पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

राजस्थान में बारिश और ओले:जयपुर में दिन में धूलभरी आंधी के बाद शाम को बारिश, भीलवाड़ा में 30 मिनट तक ओले गिरे; झुंझुनूं में बिजली गिरने से युवक की मौत

जयपुर2 महीने पहले

राजस्थान में सोमवार को एक बार फिर मौसम ने करवट बदली। जयपुर, अलवर, अजमेर, सीकर, भीलवाड़ा, टोंक, झुंझुनूं सहित प्रदेश के कई जिलों में दोपहर बाद बारिश के साथ ओले गिरे। बारिश और ओलों ने भले ही लोगों को गर्मी से राहत दी हो। लेकिन किसानों को इसका भारी नुकसान उठाना पड़ा। खेतों में खड़ी और कटी फसलों को नुकसान पहुंचा है। इधर, झुंझुनूं के उरीका में बिजली गिरने से एक युवक की मौत हो गई।

मौसम विभाग ने बताया कि यह मौसमी बदलाव पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव के चलते हुआ है। जहां-जहां बारिश और ओले गिरे, वहां सुबह से ही मौसम का मिजाज बदला-बदला रहा। जयपुर में दोपहर बाद बादल छा गए और शाम होते-होते धूलभरी आंधी चलने लगी। आंधी के साथ उड़ी धूल-मिट्‌टी से पूरा आसमान मटमैला हो गया। वहीं मिट्‌टी उड़ने से दुपहिया वाहन चालकों को गाड़ी चलाने में परेशानी हुई। जयपुर में आसपास के इलाके में बारिश के साथ ही ओले गिरे।

जयपुर में दिन में धूल भरी आंधी चली, जिससे दिन में अंधेरा छा गया।
जयपुर में दिन में धूल भरी आंधी चली, जिससे दिन में अंधेरा छा गया।

अजमेर में विजिबिलिटी 200 मीटर तक रह गई, भीलवाड़ा में 30 मिनट तक गिरे ओले
अजमेर में सुबह से धूल का गुबार छाया रहा। इसके कारण विजिबिलिटी 200 मीटर तक ही रही। वाहन चालकों को लाइट जलाकर चलना पड़ा। हालांकि, दोपहर 4 बजे धूल भरी आंधी चलने लगी और बूंदाबांदी शुरू हुई। इस दौरान कईं जगहों पर ओले भी गिरे। बरसात से तापमान में गिरावट होने के बाद शाम को मौसम सुहावना हो गया।

भीलवाड़ा में काफी देर तक ओले गिरे। ओलो का आकर चने के आकार के बराबर रहा।
भीलवाड़ा में काफी देर तक ओले गिरे। ओलो का आकर चने के आकार के बराबर रहा।

इधर, अलवर में शाम करीब 4:30 बजे कई जगहों पर बारिश हुई। बादलों की तेज गर्जना के साथ बिजली चमकी। टोंक जिले में टोडारायसिंह सहित कई जगह बारिश, ओले व अंधड़ से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया। गेहूं की खड़ी फसलें चौपट हाे गईं। इस एरिया में चने की फसल में भी भारी नुकसान पहुंचा है। भीलवाड़ा के बदनौर में शाम को कई जगह तेज बरसात हुई और करीब 30 मिनट ओले भी गिरे। ओलाें का आकार चने व बेर जैसा था।

इधर, जोधपुर व बाड़मेर में आंधी से जबरदस्त नुकसान पहुंचा है। 60 से 70 किलोमीटर की रफ्तार से चले अंधड़ से जबरदस्त तबाही मची। कई कच्चे मकानों की छतें उड़ गई, तो खेत में काटी रखी हुई उपज उड़ने से किसानों की मेहनत पर पानी फिर गया।

जोधपुर में चली आंधी के बाद छाया धूल का गुबार।
जोधपुर में चली आंधी के बाद छाया धूल का गुबार।

झुंझुनूं में बिजली गिरने से युवक की मौत
झुंझुनूं के सूरजगढ़ क्षेत्र स्थित उरीकी कस्बे में बिजली गिरने से युवक की मौत हो गई। प्रीतम सिंह (25) पुत्र कमेर सिंह राजपूत अपने परिवार के साथ खेत में काम कर रहा था। इसी दौरान बूंदाबांदी शुरू हो गई। सभी लोग खेत में बने छप्पर के नीचे बैठ गए। जहां अचानक आकाशीय बिजली गिर गई। इससे प्रीतम गंभीर रूप से झुलस गया। परिजन उसे नजदीक अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया

प्रीतम सिंह- फाइल
प्रीतम सिंह- फाइल

अब आगे क्या?
मौसम विभाग जयपुर के निदेशक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि 23 मार्च को भी पूर्वी राजस्थान के जिलों में मौसम ऐसा ही बना रहेगा। अलवर, भरतपुर, धौलपुर, करौली, जयपुर, टोंक, सवाई माधोपुर, बूंदी सहित अन्य जिलों में मंगलवार दोपहर बाद बादल छाए रहेंगे । तेज धूलभरी आंधी चलेगी। इसके साथ ही कई जगह बारिश के साथ ओले भी गिर सकते हैं। 24 मार्च से पश्चिमी विक्षोभ का असर खत्म होगा और एक बार फिर राज्य में मौसम शुष्क होने लगेगा।

आंधी से हुए नुकसान के लिए मुख्यमंत्री को लिखा पत्र
इससे पहले बीती रात पश्चिमी राजस्थान में आए तेज अंधड़ से किसानों को भारी नुकसान हुआ है। इसको लेकर अल्पसंख्यक मामलात मंत्री शाले मोहम्मद ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र लिखा है। पत्र में आंधी से हुए नुकसान का मुआवजा देने की मांग की गई है। शाले मोहम्मद ने पत्र में बताया कि 21 मार्च की रात्रि में जैसलमेर जिले के सीमावर्ती क्षेत्र में आए तेज अंधड़ से बिजली के पोल गिर गए। पेड़ टूट गए हैं। इससे आमजन का सामान्य जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। खेत में खड़ी किसानों की चना, जीरा, इसबगोल की फसलों को भारी नुकसान हुआ है।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर के कार्यों को सुव्यवस्थित करने में व्यस्तता बनी रहेगी। परिवार जनों के साथ आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने संबंधी योजनाएं भी बनेंगे। कोई पुश्तैनी जमीन-जायदाद संबंधी कार्य आपसी सहमति द्वारा ...

और पढ़ें