• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • The Meteorological Department Has Issued An Alert, There May Be Storm, Rain And Hail In Western And Eastern Rajasthan Even Today

जयपुर में भर दोपहरी रात जैसा अंधेरा:तूफानी हवाओं के साथ तेज बारिश, कई जगह पेड़-होर्डिंग और बिजली के खंभे उखड़े; वाहनों की लाइट जलानी पड़ी

जयपुर2 वर्ष पहले
जयपुर में दिन के समय मौसम ने रंग बदला और दोपहर में ही अंधेरा छा गया।
  • भरतपुर में आकाशीय बिजली गिरने से एक महिला की मौत हो गई

राजस्थान में मंगलवार को एक बार फिर मौसम का मिजाज बिगड़ गया। राजधानी जयपुर, भरतपुर, जोधपुर समेत प्रदेश के कई जिलों में तेज आंधी और बारिश हुई। वहीं, राजधानी जयपुर में मंगलवार को दोपहर में रात जैसा अंधेरा छा गया। तूफानी हवाओं के साथ बारिश का दौर शुरू हुआ। तेज हवाओं में जगह-जगह पेड़, बिजली के खंभे और होर्डिंग्स उखड़ गए। अंधेरा इस कदर छा गया कि वाहनों की लाइट जलानी पड़ी। सड़कों में कई जगह पेड़ उखड़कर गिरने से जाम लग गया। तेज हवाएं और बारिश की वजह से पूरा शहर ठहर गया। बिजली के खंभे गिरने से कई इलाकों में सप्लाई बंद हो गई। इसके अलावा, कोटा में भी शाम होते-होते अचानक बादल छा गए। वहीं, पाली जिले के कई इलाकों में हल्की बारिश हुई।

जयपुर के मौसम के 4 रंग तस्वीरों में देखिए: सूर्य की तल्खी को बादलों ने घेरा, धूल के गुबार और तेज हवा के बाद आंधी-बारिश से बदली रंगत, फिर सुहाना हुआ मौसम

जयपुर में शाम को ही अंधेरा छा गया।
जयपुर में शाम को ही अंधेरा छा गया।

भरतपुर में बिजली गिरने से महिला की मौत
मंगलवार दोपहर को करीब दो घंटे तक चले अंधड़ के दौरान बिजली गिरने से एक महिला शीला (45) की मौत हो गई। वह खेत में फसल काट रही थी। जबकि महिला के भतीजा-भतीजी झुलस गए। जानकारी के मुताबिक, अचानक तेज आंधी और बारिश से बचने के लिए महिला पेड़ के नीचे बैठ गई। तभी बिजली गिरने से महिला की मौत हो गई।

जैसलमेर में दूसरे दिन भी तूफान
पिछले दो दिन से तबाही मचा रहे तूफान ने दूसरे दिन भी जोधपुर में बिजली के 50 पोल गिरा दिए। इसके साथ ही किसानों की फसलें भी तूफान के साथ उड़ गई। पहले दिन 58 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से तो वहीं दूसरे दिन 36 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से हवाएं चली। इससे किसानों की बची हुई आस भी हवा के साथ उड़ गई। दूसरे दिन आए तूफान से बिजली विभाग को 40 लाख रुपए का नुकसान हो गया।

सीकर में 60 किमी की रफ्तार से चली हवाएं
सीकर के कई क्षेत्रों में तेज हवाओं के साथ हल्की बारिश हुई। इस कारण फसलों को नुकसान भी पहुंचा। मौसम विभाग केंद्र चूरू के अनुसार सोमवार-मंगलवार रात 3.50 से 4.40 बजे तक 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चली। इसका असर चूरू के अलावा सरदारशहर व सादुलपुर क्षेत्र में भी रहा। तेज हवाओं के कारण फसलों को नुकसान भी पहुंचा है।

जैसलमेर में अंधड़ से मची तबाही, प्रशासन ने जारी किया अलर्ट
पश्चिमी राजस्थान के अंतिम जिले जैसलमेर में सोमवार देर रात आए बवंडर ने जमकर तबाही मचाई। यहां खेतों में पड़ी फसलें तबाह हो गई। पेड़, बिजली के पोल गिर गए, जिससे बिजली सप्लाई प्रभावित हो गई। मौसम विभाग ने आज भी यहां तेज आंधी आने की चेतावनी जारी की है, जिसे देखते हुए जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है।

बीकानेर में हाईवे पर तूफान से कई पेड़ गिर पड़े।
बीकानेर में हाईवे पर तूफान से कई पेड़ गिर पड़े।

4 डिग्री तक नीचे आया तापमान
रविवार और सोमवार को राजस्थान के अलग-अलग जिलों में हुई बारिश, ओलावृष्टि से तापमान में गिरावट हुई है। जोधपुर, चूरू, अजमेर, सीकर, करौली, धौलपुर सहित अन्य कई शहरों में रात का तापमान 3-4 डिग्री तक नीचे आ गया।

अजमेर में दोपहर तक सूरज निकला। दोपहर बाद अचानक बादल घिर आए।
अजमेर में दोपहर तक सूरज निकला। दोपहर बाद अचानक बादल घिर आए।

मुआवजे की डिमांड

केन्द्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री कैलाश चौधरी ने बाड़मेर-जैसलमेर सहित प्रदेश के कुछ हिस्सों में आंधी के कारण किसानों की नष्ट हुई फसलों से हुए नुकसान के लिए राज्य सरकार से आग्रह किया है कि शीघ्र ही नुकसान का सर्वे करवाया जाए। इसके बाद तेजी से पीड़ित किसानों को आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई जाए।

खबरें और भी हैं...