दुल्हनों का बारात में शामिल होने का नया ट्रेंड:पैसा उड़ाने से कतरा रहे बाराती, देखिए 25 PHOTOS

जयपुर7 महीने पहले

शादियों का सीजन बूम पर है। डेस्टिनेशन और रॉयल वेडिंग के लिए फेमस जयपुर के छोटे से लेकर बड़े मैरिज गार्डन, होटल, रिसॉर्ट शादियों से गुलजार हैं। जहां पहले कोविड गाइडलाइंस के कारण मेहमानों की संख्या 11, 21, 51, 200 तक लिमिटेड थी। वहीं अब 2000 से ज्यादा मेहमानों की मौजूदगी में भव्य शादियां हो रही हैं। इस बार शादियों में कई तरह के ट्रेंड बदले हैं। खास बात यह है कि जो शादियों में शामिल नहीं हो पा रहे वो वेब कास्टिंग और ऑनलाइन लिंक के जरिए भी देख पा रहे हैं। दुल्हनें वर्चुअली बारात में शामिल हो रही हैं। लग्जरी कारों से एंट्री ले रही हैं। वहीं बाराती पैसा लुटाने में कतराने लगे हैं। दैनिक भास्कर ने जयपुर शहर की कई शादियों को कवर किया और बदलते ट्रेंड को जानने की कोशिश कि। इन 25 तस्वीरों से समझिए कोरोना के बाद क्या-क्या बदला....

25 फोटो के जरिए देखें शादियों में क्या आए हैं बदलाव

एक बिंदायक नहीं, घर के सभी छोटे बच्चों के साथ बग्घी लेकर निकला दूल्हा।
एक बिंदायक नहीं, घर के सभी छोटे बच्चों के साथ बग्घी लेकर निकला दूल्हा।
दुल्हन की एंट्री तारों की छांव में फूलों की चादर के साथ हुई। जिसे भाईयों ने थामा। बहन के जीवन में खुशियां और सुख की छांव का आशीर्वाद।
दुल्हन की एंट्री तारों की छांव में फूलों की चादर के साथ हुई। जिसे भाईयों ने थामा। बहन के जीवन में खुशियां और सुख की छांव का आशीर्वाद।

नए ट्रेंड से शादियां बन रहीं यादगार
शादियों पर लोग खुलकर पैसा खर्च कर रहे हैं। मेहमानों में सोशल डिस्टेंसिंग रहे इसके लिए बड़े मैरिज गार्डन या लॉन बुक कर रहे हैं। शादी के छोटे से छोटे फंक्शन से लेकर बारात स्वागत और विदाई तक के प्रोग्राम में इवेंट मैनेजमेंट किया जा रहा है। कोरियोग्राफी ने डांस और पार्टियों को भव्य रूप दे दिया है। कहीं वर-वधू राधा-कृष्ण बनकर रास रचा रहे हैं। तो कहीं विंटेज कारों में एंट्री से अपनी शादी को यादगार बना रहे हैं। पंजाबी कलीरे पहने और फूलों की चादर के नीचे एंट्री लेती दुल्हन, गोगल लगाकर घोड़ी नचाते दूल्हे को देखकर लोगों को भी शादी में एक नया एक्सपीरियंस हो रहा है। ज्यादातर फंक्शन थीम बेस होने लगे हैं। हल्दी, मेहंदी, लेडीज संगीत के प्रोग्रामों के लिए स्पेशल कलर थीम पर रखे जा रहे हैं।

बारात की एंट्री को वीडियो कॉलिंग से LIVE देखती दुल्हन। पहले दुल्हन सीधे बारात आते नहीं देखती थीं।
बारात की एंट्री को वीडियो कॉलिंग से LIVE देखती दुल्हन। पहले दुल्हन सीधे बारात आते नहीं देखती थीं।
शादी का LIVE टेलीकास्ट होने लगा है। वेबकास्टिंग और वेबलिंक के जरिए शादी देश-विदेश में रिश्तेदारों को दिखाई जा रही है।
शादी का LIVE टेलीकास्ट होने लगा है। वेबकास्टिंग और वेबलिंक के जरिए शादी देश-विदेश में रिश्तेदारों को दिखाई जा रही है।
शादी में अब ड्रोन कैमरा के जरिए वीडियोग्राफी और एरियल व्यू लेने का ट्रेंड चल पड़ा है। इससे पूरा मैरिज गार्डन कवर होता है।
शादी में अब ड्रोन कैमरा के जरिए वीडियोग्राफी और एरियल व्यू लेने का ट्रेंड चल पड़ा है। इससे पूरा मैरिज गार्डन कवर होता है।
दुल्हन को पॉन्ड बर्तन में बैठाकर हल्दी की रस्म करवाने का ट्रेंड। यह रॉयल और ब्यूटीफुल लुक देता है। इसी पॉन्ड में हल्दी लगाई और उतारी जाती है।
दुल्हन को पॉन्ड बर्तन में बैठाकर हल्दी की रस्म करवाने का ट्रेंड। यह रॉयल और ब्यूटीफुल लुक देता है। इसी पॉन्ड में हल्दी लगाई और उतारी जाती है।
पारंपरिक शेरवानी के साथ मैचिंग के गोगल्स लगाकर एंट्री लेता दूल्हा। सिर पर छतरी से भी छांव का बंदोबस्त।
पारंपरिक शेरवानी के साथ मैचिंग के गोगल्स लगाकर एंट्री लेता दूल्हा। सिर पर छतरी से भी छांव का बंदोबस्त।
दूल्हा और दुल्हन दोनों राधा-कृष्ण रूप में विवाह से पहले फंक्शन में रास रचाते हुए। फिल्मी अंदाज में शादी की शूटिंग का चलन बढ़ा है।
दूल्हा और दुल्हन दोनों राधा-कृष्ण रूप में विवाह से पहले फंक्शन में रास रचाते हुए। फिल्मी अंदाज में शादी की शूटिंग का चलन बढ़ा है।
शादी में दिन के फंक्शंस होटल-रिसॉर्ट के पूल साइड पर रखने की डिमांड बढ़ी। इससे सर्विसेज का आनंद उठाते हुए रिलेटिव्स भी कूल और रिलेक्स रहते हैं।
शादी में दिन के फंक्शंस होटल-रिसॉर्ट के पूल साइड पर रखने की डिमांड बढ़ी। इससे सर्विसेज का आनंद उठाते हुए रिलेटिव्स भी कूल और रिलेक्स रहते हैं।
शादी में पूल के साथ फाउंटेन का भी चलन बढ़ गया है। गर्मियों में इससे पूरे मैरिज गार्डन में ठंडक भी बनी रहती है।
शादी में पूल के साथ फाउंटेन का भी चलन बढ़ गया है। गर्मियों में इससे पूरे मैरिज गार्डन में ठंडक भी बनी रहती है।
शादी में पंजाबी ढोल का बहुत ज्यादा चलन है। हर शादी में पंजाबी ढोल वाले बुलाए जा रहे हैं। खासकर यूथ का डांस और दूल्हा-दुल्हन की एंट्री पंजाबी ढोल की थाप पर ही हो रही है।
शादी में पंजाबी ढोल का बहुत ज्यादा चलन है। हर शादी में पंजाबी ढोल वाले बुलाए जा रहे हैं। खासकर यूथ का डांस और दूल्हा-दुल्हन की एंट्री पंजाबी ढोल की थाप पर ही हो रही है।
वरमाला के दौरान कूल फायर का इस्तेमाल किया जा रहा है। इससे किसी तरह का हादसा या जलने का खतरा नहीं रहता है।
वरमाला के दौरान कूल फायर का इस्तेमाल किया जा रहा है। इससे किसी तरह का हादसा या जलने का खतरा नहीं रहता है।
विवाह स्थलों पर सेल्फी पॉइंट का फैशन बहुत बढ़ा है। परिलोक की थीम पर सजावट की जा रही है।
विवाह स्थलों पर सेल्फी पॉइंट का फैशन बहुत बढ़ा है। परिलोक की थीम पर सजावट की जा रही है।
बारात के दौरान घोड़ी नचाने का पुराना चलन भी फिर से लौट आया है। दूल्हे के साथ उसके दोस्त भी नाच कर एन्जॉय कर रहे हैं।
बारात के दौरान घोड़ी नचाने का पुराना चलन भी फिर से लौट आया है। दूल्हे के साथ उसके दोस्त भी नाच कर एन्जॉय कर रहे हैं।
कोरोना काल के बाद बड़े और खुले लॉन में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मेहमानों के बैठने के बंदोबस्त किए जा रहे हैं।
कोरोना काल के बाद बड़े और खुले लॉन में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मेहमानों के बैठने के बंदोबस्त किए जा रहे हैं।
मून लैंटर्न लाइट्स का भी चलन शादियों में बहुत ज्यादा है। दूल्हा-दुल्हन की एक साथ एंट्री के वक्त म्युजिक के साथ डांस करते डांसर्स उन्हें स्टेज तक लेकर जाते हैं।
मून लैंटर्न लाइट्स का भी चलन शादियों में बहुत ज्यादा है। दूल्हा-दुल्हन की एक साथ एंट्री के वक्त म्युजिक के साथ डांस करते डांसर्स उन्हें स्टेज तक लेकर जाते हैं।
कोरोना काल के बाद फिर से दूल्हे के भाई-बहन, दोस्त स्टेज पर बैठने लगे हैं। दुल्हन का इंतजार करते गपशप और हंसी ठिठोली का दौर फिर से शुरू हो गया है।
कोरोना काल के बाद फिर से दूल्हे के भाई-बहन, दोस्त स्टेज पर बैठने लगे हैं। दुल्हन का इंतजार करते गपशप और हंसी ठिठोली का दौर फिर से शुरू हो गया है।
थीम बेस पर लाल चुनरी की साड़ी में सभी महिलाएं एक साथ पारंपरिक घूमर पर थिरकती महिलाएं।
थीम बेस पर लाल चुनरी की साड़ी में सभी महिलाएं एक साथ पारंपरिक घूमर पर थिरकती महिलाएं।
बारात में बड़े लेवल पर पैसा लुटाने का दौर लगभग खत्म सा हो गया है। कोरोना काल के बाद बढ़ी महंगाई के कारण लोग पैसा उड़ाने से कतराने लगे हैं।
बारात में बड़े लेवल पर पैसा लुटाने का दौर लगभग खत्म सा हो गया है। कोरोना काल के बाद बढ़ी महंगाई के कारण लोग पैसा उड़ाने से कतराने लगे हैं।
पहले शादी में दुल्हन की एंट्री भाई, बहनों, सहेलियों और परिवार के साथ पैदल होती थी। लेकिन अब शादी में गिफ्ट में दी जाने वाली लग्जरी कार में सीधा मैरिज गार्डन में एंट्री लेने का नया ट्रेंड चल पड़ा है।
पहले शादी में दुल्हन की एंट्री भाई, बहनों, सहेलियों और परिवार के साथ पैदल होती थी। लेकिन अब शादी में गिफ्ट में दी जाने वाली लग्जरी कार में सीधा मैरिज गार्डन में एंट्री लेने का नया ट्रेंड चल पड़ा है।
गांवों में भी अब शहरों की तरह सिटिंग्स के साथ और बड़े फॉर्म हाउस, मैरिज गार्डनों में शादी करने का चलन बढ़ा है।
गांवों में भी अब शहरों की तरह सिटिंग्स के साथ और बड़े फॉर्म हाउस, मैरिज गार्डनों में शादी करने का चलन बढ़ा है।

मेन्यू में भी बड़ा बदलाव
गर्मियों में सावों का बड़ा सीजन होने के कारण पूल और फाउंटेन के बीच शादियां की जा रही हैं। खाने के मेन्यु में भी बदलाव देखने को मिल रहे हैं। कोविड के बाद हाईजीन का खास तौर पर ख्याल रखा जा रहा है। डिस्पोजल में स्टार्टर सर्व किए जा रहे हैं। गर्मी में ठंडे आइटम्स ज्यूस, शेक, कोल्ड्रिक्स, आईसक्रीम, फ्रूट पंच के साथ दही से बने प्रोडक्ट्स की ज्यादा डिमांड है।

कैटरिंग में मिठाईयों से लेकर सर्विंग के लिए महिलाओं को रखा जा रहा है। मैंगो सीजन में मैंगो रबड़ी की डिमांड मेन्यू में बढ़ गई है।
कैटरिंग में मिठाईयों से लेकर सर्विंग के लिए महिलाओं को रखा जा रहा है। मैंगो सीजन में मैंगो रबड़ी की डिमांड मेन्यू में बढ़ गई है।
रॉयल लुक के काउंटर्स का ट्रेंड शादियों में दिख रहा है। खाना, मिठाई और सलाद को ब्रास और पीतल के एंटीक लुक काउंटर्स पर सजाकर परोसा जा रहा है।
रॉयल लुक के काउंटर्स का ट्रेंड शादियों में दिख रहा है। खाना, मिठाई और सलाद को ब्रास और पीतल के एंटीक लुक काउंटर्स पर सजाकर परोसा जा रहा है।
कोरोना गाइडलाइंस हटने के बाद अब शादी समारोह में बारात के स्वागत के लिए पूरा कुटुम्ब जुट रहा है। परिवार के सभी बड़े-बुजुर्ग से लेकर मित्र, परिचित तक शादियों में आ रहे हैं।
कोरोना गाइडलाइंस हटने के बाद अब शादी समारोह में बारात के स्वागत के लिए पूरा कुटुम्ब जुट रहा है। परिवार के सभी बड़े-बुजुर्ग से लेकर मित्र, परिचित तक शादियों में आ रहे हैं।
कोरोना कंट्रोल होने के बाद अब कूल ड्रिंक्स पर जोर है। वाटरमेलन ज्यूस, मोजितो, शेक, फ्रूट पंच, काला-खट्टा बर्फ गोला, बादाम शेक, आईसक्रीम ट्रेंड में हैं।
कोरोना कंट्रोल होने के बाद अब कूल ड्रिंक्स पर जोर है। वाटरमेलन ज्यूस, मोजितो, शेक, फ्रूट पंच, काला-खट्टा बर्फ गोला, बादाम शेक, आईसक्रीम ट्रेंड में हैं।
शादियों में थीम का चलन है। मैरिज गार्डन को राजस्थानी ढाबा की थीम दी गई है। जिसमें कैर सांगरी, गवार की फली, लहसुन की चटनी, टमाटर-मिर्ची, पातोड़ या राबोड़ी की सब्जी, चूरमा, दाल, बाटी, बेजड़ की रोटी, लूणिया घी, गुड़, छाछ, राबड़ी परोसे जा रहे हैं।
शादियों में थीम का चलन है। मैरिज गार्डन को राजस्थानी ढाबा की थीम दी गई है। जिसमें कैर सांगरी, गवार की फली, लहसुन की चटनी, टमाटर-मिर्ची, पातोड़ या राबोड़ी की सब्जी, चूरमा, दाल, बाटी, बेजड़ की रोटी, लूणिया घी, गुड़, छाछ, राबड़ी परोसे जा रहे हैं।
देसी खाने के साथ खाट या चारपाई पर बैठाकर लोगों को भोजन भी करवाया जा रहा है। लोग देसी अंदाज को भी काफी पसंद कर रहे हैं।
देसी खाने के साथ खाट या चारपाई पर बैठाकर लोगों को भोजन भी करवाया जा रहा है। लोग देसी अंदाज को भी काफी पसंद कर रहे हैं।