• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Today 120 People Die; But The News Of Relief Is That Today 8303 People Were Also Cured, The Government Advised For Prone Home Isolates.

राजस्थान में कोरोना के सारे रिकॉर्ड ध्वस्त:16,613 नए संक्रमित मिले, 120 लोगों की मौत; राहत की बात यह कि 8303 लोग ठीक भी हुए

जयपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राजस्थान में कोरोना केसों ने बुधवार को एक और रिकॉर्ड बनाया है। पिछले 24 घंटे के अंदर 16,613 नये केस मिले हैं, जबकि 120 लोगों की मौत हो गई। राहत की बात यह है कि प्रदेश में धीरे-धीरे रिकवरी रेट का ग्राफ बढ़ने लगा है। आज 8303 संक्रमित व्यक्ति ठीक हुए हैं। इधर कोरोना की चपेट में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के पुत्र और झालावाड़-बारां के सांसद दुष्यंत सिंह आ गए है। जयपुर विधायक अशोक लाहोटी और उनका पूरा परिवार संक्रमित हो गया। वहीं सरकार ने सांस में तकलीफ वाले लोगों से प्रोनिंग करने के लिए कहा है, ताकि ऑक्सीजन लेवल को गिरने से रोका जा सके।

जयपुर : हालात बेकाबू

राज्य की जिलेवार रिपोर्ट देखें तो बुधवार को सबसे ज्यादा केस जयपुर में 3,014 मिले हैं, जबकि 32 लोगों की मौत हुई है। जयपुर में ये एक दिन में सर्वाधिक मौत का आंकड़ा है, जबकि 1325 लोग रिकवर हुए हैं। जयपुर में अस्पतालों में स्थिति विकट रही। यहां लगभग सभी अस्पतालों में बेड फुल रहे और लोग अस्पताल में भर्ती होने के लिए परेशान होते रहे।

जोधपुर : ऑक्सीजन और रेमडेसिविर के लिए हाहाकार

जोधपुर शहर में कोरोना संक्रमितों की बढ़ती संख्या के बाद हालात पूरी तरह से बिगड़ने की कगार पर पहुंच रहे हैं। मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है और अस्पतालों में अब कोई बेड उपलब्ध नहीं है। अस्पतालों में स्थिति ये है कि न तो ऑक्सीजन पर्याप्त है और न ही रेमडेसिविर इंजेक्शन। जोधपुर में आज सर्वाधिक 2220 संक्रमित एक ही दिन में मिले, जबकि 33 लोगों अपनी जान गंवा बैठे। उदयपुर में कोरोना संक्रमण से हालात बेकाबू हो गए हैं। बुधवार को उदयपुर में एक हजार 112 नए संक्रमित मरीज सामने आए हैं। 11 मरीजों की मौत हो गई।

उदयपुर : रिकवरी रेट में सुधार

उदयपुर में राहत की खबर ये है कि यहां अब रिकवरी रेट में दिनों-दिन सुधार हो रहा है। यहां आज भी कुल 886 मरीज ठीक हुए हैं।

सीकर : हर तीसरा सैंपल पॉजिटिव

शेखावाटी अंचल के सीकर में आज रिकॉर्ड तोड़ केस मिले हैं। 2017 लोगों की जांच की गई, जिसमें 810 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है यानी हर तीसरा सैंपल संक्रमित मिला है। यहां आज 3 लोगों की मौत हो गई और एक्टिव केसों की संख्या 5905 पर पहुंच गई।

अलवर : एक हजार से ज्यादा केस

अलवर जिले में भी कोरोना की रफ्तार बरकरार है। लगातार चौथे दिन एक हजार से ज्यादा केस आए हैं। अलवर में आज 1123 नये संक्रमित केस आए हैं, जबकि 3 लोगों की मौत हो गई। अलवर में डराने वाली स्थिति ये है कि यहां एक्टिव केसों की संख्या 10 हजार के नजदीक पहुंच गई है।

ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने के लिए प्रोनिंग हो सकती है मददगार

स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने होम आइसोलेशन में रह रहे मरीजों के लिए प्रोनिंग के जरिए कम होते ऑक्सीजन लेवल में सुधार करने की अपील की है। जयपुर के सवाई मानसिंह मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. सुधीर भंडारी ने बताया कि जब ऑक्सीजन का स्तर 94 से नीचे आ जाए, तो होम आइसोलेशन में रहते हुए मरीज को प्रोनिंग करनी चाहिए। प्रोनिंग की यह स्थिति वेंटिलेशन में सुधार करके मरीज की जान तक बचा सकती है। डॉ भंडारी ने कहा कि प्रोनिंग की पोजीशन सांस लेने में आराम और ऑक्सीकरण में सुधार करने के लिए मेडिकली प्रूव्ड है। इसमें मरीज को पेट के बल लिटाया जाता है। यह प्रक्रिया 30 मिनट से दो घंटे की होती है। इसे करने से फेफड़ों में रक्त का संचार बेहतर होता है, जिससे ऑक्सीजन फेफड़ों में आसानी से पहुंचती है और फेफड़े अच्छे से काम करने लगते हैं। उन्होंने बताया कि ऑक्सीजनेशन में इस प्रक्रिया को 80 प्रतिशत तक सफल माना जा रहा है।

ऐसे करें प्रोनिंग।
ऐसे करें प्रोनिंग।

यूं करें प्रोनिंग

भंडारी ने बताया कि प्रोनिंग के लिए लगभग चार से पांच तकियों की जरूरत होती है। सबसे पहले रोगी को बिस्तर पर पेट के बल लिटाएं। एक तकिया गर्दन के नीचे सामने से रखें। फिर एक या दो तकिए गर्दन, छाती और पेट के नीचे बराबर में रखें। बाकी के दो तकियों को पैर के पंजों के नीचे दबाकर रख सकते हैं। ध्यान रखें इस दौरान कोविड रोगी को गहरी और लंबी सांस लेते रहना है। उन्होंने बताया कि 30 मिनट से लेकर करीब दो घंटे तक इस स्थिति में रहने से मरीज को बहुत आराम मिलता है, लेकिन 30 मिनट से दो घंटे के बीच मरीज की पोजीशन बदलना जरूरी है। इस दौरान मरीज को दाईं और बाईं करवट लिटा सकते हैं। उन्होंने बताया कि गर्भावस्था में महिला, गंभीर कार्डियक मरीज को प्रोनिंग से बचना चाहिए।

खबरें और भी हैं...