• Hindi News
  • National
  • Special Strategy Is Needed To Prepare English Language, What To Keep In Mind In Language 1 And Language 2, Experienced Teacher Chetan Singh Is Giving Special Tips

REET में इंग्लिश लैंग्वेज-1 और लैंग्वेज-2 की तैयारी:केवल ग्रामर पर ही नहीं कॉम्प्रिहेंशन और टीचिंग मेथड पर भी करें फोकस, 150 में से 30 नंबर होंगे पक्के, एक्सपर्ट बता रहे ये 11 टिप्स

जयपुर3 महीने पहलेलेखक: नीरज शर्मा

REET 2021 में लेवल-। और लेवल-।।, दोनों में ही इंग्लिश लैंग्वेज के 30-30 प्रश्न पूछे जाते हैं। इनमें से 10 प्रश्न टीचिंग मेथड के होते हैं। कुछ स्टूडेंट्स इंग्लिश को लैंग्वेज फर्स्ट रखते हैं तो कुछ लैंग्वेज सेकंड। ज्यादातर अभ्यर्थी केवल ग्रामर पर फोकस करते हैं, लेकिन कई ऐसे टॉपिक होते हैं जिन्हें एक बार पढ़ने के बाद एग्जाम में अच्छा स्कोर बनाया जा सकता है। लैंग्वेज-1 और लैंग्वेज-2 में इंग्लिश रखने वाले विद्यार्थियों के लिए क्या-क्या टिप्स हैं।

दैनिक भास्कर ऐप के माध्यम से रीट से जुड़े अभ्यर्थियों ने हमें अपने सवाल भेजे हैं। चार दिन में 4860 में 258 लोगों ने इंग्लिश लैंग्वेज की तैयारी से जुड़े सवाल पूछे हैं। आपके कॉमन सवालों का जवाब दे रहे हैं अंग्रेजी लैंग्वेज के एक्सपर्ट चेतन सिंह राजपुरोहित।

फॉलो करें ये 11 टिप्स

  1. सबसे पहले अब उन चीजों को अपने से दूर रखें जो आपको डिस्ट्रैक्ट करती हैं।
  2. सिलेबस को 5 भागों में बांटकर तैयारी करें। सिलेबस के 5 भाग निम्न हैं- ग्रामर, लिटरेचर, फोनेटिक्स, कॉम्प्रिहेंशन और टीचिंग मेथड। ध्यान रहे लिटरेचर सिर्फ लैंग्वेज-2 में ही पूछा जाता है।
  3. परीक्षा में टीचिंग मेथड से सम्बंधित लगभग 10 से 12 सवाल पूछे जाते हैं। इसलिए टीचिंग मेथड के टॉपिक्स एक-एक कर रोजाना पढ़ें। अधिकतम प्रश्नों को सॉल्व करें। जिससे मेथड्स को और ज्यादा आसानी से समझा जा सकता है।
  4. ग्रामर के टॉपिक्स को अब डिटेल में पढ़ने की बजाय उस चैप्टर की थ्योरी को फटाफट पढ़कर उसके मल्टीपल चॉइस के प्रश्न हल करें। हर एक टॉपिक के प्रश्न कम से कम 2 बुक से सॉल्व करें। जिन प्रश्न में समस्या हो उनके बारे में सब्जेक्ट एक्सपर्ट या अपने किसी साथी से पूछ सकते हैं।
  5. बचे हुए दिनों में कम से कम 15 पैसेज सॉल्व कर उनकी प्रैक्टिस कर लें।
  6. नए नोट्स बनाने से बचें। पहले बनाए हुए नोट्स का ही अध्ययन करें। ऑनलाइन क्लासेज से भी पढ़ सकते हैं, लेकिन लाइव क्लासेज की बजाय रिकॉर्डेड क्लास की स्पीड बढ़ा कर उसे देख सकते हैं।
  7. कोई ऑनलाइन टेस्ट सीरीज जरूर जॉइन कर लें। जो प्रश्न गलत हुए हैं, उनके सही उत्तर जानकर उन प्रश्नों से संबंधित और पूछे जा सकने वाले नए प्रश्न पढ़ लें।
  8. पुराने पेपर में पूछे गए प्रश्नों को ही आधार मान कर नए प्रश्नों की प्रैक्टिस करें, क्योंकि सिलेबस में कोई विशेष बदलाव नहीं है।
  9. आपके सिलेबस में वॉकेबलरी के कुछ प्रश्न पूछे जाते हैं। जैसे लैंग्वेज-1 में सिनोनिम्स, एंटोनिम्स और वन वर्ड सबस्टिट्यूशंस और लैंग्वेज-2 में Idioms and Phrases, Phrasal Verbs के। इन वॉकेबलरी की एक लिस्ट तैयार कर लें और जब भी समय मिले कुछ न कुछ रिवाइज करते रहें। वॉकेबलरी अच्छी होगी तो पेपर में अच्छा स्कोर कर सकते हैं, इसलिए इनको बिलकुल भी इग्नोर न करें।
  10. लैंग्वेज-2 के विद्यार्थी इंफरेंस (Inference) वाले टॉपिक को लेकर कंफ्यूज्ड रहते हैं। इससे सम्बंधित एक ही प्रश्न पूछा जाता है। इसलिए हो सकते तो पहले सिलेबस से जुड़े दूसरे टॉपिक को तैयार कर लें।
  11. अब समय है आत्मविश्वास के साथ हर एक मिनट को सही तरीके से इन्वेस्ट करने का। अपने स्वास्थ्य का और खाने पीने का विशेष ध्यान रखें ।

इस लिंक पर क्लिक कर हमें भेजें आपके सवाल

ये भी पढ़ें...

REET 2021 में SST-इतिहास की तैयारी:रटने की बजाय उपन्यास की तरह दिमाग में उतारें हिस्ट्री, क्रोनोलॉजिकल ऑर्डर में करें तैयारी, एक्सपर्ट बनने की जगह सिलेबस के टॉपिक पर करें फोकस

REET क्लियर करने का सबसे महत्वपूर्ण टिप्स:आज टीचिंग मेथड से जुड़े सवालों के जवाब पढ़िए, इनको समझ लिया तो 33 हजार शिक्षकों की लिस्ट में हो सकता है आपका नाम

एक्सपर्ट डॉ. राघव प्रकाश से जानें REET के टिप्स:आखिरी समय में तैयारी का मूल मंत्र, नया पढ़ने की बजाय पुराने का रिवीजन करें, विश्वसनीय टेस्ट सीरीज से करें प्रेक्टिस

खबरें और भी हैं...