कांस्टेबल पर हमले के 6 आरोपी गिरफ्तार:वारदात में इस्तेमाल किए गए तीन ट्रैक्टर और दो मोटरसाइकिल भी बरामद, आरोपियों के खिलाफ पहले कभी भी कोई आपराधिक मामला दर्ज नहीं

भीलवाडा7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस की पकड़ में आए आरोपी। - Dainik Bhaskar
पुलिस की पकड़ में आए आरोपी।

बजरी माफियाओं द्वारा पुलिस कांस्टेबल पर हमला करने के बाद बागोर पुलिस ने 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। इन आरोपियों को गिरफ्तार कर बागोर पुलिस अपनी पीठ थपथपा रही है। लेकिन इस हमले के बाद क्षेत्र में पुलिस की कार्यशैली पर भी सवाल उठ रहे हैं। आरोपियों के खिलाफ पहले कभी भी कोई आपराधिक मामला दर्ज नहीं है। जबकि यह सभी लंबे समय से इस क्षेत्र में खुलेआम अवैध बजरी खनन कर रहे थे। जिससे कि पुलिस और बजरी माफियाओं के बीच साठगांठ का भी संदेह हो रहा है।

बागोर पुलिस की ओर से बताया गया है कि पुलिस पर हमला करने के मामले में ट्रैक्टर के मालिक छापरी निवासी सांवरनाथ पुत्र नारायण नाथ योगी के साथ ट्रैक्टर चालक भैरू सिंह पुत्र शंकर सिंह, देवकिशन पुत्र भैरू भील, जितेंद्र सिंह पुत्र शंकर सिंह, महेंद्र सिंह पुत्र अर्जुन सिंह व लादू पुत्र देवीलाल जाट को गिरफ्तार किया गया है। इनके पास से तीन ट्रैक्टर वारदात में प्रयुक्त दो मोटरसाइकिल बरामद की गई है।

ये है मामला
आपको बता दें कि 5 जुलाई सोमवार की सुबह बागोर थाने के एसआई नासिर मोहम्मद सहित पुलिस जाब्ता क्षेत्र के कोठारी नदी में होने वाले अवैध बजरी खनन के खिलाफ गश्त कर रहा था। इस दौरान पुलिस दल ने तीन बजरी से भरे ट्रैक्टर को रुकवाया। इस दौरान कुछ लोगों द्वारा पीछे से आकर दो ट्रैक्टर को जबरन छुड़ा ले भागे। इधर एक ट्रैक्टर मौके पर ही बजरी से भरा खड़ा था। पुलिस दल द्वारा कांस्टेबल ओमप्रकाश को उस ट्रैक्टर को थाने ले जाने की जिम्मेदारी दी गई और पुलिस दल उन दोनों भागे हुए ट्रैक्टरों को पकड़ने के लिए रवाना हो गए। इस दौरान पीछे से कुछ लोग और आए और कांस्टेबल ओमप्रकाश के साथ मारपीट कर तीसरा ट्रैक्टर भी लेकर फरार हो गए। कांस्टेबल ओमप्रकाश के साथ मारपीट के 12 घंटे बाद बागोर पुलिस की ओर से कांस्टेबल की रिपोर्ट थाने में दर्ज की गई। इसके बाद हरकत में आकर पुलिस ने कार्रवाई शुरू की।

लंबे समय से क्षेत्र में हो रहा है अवैध बजरी खनन

कोठारी नदी पर अवैध बजरी खनन लंबे समय से हो रहा है। जब से सुप्रीम कोर्ट की ओर से बजरी खनन पर रोक लगाई गई है। उसके बाद बजरी के दामों में काफी बढ़ोतरी हुई है। बजरी से अच्छी कमाई के लिए बजरी माफिया रात के समय चोरी-छिपे इन नदियों में अवैध खनन कर रहे हैं। और मुंह में मांगे दामों पर खुलेआम यह बजरी बेची जा रही है। क्षेत्र में लंबे समय से हो रहे बजरी खनन पर पुलिस की नजर अब तक नहीं पड़ी। इस पर भी पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठ रहे है।

खबरें और भी हैं...