पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

ग्रेजुएशन के रिजल्ट से अटकी बीएड में एंट्री:राज्य में बीएड कॉलेज में प्रवेश का इंतजार कर रहे हैं ढाई लाख से ज्यादा अभ्यर्थी, ग्रेजुएशन फाइनल ईयर का परिणाम नहीं आने से अटकी एंट्री

बीकानेरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इस बार बीकानेर के डूंगर कॉलेज को पीटीईटी का जिम्मा दिया गया था।
  • प्रदेश के करीब 150 बीएड महाविद्यालयों की एक लाख सीट्स पर प्रवेश के लिए प्री टेस्ट पीटीईटी का परिणाम तो घोषित हो गया है

प्रदेश के करीब 150 बीएड महाविद्यालयों की एक लाख सीट्स पर प्रवेश के लिए प्री टेस्ट पीटीईटी का परिणाम तो घोषित हो गया। वहीं, परीक्षा संयोजक सफल विद्यार्थियों को कॉलेज आवंटित नहीं कर पा रहा है। दरअसल, राज्यभर के सभी विश्वविद्यालयों से स्नातक अंतिम वर्ष का परीक्षा परिणाम अभी घोषित नहीं हुआ है। वहीं, दो वर्ष के बीएड पाठ्यक्रम के लिए स्नातक होना जरूरी है।

इस बार बीकानेर के डूंगर कॉलेज को पीटीईटी का जिम्मा दिया गया था। इस परीक्षा का परिणाम पिछले दिनों घोषित हो गया लेकिन काउंसलिंग अभी नहीं हो रही। दरअसल, दो वर्ष के बीएड पाठ्यक्रम के लिए स्नातक होना जरूरी है। पीटीईटी परीक्षा में बैठने वाले अधिकांश अभ्यर्थी स्नातक तृतीय वर्ष के विद्यार्थी होते हैं। अब स्नातक के परिणाम घोषित कराने के लिए परीक्षा संयोजक सभी विश्वविद्यालयों को फोन कर रहे हैं ताकि जल्द से जल्द काउंसलिंग हो सके।

परिणाम घोषित क्यों नहीं?
कोविड 19 के कारण राज्य के सभी महाविद्यालय बंद थे और राज्य सरकार ने बिना परीक्षा सभी को उत्तीर्ण घोषित करने का निर्णय किया था, बाद में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने परीक्षा करवाने के निर्देश दिए। अब परीक्षा हो गई लेकिन परिणाम घोषित नहीं हुए।

एक महीने का वक्त संभव
पीटीईटी परीक्षा के सह संयोजक राकेश हर्ष ने बताया कि करीब एक माह में सभी विश्वविद्यालयों के परिणाम आने और काउंसलिंग शुरू होने की उम्मीद की जा सकती है। इस बारे में विश्वविद्यालयों से सम्पर्क भी किया जा रहा है ताकि सत्र अब शुरू हो सके।

तीन लाख अभ्यर्थी, एक लाख सीट
पीटीईटी के लिए करीब तीन लाख विद्यार्थियों ने आवेदन किया था, जिसमें 86 फीसदी ही परीक्षा में बैठे थे। आमतौर पर विद्यार्थी डीएलएड (प्रारम्भिक शिक्षा के लिए शिक्षक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम) भी साथ में देते हैं। उसमें चयन होने पर डीएलएड ही करते हैं। वहीं बड़ी संख्या में महिला अभ्यर्थी दूरस्थ जिलों में होने के कारण भी प्रवेश नहीं लेते। माना जा रहा है कि परीक्षा में सफल होने वाले सभी अभ्यर्थी कहीं न कहीं प्रवेश आमतौर पर पा लेते हैं। राज्य में चार वर्ष बीएड स्नातक पाठ्यक्रम चालू होने के कारण अब दो साल पाठ्यक्रम के प्रति रुचि कम होती है।

जमा कराने होंगे पांच हजार रुपए
पीटीईटी की काउंसलिंग तो बाद में होगी लेकिन परीक्षा में सफल अभ्यर्थियों से यह अभी पूछ लिया जायेगा कि वो कॉलेज में प्रवेश चाहते हैं अथवा नहीं। अगर अभ्यर्थी रुचि लेता है तो उसे पांच हजार रुपए जमा कराने होंगे। यह राशि उसकी मूल फीस से कम हो जायेगी। अगर प्रवेश नहीं मिलता है या नहीं लेता है तो दो सौ रुपए की कटौती करके शेष 4800 रुपए वापस कर दिये जाएंगे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- घर के बड़े बुजुर्गों की देखभाल व उनका मान-सम्मान करना, आपके भाग्य में वृद्धि करेगा। राजनीतिक संपर्क आपके लिए शुभ अवसर प्रदान करेंगे। आज का दिन विशेष तौर पर महिलाओं के लिए बहुत ही शुभ है। उनकी ...

और पढ़ें