• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Spot Billing System Will Be Implemented Across The State Like Jaipur, Dues Will Be Recovered By Running The Campaign

बिजली निगमों में 1512 टेक्नीकल असिस्टेंट की जल्द होगी भर्ती:जयपुर की तरह प्रदेशभर में लागू होगा स्पॉट बिलिंग सिस्टम,कैम्पेन चलाकर होगी बकाया वसूली

जयपुर6 महीने पहले
बिजली निगमों में 1512 टेक्नीकल असिस्टेंट की जल्द होगी भर्ती

राजस्थान सरकार बिजली निगमों में टेक्नीकल असिस्टेंट की 1512 खाली पोस्ट पर जल्द ही भर्ती प्रोसेस शुरू करेगी। बिजली मंत्री भंवर सिंह भाटी ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत वैकेंट पोस्ट्स पर जल्द रिक्रूटमेंट करने के निर्देश दिए हैं। जिसके बाद विभाग ने भर्तियों की तैयारियां शुरू कर दी हैं। इससे प्रदेश के बेरोजगार युवाओं को नौकरियां मिलेंगी। इसके साथ ही पूरे राजस्थान में जयपुर की तर्ज पर स्पॉट बिलिंग सिस्टम लागू किया जाएगा। कैम्पेन चलाकर बकाया वसूली भी की जाएगी।

प्रदेशभर में मौके पर जाकर मीटर से की जाएगी बिलिंग
प्रदेशभर में मौके पर जाकर मीटर से की जाएगी बिलिंग

स्पॉट बिलिंग सिस्टम पूरे राजस्थान में होगा लागू

मंत्री भाटी ने जयपुर डिस्कॉम की तरह जोधपुर और अजमेर डिस्काम में भी स्पॉट बिलिंग सिस्टम लागू करने के निर्देश दिए। मौके पर ही मीटर रीडिंग लेकर बिल जारी किया जाएगा और कन्ज्यूमर या उसके परिवार को बिल सम्भलाया जाएगा। ताकि समय पर पूरा बिल जमा हो सके। पेंडेंसी नहीं रहे। बिल खोने या गुम होने जैसी समस्याओं के कारण लेट फीस नहीं लगे। उन्होंने विद्युत भवन में जयपुर,जोधपुर और अजमेर डिस्कॉम्स की रिव्यू बैठक ली। जिसमें अजमेर डिस्कॉम के घाटे से उबर कर फायदे में आने पर खुशी जताई और जयपुर-जोधपुर डिस्कॉम को भी वर्कप्लान बनाकर एक्शन के निर्देश दिए।

कैम्पेन चलाकर होगी बकाया पेमेंट की वसूली

बिजली विभाग के एसीएस डॉ सुबोध अग्रवाल ने कहा कि तीनों डिस्कॉम्स फायनेंशियल डिसीप्लीन अपनाते हुए छीजत और लागत कम करें। कैम्पेन चलाकर बकाया पेमेंट की वसूली करें। जयपुर,जोधपुर और अजमेर तीनों डिस्काम्स को फायनेंशियल ईयर 2024-25 तक एग्रीगेट टेक्नीकल एंड कॉमर्शियल लॉसेज को 15 फीसदी या इससे नीचे के लेवल पर लाना है। इसी तरह से ट्रांसमिशन और डिस्ट्रीब्यूशन लॉसेस को भी मिनिमाइज करना है। डिस्कॉम चेयरमैन भास्कर ए. सावंत ने तीनों डिस्काम्स में ऑनलाईन बिल वेरिफिकेशन सिस्टम लागू करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि वक्त की मांग है कि आईटी का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें। जरूरतों के हिसाब से नए एप भी डवलप करने होंगे। ताकि बेहतर मॉनिटरिंग,ट्रांसपरेंसी और क्विक डिस्पोजल सिस्टम डवलप हो सके।