• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Rajasthan's Animal Husbandry Minister Lalchand Kataria Said In The Assembly – The Government Has Started Preparations For Camel Farms

राजस्थान में गौशालाओं की तर्ज पर बनेगी ऊंट शालाएं:विधानसभा में पशुपालन मंत्री लालचंद कटारिया बोले- सरकार ने शुरू कर दी है तैयारी

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ऊंट शालाएं बनाने की तैयारी - Dainik Bhaskar
ऊंट शालाएं बनाने की तैयारी

राजस्थान में गौशालाओं की तर्ज पर ऊंट शालाएं बनेंगी। राज्य सरकार ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। प्रदेश के पशुपालन मंत्री लालचन्द कटारिया ने राजस्थान विधानसभा में शून्यकाल में उप नेता प्रतिपक्ष और बीजेपी विधायक राजेन्द्र राठौड़ के सवाल का जवाब देते हुए यह जानकारी दी। राजेन्द्र राठौड़ ने राज्य पशु ऊंट की संख्या में लगातार कमी होने के कारण ऊंटों के संरक्षण के लिए गौशाला की तर्ज पर ऊंट शाला खोलने के लिए ध्यान आकर्षण प्रस्ताव लगाया।

कृषि व पशुपालन मंत्री लालचन्द कटारिया
कृषि व पशुपालन मंत्री लालचन्द कटारिया

उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ के ध्यान आकर्षण प्रस्ताव पर दी जानकारी

सवाल का जवाब देते हुए पशुपालन मंत्री लालचन्द कटारिया ने कहा- यह सही है कि प्रदेश में ऊंट संरक्षण के लिए जब से कानून बना है, तब से प्रदेश में ऊंटों की संख्या घटी है। उन्होंने कहा मैं खुद भी एक किसान हूं और ऊंट पालने वालों की परेशानियों को अच्छी तरह समझ सकता हूं। इस परेशानी को लेकर कई विधायक और ऊंट पालने वाले मुझसे मिले हैं। उन्होंने बताया कि एक एनजीओ पिछले 30 सालों से ऊंट संरक्षण का काम कर रहा है। जिसमें हनुमान सिंह राठौड़ और एक जर्मन महिला भी जुड़ी हुई है। इस संस्था के लोगों ने जयपुर में अलग-अलग जगह ऊंट पालकों से मिलकर उनकी समस्याओं के बारे में जानकारी ली है।

विपक्ष के उपनेता राजेन्द्र राठौड़
विपक्ष के उपनेता राजेन्द्र राठौड़

हम भी चाहते हैं गौशाला की तरह ऊंट शाला बने

पशुपालन मंत्री ने राजेन्द्र राठौड़ समेत दूसरे विधायकों की ओर से गौशाला की तरह ऊंट शाला बनाने की मांग पर कहा कि आप सभी सदस्यों का यह सुझाव सही है और हम भी चाहते हैं कि गौशाला की तरह ऊंट शाला बनाने पर विचार किया जाए।

ऊंट तस्करी नहीं रोकी, तो ऊंट म्युज़ियम में देखने को मिलेगा

मंत्री लालचन्द कटारिया ने कहा कि प्रदेश में ऊंट, खेती के साथ-साथ कई क्षेत्रों में सवारी और पर्यटन के लिहाज से बहुत महत्वपूर्ण है। उन्होंने स्वीकार किया कि ऊंट तस्करी को रोकने और ऊंट संरक्षण की प्रभावी कोशिश नहीं की गई, तो यह सही है कि आने वाले समय में ऊंट हमें केवल म्युज़ियम में ही देखने को मिलेगा।

खबरें और भी हैं...