी में बैठे गहलोत समर्थक विधायक।
जैसलमेर रवाना होने से पहले जयपुर एयरपोर्ट की लॉबी में बैठे गहलोत समर्थक विधायक।

2 विधायक कल जाएंगे जैसलमेर
बताया जा रहा है कि प्लेन में जगह नहीं होने के कारण 2 विधायक अमित चंदन और जगदीश चंद्र फेयरमॉन्ट होटल लौट आए। ये दोनों कल सुबह रवाना होंगे। गहलोत बाद में जयपुर लौट आएंगे। सरकारी कामकाज देखने के लिए उनके साथ 3-4 मंत्री जयपुर में ही रहेंगे। विधानसभा सत्र शुरू होने तक जैसलमेर भेजे गए विधायक वहीं रहेंगे। राज्यपाल कलराज मिश्र ने 14 अगस्त से सत्र की मंजूरी दी है।

विधायकों को जैसलमेर शिफ्ट किए जाने के दौरान जयपुर एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और मंत्री शांतिलाल धारीवाल विक्ट्री साइन दिखाते हुए।
विधायकों को जैसलमेर शिफ्ट किए जाने के दौरान जयपुर एयरपोर्ट पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और मंत्री शांतिलाल धारीवाल विक्ट्री साइन दिखाते हुए।

होटल सूर्यगढ़ की सुरक्षा बहुत सख्त

जैसलमेर में सम रोड पर स्थित होटल सूर्यगढ़ किसी प्राचीन किले जैसा दिखता है। इसमें एक ही मेन गेट है, इसलिए इसमें किसी बाहरी व्यक्ति को आसानी से प्रवेश नहीं मिल पाता। ऐसे में सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इस होटल को चुना गया। पीले पत्थरों पर शानदार कारीगरी के साथ बने इस होटल के मालिक मेघराज सिंह है। उनका प्रदेश के शराब कारोबार पर कभी एकछत्र राज था। बाद में वे रॉयल्टी ठेके लेने लगे। मेघराज का एक होटल बीकानेर में भी है। जैसलमेर का होटल मेघराज के बेटे मानवेन्द्र सिंह संभालते हैं।

जैसलमेर का होटल सूर्यगढ़। इस होटल में गहलोत समर्थक विधायकों की बाड़ेबंदी की गई है।
जैसलमेर का होटल सूर्यगढ़। इस होटल में गहलोत समर्थक विधायकों की बाड़ेबंदी की गई है।

बसपा विधायकों के मामले में गहलोत का भाजपा से सवाल

उधर, भाजपा ने सरकार पर हमला किया है। राजस्थान भाजपा के अध्यक्ष सतीश पूनिया ने ट्वीट कर कहा कि अगर कांग्रेस सरकार को कोई खतरा नहीं है तो विधायकों को कैद क्यों किया जा रहा है?

अपडेट्स...

  • चीफ व्हिप महेश जोशी ने हाईकोर्ट के 24 जुलाई के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अर्जी लगाई है। हाईकोर्ट ने कहा था कि पायलट गुट के विधायकों की अयोग्यता के मामले में कोई कार्यवाही नहीं की जाए। इस मामले में विधानसभा स्पीकर सीपी जोशी पहले ही सुप्रीम कोर्ट में पिटीशन लगा चुके हैं।
  • मंत्री हरीश चौधरी ने कहा कि राजस्थान हमारा घर है। हम कहीं भी आ-जा सकते हैं। वहीं, विधायकों ने कहा कि हम राजस्थान के लोग राजस्थान में ही जा रहे हैं। पाकिस्तान की बात कहां से आ गई। पाकिस्तान को बीच में घसीटना भाजपा के लोगों का काम है।
  • विधायक राकेश मीणा ने कहा कि राजस्थान सरकार को कोई खतरा नहीं है। अमित शाह कितना भी जोर लगा लें। किसी हालत में सरकार गिरने वाली नहीं है।

हॉर्स ट्रेडिंग के डर से विधायक शिफ्ट किए गए

  • सचिन पायलट समेत 19 विधायकों के बागी होने के बाद मुख्यमंत्री गहलोत ने अपने विधायकों को 13 जुलाई को जयपुर के फेयरमॉन्ट होटल में शिफ्ट कर दिया था। मुख्यमंत्री से लेकर मंत्री और सभी विधायक अपने काम होटल से ही कर रहे थे।
  • सूत्रों की मानें तो खरीद-फरोख्त से बचने के लिए विधायकों को जैसलमेर शिफ्ट किया गया है। जयपुर में विधायकों का अपने परिवार के सदस्यों से मिलना-जुलना जारी था। ऐसे में आशंका थी कि इन्हें हॉर्स ट्रेडिंग का जरिया बनाया जा सकता है।
  • उधर, होटल के मालिक भी लगातार ईडी के निशाने पर हैं। फेयरमॉन्ट होटल में ईडी ने तलाशी भी ली थी। विधायकों ने भी होटल बदलने की मांग उठाई थी।

गहलोत ने कहा- अब विधायकों की कीमत अनलिमिटेड हो गई
मुख्यमंत्री गहलोत ने बागियों पर हमला करते गुरुवार को कहा कि जो लोग गए हैं, पता नहीं उनमें से किस-किस ने पहली किश्त ले ली है? कइयों ने पहली किश्त नहीं ली है, उन्हें वापस आना चाहिए। जिस रात से विधानसभा सत्र की तारीख तय हुई, उसी रात से विधायकों के पास फोन आने लगे हैं, हॉर्स ट्रेडिंग के लिए विधायकों के रेट भी बढ़ गए हैं। पहले 10, 15, 25 करोड़ की कीमत थी, अब अनलिमिटेड है। अमित शाह को सरकार गिराने के इरादे छोड़ देने चाहिए।

राजस्थान की सियासी उठापटक से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ सकते हैं...

1. राज्यपाल ने 14 अगस्त से विधानसभा सत्र बुलाने की इजाजत दी, 3 प्रस्ताव खारिज करने के बाद चौथा मंजूर किया

2. सत्र को लेकर सरकार से खींचतान पर गवर्नर बोले- 1200 लोगों की सुरक्षा का सवाल था, इसलिए 3 पॉइंट पर जवाब मांगा

खबरें और भी हैं...