वसुंधरा की धार्मिक यात्रा में 'पूनिया भगाओ' का विज्ञापन:पूर्व CM बोलीं- ऐसा जिसने किया, उसके खिलाफ कार्रवाई हो

जयपुर8 महीने पहले
वसुंधरा राजे और सतीश पूनिया (फाइल फोटो)

पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की धार्मिक यात्रा के अजमेर पहुंचने पर दिए गए एक विज्ञापन से सियासत गरमा गई है। वसुंधरा राजे के समर्थन में दिए विज्ञापन में 'पूनिया भगाओ-भाजपा बचाओ' के साथ जय जय राजस्थान लिखा हुआ है। विज्ञापन में पीएम मोदी और अमित शाह से वसुंधरा राजे को राजस्थान भाजपा का सर्वेसर्वा नेता घोषित करने और उन्हें फ्री हैंड देने की मांग भी की गई है। अजमेर को-ऑपरेटिव बैंक के पूर्व अध्यक्ष गणेश चौधरी की ओर से विज्ञापन जारी किया गया है। वहीं, वसुंधरा राजे ने इस तरह के विज्ञापन की देने वाले के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की बात कही है।

भास्कर ने गणेश चौधरी से बात करने का प्रयास किया, लेकिन विज्ञापन छपने के बाद से ही उनका फोन बंद है। फिलहाल चौधरी के पास पार्टी में कोई पद नहीं है। अजमेर के एक अखबार में छपे आधे पेज के इस विज्ञापन ने बीजेपी की अंदरुनी गुटबाजी को उजागर कर दिया है। वसुंधरा राजे अपनी यात्रा को धार्मिक यात्रा बताते हुए इसमें किसी तरह की राजनीति करने से इनकार कर रही हैं। अजमेर सहित हर जगह उन्होंने इस तरह के बयान दिए हैं। इस विज्ञापन ने पार्टी में वसुंधरा राजे विरोधियों को एक मुद्दा दे दिया है। विज्ञापन का कंटेंट ऐसा है, जिसकी मांग वसुंधरा राजे के समर्थक पिछले दो साल से लगातार उठा रहे हैं।

वसुंधरा राजे बोलीं- ऐसा करने वाले के खिलाफ सख्त कार्रवाई हो

सतीश पूनिया के खिलाफ छपे विज्ञापन से वसुंधरा राजे कैंप ने किसी भी तरह का कोई संबंध होने से साफ इनकार किया है। पूर्व सीएम वसुंधरा राजे ने भास्कर से कहा- 'मेरी जानकारी में नहीं था, लेकिन ऐसा जिसने भी किया है। उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।'

अजमेर के एक अखबार में छपा पूनिया के खिलाफ विज्ञापन।
अजमेर के एक अखबार में छपा पूनिया के खिलाफ विज्ञापन।

विज्ञापन में बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया पर निशाना

विज्ञापन में सतीश पूनिया का पूरा नाम नहीं लिखा है, लेकिन पूनिया भगाओ का नारा देकर इशारों में सब कुछ कह दिया है। विज्ञापन के जरिए सतीश पूनिया को हटाने की मांग की गई है। इस विज्ञापन में पीएम मोदी,अमित शाह, दिवंगत बीजेपी नेता सांवरलाल जाट, विधायक रामस्वरूप लांबा और भंवरसिंह पलाड़ा के फोटो लगाए गए हैं।

पूनिया के खिलाफ विज्ञापन देने वाले के पास बीजेपी में कोई पद नहीं
सतीश पूनिया के खिलाफ विज्ञापन देने वाले गणेश चौधरी के पास फिलहाल पार्टी में कोई पद पद नहीं है। बीजेपी संगठन के सामने अब दुविधा यह है कि वह इस विज्ञापन देने वाले के खिलाफ संगठन स्तर पर कोई कार्रवाई भी नहीं कर सकता। गणेश चौधरी दिवंगत बीजेपी नेता सांवरलाल जाट के समर्थक रहे हैं। बीजपी राज में ही अजमेर कॉपरेटिव बैंक के अध्यक्ष रहे थे।

खबरें और भी हैं...