सोनिया से मिलकर पायलट के बड़े संकेत:सचिन बोले- सरकार में खाली पदों को भरकर बैलेंस सेट करना है, यह तेरा मेरा करने का समय नहीं

जयपुर9 महीने पहले

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद सचिन पायलट ने एकजुटता से 2023 का चुनाव जीतने की बात कहकर आने वाले समय में संगठन में बड़ी भूमिका मिलने के संकेत दिए हैं। सोनिया गांधी से लंबी मुलाकात के बाद पायलट ने मीडिया से बातचीत में तेरा-मेरा भूलकर सरकार रिपीट करने की बात कही है।

पायलट ने कहा कि राजस्थान में कांग्रेस में कोई ग्रुप वाली बात नहीं है। हम सब लोग एक ही पार्टी के हैं और कांग्रेस पार्टी के सिंबल पर ही जीत कर आए हैं। यह तेरा मेरा का समय नहीं है। हम सब मिलकर चल रहे हैं। सरकार में कुछ पद खाली हैं, उनको भरना है और सरकार में बैलेंस को सेट करना है। इसमें कोई तेरे मेरे की बात नहीं है। अनुभव, परफॉर्मेंस, रीजनल बैलेंस इन सब को संदर्भ में रखकर पार्टी अपना निर्णय लेगी। सोनिया गांधी जी से आज लंबी मुलाकात हुई है। सोनिया गांधी जी सारे मुद्दों को समझ रही हैं। पूरा फीडबैक उनके पास जा रहा है और उचित समय पर सही निर्णय लिया जाएगा।

पायलट ने कहा कि राजस्थान में यदि सरकार और संगठन में बदलाव करने की जरूरत है तो बदलाव होने चाहिए। मुझे उम्मीद है कि AICC और राजस्थान सरकार बातचीत करके जल्द उचित निर्णय लेगी, लेकिन मैं ऐसा मानता हूं कि अब दो साल से कम का समय रहा है। अगले चुनाव में और हम लोग चाहते हैं कि अगला चुनाव हम लोग पूरी मुस्तैदी, पूरी ताकत से लड़ें। राजस्थान में पांच साल कांग्रेस की सरकार और पांच साल भाजपा की सरकार रहने की एक परिपाटी बन गई है, इस परिपाटी को तोड़ना है।

पायलट ने कहा कि इस बार हम चाहते हैं कि बहुत मजबूती से संगठन को तैयार करें, कार्यकर्ताओं को मान सम्मान मिले। सबकी भागीदारी हो, सत्ता में संतुलन हो। बदलाव की परिपाटी तोड़ने का काम हम लोग करेंगे। 2023 के चुनाव के लिए अभी से काम करना पड़ेगा क्योंकि लोकसभा चुनाव भी 2024 में होंगे। राजस्थान में सरकार रिपीट करना जरूरी है। मुझे लगता है कि सरकार और संगठन मजबूती से काम करेंगे तो अवश्य हम कर पाएंगे।

पायलट के बयान के मायने
सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद पायलट के बयान से यह साफ हो गया कि उनकी मांगें मान ली गई हैं। पायलट ने 2023 में सरकार रिपीट करने पर जोर देने और सरकार संगठन के मिलकर चलने की बात कहने से यह माना जा रहा है कि उनकी भूमिका पर भी फैसला हो चुका है।

सोनिया गांधी से मिले सचिन पायलट:संगठन में पद मिलने की संभावना; जल्द मंत्रिमंडल विस्तार, राजनीतिक नियुक्तियों का रास्ता साफ