पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • The 10th century Statue Of Lord Nataraja, Stolen From Badoli 22 Years Ago, Will Now Return From London

देश लौट रही अनोखी धरोहर:चित्तौड़गढ़ में 10वीं सदी की भगवान नटराजन की मूर्ति अब लंदन से लौटेगी, 22 साल पहले चोरी हुई थी, कार्रवाई से बचने तस्कर नकली प्रतिमा रख गए थे

चित्तौड़गढ़6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रावतभाटा के बाड़ौली मंदिर से यही नटराज की मूर्ति चोरी गई थी।- फाइल फोटो
  • इंग्लैंड सरकार ने हाई कमीशन ऑफ इंडिया को सौंपी मूर्ति, अगले सप्ताह भारत आएगी
  • नटराज की यह प्रतिमा करीब 25 करोड़ रुपए में बिकने की खबर थी, इसके तार मूर्ति तस्कर घीया से जुड़ा होना सामने आया
Advertisement
Advertisement

(राकेश पटवारी)। जिले के रावतभाटा क्षेत्र स्थित बाड़ौली के घाटेश्वर मंदिर से 1998 में चोरी हुई नटराजन की प्रतिमा लंदन से भारत लौट रही है। 10वीं शताब्दी की इस प्राचीन प्रतिमा को भारत लाने के लिए एक महिला इतिहासविद समेत सरकार आदि को 22 साल तक जद्दोजहद करनी पड़ी।

ऑर्कियोलॉजी सर्वे ऑफ इंडिया के अधिकारियों ने बताया कि लंदन में रखी यह प्रतिमा इंग्लैंड सरकार ने भारतीय उच्चायोग को सौंप दी है। जो अगले सप्ताह भारत पहुंचेगी। मूर्ति वापस लाने के लिए लंबा संघर्ष करने वाली इतिहास विद् डाॅ. सुषमा आहूजा ने कहा कि यह देश की अनोखी धरोहर है।

सरकार से लेकर कई लोगों के सम्मिलित प्रयास से यह संभव हो सका है। बड़ौली के प्राचीन घाटेश्वर मंदिर से 22 साल पहले चोरी हुई नटराज की यह प्रतिमा लगभग 25 करोड़ रुपए में बिकने की खबर थी। इसके तार कुख्यात मूर्ति तस्कर वामन नारायण घीया से जुड़ा होना सामने आया। तब इंटेक के कन्वीनर हरि सिंह पालकिया ने भी इसे लाने के लिए प्रयास की बात कही थी। कार्रवाई का दबाव आगे नहीं बढ़े, इसलिए 8 महीने बाद चोर हुबहू नकली मूर्ति छोड़ गए, असली मूर्ति तो लंदन चली गई थी।

जानिए, मूर्ति चोरी और इसकी सात समंदर तक पहुंचने की दिलचस्प कहानी

18 फरवरी 1998 को चोर गिरोह रावतभाटा के बाड़ौली मंदिर से नटराज की मूर्ति चुरा ले गया था। चोरी के बाद स्थानीय लोगों ने आंदोलन भी किया था। आठ महीने बाद कुछ लोग इस मूर्ति की हूबहू नकली फेंक गए थे। इससे लोगों का गुस्सा शांत हो गया। इसी बीच 2003 में जयपुर के पुलिस अधीक्षक आनंद श्रीवास्तव ने ऑपरेशन ब्लैक होल के दौरान मूर्ति चोर गिरोह का पर्दाफाश किया। तब पता चला कि बाड़ौली में चोरों ने नकली मूर्ति रखी थी, ताकि आगे कार्रवाई नहीं हो। वो नकली मूर्ति आज भी ऑर्कियोलॉजी सर्वे ऑफ इंडिया के पास सुरक्षित है।

चोरी के बाद मंदिर में नकली मूर्ति रख दी थी।

कुख्यात मूर्ति तस्कर वामन नारायण घीया के ठिकाने पर जयपुर में पुलिस कार्रवाई में प्रतिमा की फोटो मिलने के बाद यह रहस्य उजागर हुआ था। उससे पहले नटराज की नकली प्रतिमा मंदिर के पास में ही खेत में छोड़ दी गई थी। जिससे पुलिस ने जांच बंद कर दी थी। जयपुर घटना के बाद पुलिस ने जांच फिर से शुरू की। बाद में पता चला कि यह प्रतिमा लंदन चली गई।

जांच में मुझे धमकियां मिलीं, लेकिन हिम्मत नहीं हारी

  • ऑर्कियोलॉजी सर्वे ऑफ इंडिया में वरिष्ठ संरक्षक सहायक सुरेश कुमावत,ने बताया कि मूर्ति चोरी की जांच के दौरान मुझे जान से मारने की भी धमकी मिली थी। मैंने हिम्मत रखी और पूरी पड़ताल की। अब खुशी है कि सरकार के प्रयास से 22 साल बाद धरोहर अगले सप्ताह भारत आएगी।
  • ऑर्कियोलॉजी सर्वे ऑफ इंडिया में चित्तौड़गढ़ के संरक्षक सहायक आरएल जीतरवाल कहते हैं कि यह देश के लिए खुशी की बात है। नटराजन अगले सप्ताह 22 साल बाद देश में आएंगे।
Advertisement
0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव - अपने जनसंपर्क को और अधिक मजबूत करें। इनके द्वारा आपको चमत्कारिक रूप से भावी लक्ष्य की प्राप्ति होगी। और आपके आत्म सम्मान व आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी। नेगेटिव- ध्यान रखें कि किसी की बात...

और पढ़ें

Advertisement