• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • The Result Of Class X And XII Will Depend On The Schools, Because The Subject Committee Will Give Marks Along With The Sessional, Some Can Understand Like This

VIDEO से जानें, RBSE का 10वीं-12वीं का रिजल्ट:स्कूलों पर निर्भर करेगा परिणाम, क्योंकि सेशनल के साथ सब्जेक्ट कमेटी देगी मार्क्स, 10वीं में 45:25:30 और 12वीं में 40:20:40 के फॉर्मूले को कुछ इस तरह समझिए

जयपुर/बीकानेर4 महीने पहलेलेखक: अनुराग हर्ष

RBSE के 10वीं व 12वीं के स्टूडेंट्स को प्रमोट करने के लिए शिक्षा विभाग की ओर से तैयार फॉर्मूले पर अब अगला काम माध्यमिक शिक्षा बोर्ड अजमेर और सरकारी व प्राइवेट स्कूलों को करना होगा। राज्य सरकार के इस फॉर्मूले ने स्कूल्स की जिम्मेदारी बढ़ा दी है। डाइट्स के माध्यम से लिए जा रहे 8वीं बोर्ड के मार्क्स भी अब सार्वजनिक करने होंगे क्योंकि मार्कशीट में मार्क्स नहीं है, बल्कि सिर्फ ग्रेड है। ये मार्क्स अब डाइट्स को ओपन करने होंगे।

शिक्षा विभाग ने कक्षा 10वीं व 12वीं के रिजल्ट तैयार करने वाला फॉर्मूला बुधवार रात जारी कर दिया था। इसको लेकर बनाई गई समिति की रिपोर्ट के आधार पर शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने बुधवार को फॉर्मूला जारी कर दिया है। इसके तहत बोर्ड के रिजल्ट के लिए पिछले दो साल की परीक्षाओं को आधार बनाया जाएगा। दसवीं में 45:25:10 और बारहवीं में 40:20:40 का फॉर्मूला रखा गया है। सेशनल मार्क्स भी हर साल की तरह अलग से जुड़ेंगे। इसके अलावा 45 दिन में मार्कशीट मिल जाएगी।

अब RBSE का काम ये रहेगा

अगले कुछ दिनों में RBSE अपनी साइट पर एक लिंक देगा, जिससे स्कूलों को स्टूडेंट्स के मार्क्स भरने होंगे। यह मार्क्स भरने के साथ ही स्टूडेंट की मार्कशीट तैयार हो जाएगी। अब तक स्कूलों को सिर्फ सेशनल मार्क्स ही देने पड़ते थे लेकिन अब उसे पीछे की क्लासेज के मार्क्स भी देने पड़ सकते हैं।

दसवीं के स्टूडेंट्स के लिए फॉर्मूला

फॉर्मूला 45 (आठवीं के मार्क्स) + 25 (9वीं के मार्क्स) + 10 (स्कूल कमेटी देगी) + 20 (सेशनल मार्क्स) = 100

मैं सुनील हूं। कोरोना के कारण 10वीं की परीक्षा नहीं दे सका। अब मेरे मार्क्स मुझे नए फार्मूल से जोड़ने हैं। मुझे 8वीं में मिले मार्क्स लेने होंगे। अगर मेरे अंग्रेजी में 92, विज्ञान में 90 तथा गणित में 81 अंक है। इन तीनों के अंक का योग 267 है। इसको तीन से विभाजित करके एवरेज नंबर लेंगे। जो 87.66 हुए। अब इस एवरेज मार्क्स का 45 फीसदी अंक निकालेंगे। जो 39.45 हुए। दूसरे स्टेप में हम नौंवी कक्षा में मिले हमारे कुल मार्क्स का 25 अंक निकालेंगे। समझों कि हमें 69.57 प्रतिशत अंक मिले थे। इसका 25 प्रतिशत अंक यानी 17.39 अंक हुए। इसे भी अलग से लिखकर रखेंगे। तीसरे स्टेप में स्कूल कमेटी के दस और सेशनल के बीस अंक से जितने मिले वो जोड़ेंगे। हम मानते हैं कि स्कूल ने शत प्रतिशत अंक दिए। ऐस में इन तीस अंकों के साथ दसवीं के 39.45 साथ ही 11वीं के 17.39 और तीस अंक स्कूल के जोड़ेंगे तो 86.84 प्रतिशत अंक हो गए।

दसवीं में ऐसे मिलेंगे मार्क्स

कक्षावैटेजमेरे इतने मार्क्सअब जुड़ेंगे
8th45 %टॉप 3 सब्जेक्ट के मॉर्क्स जोड़ेंगे, 3 से विभाजित करेंगे, जो मार्क्स आये उसका 45% निकालेंगे। मार्क्स हैं 92+90+81= 263/3=87.66, इसका 45% होगा 39.4539.45
9th25%कुल जितने % बने थे, उसका 25% निकालेंगे। जैसे 69.57% थे तो उसका 25%17.39
10th10स्कूल कमेटी अपने स्तर पर देगी10
10th20सेशनल मार्क्स20
39.45+17.39+10+20= 86.84% मार्क्स होंगे।

12वीं में ऐसे मिलेंगे मार्क्स

फॉर्मूला : 40 (दसवीं के मार्क्स) + 20 (ग्यारहवीं के मार्क्स) + 20 (सेशनल मार्क्स) +20 (सब्जेक्ट कमेटी)

इसमें भी हम दसवीं के तीन टॉप सब्जेक्ट का चयन करेंगे, जिनमें सर्वाधिक मार्क्स आये हैं। जैसे मैं हरीश हूं। मेरे इंग्लिश में 95, मेथ्स के 95 और हिन्दी में 90 है। ऐसे में इन मार्क्स का टोटल 280 हुआ। इसका 40 प्रतिशत अंक जोड़ना है। ये 37.33 अंक होते हैं। इसे जोड़ना है। इसी तरह ग्यारहवीं के 80 प्रतिशत अंक के बीस प्रतिशत यानी 16 अंक जोड़ने हैं। इसी तरह 12वीं के सत्रांक और सेशनल मार्क्स 40 जोड़े तो कुल अंक 93.33 प्रतिशत हुए। बारहवीं में जिन विषयों में प्रेक्टिकल है, उनके सत्तर फीसदी अंकों से मार्क्स की तुलना करेंगे।

ऐसे मिलेंगे 12वीं नॉन प्रेक्टिकल एग्जाम मार्क्स
कक्षावैटेजयदि नंबर थेमिलेंगे
10वीं40%90%36
11वीं20%80%16
12वीं सब्जेक्ट कमेटी20%-20
12वीं सत्रांक20%-20
कुल योग92%
36+16+20+20=92%

साइंस स्टूडेंट्स को ऐसे मिलेंगे मार्क्स

बारहवीं में साइंस स्टूडेंट्स को थ्योरी में सत्तर प्रतिशत अंक मिलने हैं। ऐसे में स्टूडेंट्स को दसवीं के अंकों का वैटेज 28 प्रतिशत मिलेगा। यानी 90 प्रतिशत अंक है तो 25.2 अंक मिलेंगे। 11वीं के मार्क्स का 14 प्रतिशत वैटेज मिलेगा। यानी 80 प्रतिशत अंक है तो 11.2 अंक मिलेंगे। इसी तरह बारहवीं के 20 प्रतिशत स्कूल कमेटी के नंबर यहां 20 के बजाय 14 और सत्रांक भी 20 के बजाय 14 मिलेंगे। थ्योरी में जो अंक मिले हैं, उनके साथ प्रेक्टिकल के अंक जोड़ दिए जायेंगे।

अगर आप साइंस स्टूडेंट है तो ऐसे जोड़े मार्क्स
कक्षावैटेजयदि नंबर थेमिलेंगे
10वीं का 40%28%9025.2
11वीं का 20%14%8011.2
12वीं का सब्जेक्ट कमेटी से 20%14%-14
12वीं सत्रांक 20%14%-14

25.2+11.2+14+14=64.4+प्रेक्टिकल मार्क्स

अगर प्रेक्टिकल में तीस अंक है तो 94.4% होंगे।

अब ये भी दिक्कत है

  • आठवीं बोर्ड के परिणाम में मार्क्स नहीं दिए गए थे बल्कि ग्रेड मिले थे। ऐसे में मार्क्स के बारे में खुद स्टूडेंट को नहीं पता। यहां तक कि स्कूल को भी मार्क्स नहीं मिले। सीधे ग्रेड दी गई। अब राज्य भर के डाइट्स को यह मार्क्स सार्वजनिक करने होंगे।
  • जो स्टूडेंट्स आठवीं में सीबीएसई स्कूल में थे और नौंवी में RBSE में आए उनके आठवीं के मार्क्स वो ही जोड़े जाएंगे या फिर कोई अन्य तरीका निकलेगा।

RBSE 10वीं-12वीं रिजल्ट का फॉर्मूला तय:दसवीं में 45:25:10 और बारहवीं में 40:20:40 का फार्मूला, सेशनल मार्क्स भी हर साल की तरह अलग से जुड़ेंगे, 45 दिन में मिलेगी मार्कशीट

खबरें और भी हैं...