पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Roads Of Gehlot And Dhariwal's Home District Will Be Better Than The Capital, 75.59 Percent More Budget Allocated To Municipal Corporation Jodhpur And 61.48 Percent More Budget To Kota

जोधपुर-कोटा में जयपुर से ज्यादा होगा खर्च:सीएम और उनके मंत्री के गृह जिलों में सड़क सुधारने के लिए राजधानी से 76-61 फीसदी ज्यादा बजट

जयपुर8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

मानसून में जर्जर हो चुकी शहरी सड़कों की मरम्मत के लिए राज्य सरकार ने 1 हजार करोड़ रुपए का बजट आवंटित किया है। बजट के अलॉटमेंट को देखकर लग रहा है कि राजधानी जयपुर से ज्यादा सड़कों की रिपेयरिंग मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल के गृह जिलों जोधपुर और कोटा की होंगी। इस बजट में जयपुर से 75.59 फीसदी अधिक जोधपुर को, जबकि कोटा को 61.45 फीसदी ज्यादा राशि अलॉट की है।

भाजपा ने बजट के अलॉटमेंट को लेकर पक्षपात करने का आरोप लगाया है। जयपुर नगर निगम ग्रेटर के उपमहापौर पुनीत कर्नावट ने कहा कि जोधपुर और कोटा शहरों का क्षेत्रफल जयपुर से बहुत कम है। फिर भी इन दोनों शहरों को इतना बजट देकर कांग्रेस की सरकार जयपुर शहर की जनता के साथ धोखा कर रही है। उन्होंने कहा कि खासकर नगर निगम ग्रेटर की जनता के साथ सरकार नगर निगम चुनावों की हार का बदला लेने के उदेश्य से ऐसा कर रही है।

स्वायत्त शासन निदेशालय की ओर से जो प्रदेश की नगरीय निकायों को सड़कों की रिपेयरिंग के लिए बजट आवंटित हुआ है, उसमें कोटा नगर निगम उत्तर को 18.80 करोड़ और नगर निगम दक्षिण को 26.98 करोड़ रुपए मिले हैं। इसी तरह जोधपुर नगर निगम उत्तर को 27.40 करोड़ और नगर निगम दक्षिण को 22.05 करोड़ रुपए दिए गए हैं। वहीं जयपुर नगर निगम हैरिटेज को 15.93 करोड़ और नगर निगम ग्रेटर को महज 12.42 करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए हैं। इस तरह जयपुर की दोनों नगर निगमों को कुल मिलाकर 28.35 करोड़ रुपए, कोटा की निगमों को 45.78 और जोधपुर को 49.78 करोड़ रुपए का बजट मिला है।

213 निकायों को दिए कुल एक हजार करोड़
राज्य सरकार ने जयपुर, जोधपुर और कोटा समेत प्रदेश की सभी नगर निगमों, नगर परिषदों और नगर पालिकाओं को सड़क रिपेयरिंग के लिए राशि स्वीकृत की है। यह राशि इन सभी 213 नगरीय निकायों में कुल 1 हजार करोड़ रुपए की है। इसमें नगर निगम क्षेत्र में 30 किलोमीटर, नगर परिषद क्षेत्र में 20 और नगरपालिका क्षेत्र में 10 किलोमीटर की मुख्य सड़कों के पेच रिपेयर किए जाएंगे। प्रदेश में मौजूद 10 नगर निगमों को कुल 194.43 करोड़ रुपए, 34 नगर परिषदों के लिए 192.94 करोड़ और 169 छोटी नगर पालिकाओं को 610.48 करोड़ रुपए आवंटित किए हैं। इन सभी जगहों पर सड़क रिपेयरिंग का काम नगर पालिकाओं से न करवाकर सार्वजनिक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) के जरिए करवाया जाएगा।

एरिया भी आधा और जनसंख्या भी कम, फिर भी बजट ज्यादा
जयपुर की दोनों नगर निगमों की जनसंख्या जोधपुर और कोटा की दोनों नगर निगमों में आने वाली जनसंख्या बहुत ज्यादा है। कोटा और जोधपुर नगर निगम के क्षेत्रों में कुल मिलाकर करीब 15 लाख मतदाता है। वहीं जयपुर ग्रेटर में अकेले करीब 12.50 लाख वोटर है। इसके अलावा हैरिटेज क्षेत्र में भी 9.50 लाख के करीब मतदाता है। कोटा नगर निगमों में 150 और जोधपुर की दोनों निगमों में कुल 160 वार्ड है, जबकि जयपुर की निगमों में कुल मिलाकर 250 वार्ड बने हैं।

खबरें और भी हैं...