• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Token System Had To Be Implemented Due To Bike Theft Incidents, Two Wheelers Of Employees Are On Target

राजस्थान सरकार का शासन सचिवालय वाहन चोरों से परेशान:बाइक चोरी की घटनाओं के कारण लागू करना पड़ा टोकन सिस्टम, कर्मचारियों के टू व्हीलर्स हैं निशाने पर

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सचिवालय के एक्ज़िट गेट पर दुपहिया वाहन चालक से टोकन लेता गार्ड। - Dainik Bhaskar
सचिवालय के एक्ज़िट गेट पर दुपहिया वाहन चालक से टोकन लेता गार्ड।

राजधानी जयपुर में शासन सचिवालय भी वाहन चोरों की नज़र से सुरक्षित नहीं है। टू व्हीलर्स पर चोरों की निगाह हैं। अब तक सचिवालय की पार्किंग से 6 बाइक चोरी हो चुकी हैं। इसलिए अब टू व्हीलर्स के लिए टोकन सिस्टम शुरू करना पड़ा है। सीसीटीवी कैमरा और तमाम सुरक्षा बंदोबस्तों के बावजूद सचिवालय में वाहन चोरी नहीं रुक पा रही है। पूरी सरकार शासन सचिवालय से ही चलती है। यहां सीएमओ, मंत्रालय भवन से लेकर मुख्य सचिव, एसीएस, प्रमुख शासन सचिव और आला ब्यूरोक्रेट्स तक सभी के दफ्तर हैं। मंत्रियों और बड़े अफसरों की गाड़ियां तो सचिवालय में विशेष तौर पर तय गेट से अन्दर प्रवेश कर जाती हैं, वहीं से उनके बाहर निकलने का भी रास्ता तय है।

शासन सचिवालय पर वाहन चोरों की नज़र

दूसरी ओर सचिवालय में काम करने वाले कर्मचारियों के दुपहिया वाहन आए दिन चोरों के हत्थे चढ़ रहे हैं। सचिवालय में बाइक चोरी की घटनाओं को देखते हुए अब टोकन सिस्टम चालू कर दिया गया है। सचिवालय प्रशासन सोमवार से अलर्ट मोड पर नpर आ रहा है। पार्किंग में आने वाली बाइक और टू व्हीलर्स के लिए टोकन सिस्टम शुरू किया गया है।

टू व्हीलर्स के लिए सचिवालय में टोकन सिस्टम

टू व्हीलर पार्किंग में खड़ा करने के बाद उसका टोकन दिया जा रहा है। जब सचिवालय के एक्ज़िट गेट से वाहन बाहर निकलता है, तो गार्ड टोकन मांगता है। बिना टोकन दिए वाहन को रोका जा रहा है। सीसीटीवी फुटेज में हर बार कोई युवक बाइक चुराकर ले जाता हुआ नज़र आता है। सचिवालय गार्ड्स ने पहचान उजागर नहीं करने की शर्त पर बताया कि सीसीटीवी में चोरी करते हुए रिकॉर्ड वीडियो फुटेज अशोक नगर थाना पुलिस को भी दिए गए हैं। लेकिन अब तक वाहन चोर पकड़ा नहीं जा सका है।इसलिए एक्ज़िट गेट पर टोकन जमा करवाना अनिवार्य कर दिया गया है।

पहले दिन सचिवालय कर्मचारी गार्ड्स से सवाल-जवाब करते आए नज़र

सचिवालय में पहले दिन शुरू हुई नई टोकन की व्यवस्था को लेकर कई कर्मचारी और बाइक सवाल गार्ड्स से सवाल-जवाब भी करते दिखाई दिए। लेकिन गार्ड्स उन्हें समझाते रहे कि वाहन चोरी की वारदातें रोकने के लिए यह निर्णय सुरक्षा अधिकारियों ने लिया है। सचिवालय की पार्किंग में रोज़ाना तकरीबन 2500 से 3000 वाहन दुपहिया वाहन पार्क होते हैं। ऐसे में उनकी सुरक्षा करना भी किसी चुनौती से कम नहीं है।

खबरें और भी हैं...