ग्राउंड रिपोर्टगैंगवार में मारे गए बेकसूर किसान की क्या गलती थी?:बेटी से मिलने कोचिंग गए, फोन कर रहे थे, तभी शूटर ने गोली मार दी, कार भी ले गए

जयपुर/सीकर2 महीने पहलेलेखक: मनीष व्यास

नागौर के जायल क्षेत्र के दोतीणा का रहने वाले ताराचंद कड़वासरा शनिवार को अपनी बेटी कोनिता से मिलने पहुंचे तो उन्हें अंदाजा भी नहीं था कि दो गैंग की दुश्मनी की कीमत उन्हें जान देकर चुकानी पड़ेगी।

ताराचंद अपने चाचा के बेटे भाई रामनिवास कड़वासरा के साथ ऑल्टो कार से सीकर आए थे। सुबह जैसे ही ताराचन्द व रामनिवास कोचिंग के बाहर गाड़ी से उतरे, राजू ठेहट का मर्डर कर भाग रहे शूटर ने उन पर भी फायर कर दिए। गोली लगने से ताराचंद की मौके पर ही मौत हाे गई। रामनिवास बाल-बाल बच गए। बदमाशों ने जाते-जाते उनकी कार भी छीन ली और उसे लेकर फरार हो गए।

फिलहाल ताराचंद का शव सीकर हॉस्पिटल की मॉर्च्युरी में है। सूचना मिलते ही गांव से परिजन भी सीकर पहुंच गए। सीकर में पढ़ रहे बेटे-बेटी को अभी तक पता नहीं है कि उनके पिता नहीं रहे। उन्हें हॉस्टल में ये कहकर दिलासा दिया जा रहा है कि उनके पिता घायल हैं और अस्पताल में भर्ती हैं।

LIC में मेड़ता सिटी में पोस्टेड फील्ड ऑफिसर बड़े भाई भंवरलाल ने बताया कि इनकी लड़ाई में हमारा क्या लेना-देना था? ताराचंद तो अपनी बेटी को फोन लगा रहा था और बदमाशों को कार ही चाहिए थी तो ले जाते पर गोली क्यों मारी ?

दैनिक भास्कर ने सीकर हॉस्पिटल में मॉर्च्युरी के बाहर बैठे मृतक ताराचंद के बड़े भाई भंवरलाल कड़वासरा से बात कर उनका दर्द जाना…

‘बेटी को फोन कर रहा था, तभी मार दी गोली’

‘ताराचंद के तीन बेटियां और एक बेटा है। वो खेतीबाड़ी का काम करता था। एक बेटी कोनिता सीकर में पढ़ती है। एक बेटी मोनिका सीपीएड कर चुकी है व एक बेटी बीना कोटा में इंजीनियरिंग कर रही है। बेटा नवीन कुचामन में पढ़ रहा है। शनिवार सुबह 7 बजे वो सीकर में पढ़ रही बेटी को सर्दी में खाने के लिए घर से बनाये कुछ फ़ूड आइटम्स देने निकला था।’

‘वो हमारे चचेरे भाई की ऑल्टो कार लेकर रामनिवास के साथ यहां कोचिंग संस्थान के बाहर पहुंचा ही था कि अचानक उन्हें सामने एक घर से ताबड़तोड़ फायरिंग की आवाजें सुनाई दी। इन सब पर ध्यान न देकर उसने कार से बाहर निकलकर अपनी बेटी को फोन लगाया ही था कि भागते हुए बदमाश उस पर चिल्लाए। वो बोले- कहां भाग रहा है और उसपर गोलियां चला दीं।’

‘बदमाशों ने रामनिवास पर भी हमला किया पर वो कार की दूसरी तरफ था, इसलिए बच गया। इसके बाद बदमाश उनकी ऑल्टो कार में बैठ गए और लेकर वहां से भाग गए।’

फायरिंग सुन बेटी भी पहुंच गई, उसे नहीं पता- पापा नहीं रहे

‘ताराचंद से फोन पर बात कर रही उसकी बेटी कोनिता भी वहां पहुंच गई। वो पिता को लहूलुहान देखकर बेसुध हो गई। कोचिंग प्रबंधन ने जैसे-तैसे उसे संभाला और हॉस्टल में ले गए।’

रामनिवास बोला- कोचिंग संस्थान के बाहर रुकते ही फायरिंग करते हुए मौत सामने आ गई
वहीं पूरी घटना के दौरान ताराचंद के साथ मौजूद उसके चचेरे भाई रामनिवास ने बताया कि कार ताराचंद ही चला रहे थे और मैं साइड में बैठा था। हम जैसे ही कोचिंग संस्थान के बाहर पहुंचे, ताराचंद ने बेटी कोनिता को फोन लगा दिया। वो बेटी से बात करते-करते कार से नीचे उतरे और मैं दूसरी साइड से उतरा। इतने में बदमाशों ने गोली मार दी।

बेटियों को पढ़ाने 27 बीघा जमीन बेटी, 6 लाख उधार लिए
ताराचंद के चचेरे भाई रामनिवास व भतीजे सुरेंद्र ने भास्कर को बताया- ताराचंद के 3 बेटियां, एक बेटा है। इनमें से कोनीता सीकर व बीना कोटा में नीट की और तीसरी बेटी मोनिका जयपुर में बीपीएड की तैयारी कर रही है। बेटा नवीन कुचामन में 11वीं में पढ़ रहा है। ताराचंद उसे डिफेंस की तैयारी कराना चाहते थे। खासकर बेटियों को पढ़ा-लिखाकर कामयाब बनाने का सपना था। इसके लिए अपनी साढ़े 27 बीघा जमीन बेच दी और 6 लाख का कर्ज सिर पर चढ़ गया था। इसके बावजूद सीकर में बेटी की फीस भरने के लिए 10 हजार रुपए एक साहूकार से ब्याज पर लाए थे।

दूसरों की जमीन पर खेती कर पाल रहे थे परिवार
बच्चों की पढ़ाई के लिए अपनी जमीन बेचने के बाद ताराचंद दूसरों का खेत हिस्से पर लेकर उस पर खेती कर परिवार पाल रहे थे। एक ही धुन थी कि बस बच्चे कामयाब हो जाएं। खासकर बेटियां। लेकिन ताराचंद का 6 लाख रुपए का कर्जा चुकाने की जिम्मेदारी अब उन्हीं बेटियों पर आ पड़ी है।

सीएलसी ने की फ्री कोचिंग की घोषणा
गैंगवार में मारे गए नागौर जिले के ताराचंद कड़वासरा की बेटी सीएलसी संस्थान में कोचिंग कर रही है। उसकी कोचिंग अब निशुल्क दी जाएगी। साथ ही संस्थान के डायरेक्टर श्रवण चौधरी ने घोषणा की है कि ताराचंद कड़वासरा के परिवार का कोई भी बच्चा सीएलसी में कोचिंग लेने आएगा तो उसे भी निशुल्क कोचिंग दी जाएगी।

सीएलसी ने सरकार से भी अपील की है कि परिवार के किसी एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए।
सीएलसी ने सरकार से भी अपील की है कि परिवार के किसी एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए।

ठेहट का ही था जूस सेंटर, यहीं डेढ़ महीने से रोज आ रहे थे शूटर्स
राजू ठेहट के घर के बाहर उसी की बिल्डिंग के कॉर्नर में एक जूस की स्टाॅल है। ये जूस स्टॉल राजू ठेहट ने ही लगवाई थी और एक लड़के को वहां बैठा रखा था। लड़के ने जान का डर बताते हुए ऑन कैमरा आने से मना कर दिया।ऑफ कैमरा बताया कि शूटर्स में से दो लड़के पिछले एक महीने से रोजाना उसके जूस स्टॉल पे आ रहे थे। वो जूस पीते और थोड़ा बैठते थे। कभी कोचिंग संस्थान की ड्रेस तो कभी नॉर्मल टीशर्ट में वो आ रहे थे। उन्होंने हर बार यहां कैश पेमेंट ही दिया। कभी भी फोन पे नहीं किया और अपने मोबाइल नंबर भी नहीं दिए। उन्होंने कभी भी राजू ठेहट के बारे में भी कोई बात नहीं पूछी थी।

रोहित गोदारा ने ताराचंद की हत्या के लिए माफी मांगी

ट्विटर और फेसबुक पर पोस्ट कर राजू ठेहट की हत्या की जिम्मेदारी लेने वाले बीकानेर के गैंगस्टर रोहित गोदारा के नाम वाले फेसबुक अकाउंट से एक और पोस्ट की गई। पोस्ट में लिखा था- राजू ठेहट की हत्या का कोई खेद नहीं है, लेकिन इसके साथ ताराचंदजी का निधन हुआ, उसके लिए उनके पूरे परिवार और समाज से माफी मांगता हूं। मैं इस परिवार का हर तरह से सहयोग करने की कोशिश करूंगा। इनके निधन का हमें खेद है। इस नुकसान की भरपाई तो हम नहीं कर सकते।

रोहित गोदारा नाम के फेसबुक अकाउंट से ये मैसेज पोस्ट किया गया है।
रोहित गोदारा नाम के फेसबुक अकाउंट से ये मैसेज पोस्ट किया गया है।

ये भी पढ़ें

राजस्थान में गैंगस्टर राजू ठेहट का दिन-दहाड़े मर्डर:सीकर में गोलियों से भूना; कोचिंग पढ़ रही बेटी से मिलने आए व्यक्ति को भी मारा

राजस्थान के कुख्यात गैंगस्टर राजू ठेहट का सीकर में आज सुबह गैंगवार में मर्डर हो गया। कोचिंग की ड्रेस में पहुंचे बदमाशों ने घर के बाहर खड़े ठेहट पर फायरिंग कर दी। ठेहट को 3 से ज्यादा गोली लगी थी।

राजस्थान के पुलिस महानिदेशक (DGP) उमेश मिश्रा ने बताया कि इस फायरिंग का एक बदमाश ने वीडियो भी बनाया। इधर, लॉरेंस विश्नोई गैंग के गैंगस्टर रोहित गोदारा ने इसकी जिम्मेदारी ली है। हत्याकांड में 5 शार्प शूटर शामिल थे। चार की पहचान कर ली गई है। (यहां पढ़ें पूरी खबर)

गैंगस्टर राजू ठेहट मर्डर के बाद बदमाशों का लाइव VIDEO:सड़क से लोगों को हटाने के लिए की फायरिंग, नदी में छिपे हत्यारे

राजस्थान के कुख्यात गैंगस्टर राजू ठेहट का सीकर में शनिवार सुबह गैंगवार में मर्डर हो गया। कोचिंग की ड्रेस में पहुंचे बदमाशों ने घर के बाहर खड़े ठेहट पर फायरिंग कर दी। ठेहट को 3 से ज्यादा गोली लगी थी। मर्डर के बाद राजस्थान के पुलिस महानिदेशक (DGP) उमेश मिश्रा ने बताया था कि बदमाश पंजाब और हरियाणा बॉर्डर की तरफ जाएंगे। (पूरी खबर पढ़ें)