दोबारा अध्यक्ष बन सकते हैं राहुल, देशभर में करेंगे यात्रा:सोनिया ने बुलाई बैठक, नेता बोले- यात्रा से बनेगा 2024 के लिए माहौल

जयपुर11 दिन पहलेलेखक: समीर शर्मा

उदयपुर में चल रहे कांग्रेस के चिंतन शिविर (नव संकल्प शिविर ) में बुलाई गई एक बैठक में सभी नेताओं ने राहुल गांधी को फिर राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने को लेकर मांग उठाई। सूत्रों के अनुसार- नेताओं की मांग के बाद सोनिया गांधी ने सभी राज्यों के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्षों, प्रभारियों, प्रतिपक्ष के नेताओं की शनिवार को बैठक बुलाई। कल CWC की बैठक में भी राहुल को कमान सौंपने का मुद्दा उठ सकता है।

बैठक में सभी नेताओं ने आवाज उठाई कि राहुल को अध्यक्ष बनने के बाद देश भर की यात्रा पर निकलना चाहिए। ये जन जागरण यात्रा सभी राज्यों में निकाली जाए। राहुल गांधी इस यात्रा के जरिए 2024 के लोकसभा चुनाव को लेकर सभी राज्यों में कांग्रेस के लिए माहौल बनाएं।

ये फोटो कांग्रेस के चिंतन शिविर के पहले दिन शुक्रवार की है। सोनिया गांधी ने अपने भाषण में नेताओं से पार्टी का कर्ज उतारने का आह्वान किया था।
ये फोटो कांग्रेस के चिंतन शिविर के पहले दिन शुक्रवार की है। सोनिया गांधी ने अपने भाषण में नेताओं से पार्टी का कर्ज उतारने का आह्वान किया था।

यात्रा को व्यवस्थित और असरदार बनाने के लिए एक रोडमैप तैयार करने की भी बात कही गई। गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष पद के लिए अगस्त में चुनाव होने हैं। तय माना जा रहा है कि राहुल गांधी ही राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष होंगे। इसके बाद अक्टूबर से वे जन जागरण यात्रा शुरू कर सकते हैं।

उत्तर भारत सहित अन्य क्षेत्रों में नुकसान की भरपाई करने का प्रयास
नव संकल्प शिविर शुरू होने से पहले अटकलें लगाई जा रही थी कि शिविर में राहुल गांधी को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए जाने पर चर्चा जरूर होगी। कांग्रेस आलाकमान इन अटकलों को खारिज कर रहा था, लेकिन अब शिविर के दूसरे ही दिन तय हो गया है कि राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर पार्टी राहुल गांधी को ही देख रही है।

इतना ही नहीं उनकी देशयात्रा को लेकर भी मांग उठाई जा रही है। सूत्रों का कहना है कि बैठक में यह बात इसलिए उठाई गई, क्योंकि उत्तर भारत में कांग्रेस का प्रभाव पिछले कई चुनावों से कम होता जा रहा है। पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं में वापस ऊर्जा भरने के लिए राहुल गांधी की यात्रा जरूरी है। पिछले चुनावों में कांग्रेस को उत्तर प्रदेश, पंजाब, दिल्ली ही नहीं पश्चिम बंगाल, गोवा सहित उत्तर भारत और अन्य क्षेत्रों में भी काफी नुकसान हुआ है।

सोनिया गांधी ने सबकी सुनी, अभी तक अपनी नहीं कही
सभी नेताओं ने यात्रा को लेकर अपनी-अपनी बात कही। सोनिया गांधी ने इस संबंध में फिलहाल अपनी राय नहीं रखी है। कांग्रेस नेताओं का कहना था कि एक ऐसी यात्रा प्लान की जाए, जिसमें राज्यों के साथ अधिकतर प्रमुख जिलों को भी छुआ जा सके।

राहुल गांधी को राज्य के नेताओं से ही नहीं जिले के नेताओं से भी चर्चा करने और माहौल समझने व समझाने का मौका मिले। पार्टी नेताओं ने अनौपचारिक बातचीत में माना कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा भी देशभर में लगातार दौरे कर रहे हैं और वर्ष 2024 के लोकसभा चुनाव के लिए अभी से ही माहौल बनाने में जुटे हुए हैं। ऐसा कांग्रेस आलाकमान को भी करना चाहिए।

पीके के प्रेजेंटेशन में जरूरी बताया था राहुल की यात्रा को
कांग्रेस सूत्रों के अनुसार पिछले दिनों सोनिया-राहुल गांधी को चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर (PK) की ओर से दिए गए प्रेजेंटेशन में भी राहुल गांधी की जन जागरण यात्रा का जिक्र प्रमुखता से किया गया था। इस कारण कांग्रेस इस यात्रा को लेकर गंभीरता बरत सकती है। नेता कह रहे हैं कि शिविर के बाद कांग्रेस में परिवर्तन देखने को मिलेगा।

ये भी पढ़ें-

कांग्रेस चिंतन शिविर LIVE:हुड्डा बोले- BJP राज में किसानों की आमदनी दोगुनी नहीं हुई, कर्ज दोगुना हो गया

कांग्रेस के चिंतन शिविर में 8 चौंकाने वाले पोस्टर:गांधी परिवार से ज्यादा अहमियत सुभाषचंद्र बोस, भगत सिंह और सरदार पटेल को

प्रमोद कृष्णम बोले-पायलट के साथ नाइंसाफी हुई है:एमपी-छत्तीसगढ़-पंजाब में प्रदेशाध्यक्षों को सीएम बनाया, पायलट को नहीं