जागरूकता:विधिक जागरूकता शिविर में विधिक व कानूनी जानकारी देकर किया जागरूक

आहोर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • वक्ताओं ने ऑनलाइन गेम्स से दूरी बनाने की दी नसीहत

उपखण्ड मुख्यालय पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र परिसर में नर्सिंग प्रशिक्षणार्थियों एवं आमजन को गुरूवार को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण जालोर द्वारा विधिक जागरूकता अभियान के तहत विधिक व कानूनी जानकारी देकर जागरूक किया। इस अवसर पर जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के पीएलवी रमेश कुमार ने बताया कि जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव व अपर जिला एवं सैशन न्यायाधीश वीरेंद्र कुमार मीणा के आदेशानुसार आहोर उपखंड मुख्यालय नर्सिंग महिला कार्यकर्ताओं को ब्लाक स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. वीरेंद्र हमथानी ने विद्यार्थियाें को बताया कि आपके द्वारा किया गया कार्य एक गरीब व पीड़ित परिवार के लिए नई जिंदगी का वरदान साबित होता है व हमें पुण्य प्राप्त होता है वहीं सम्मानित गुरुजनों द्वारा हमें दिये गये लक्ष्य पर पुरा ध्यान लगाना है।

वह लक्ष्य तक पहुंचना ही विद्यार्थी जीवन का मुख्य उद्देश्य व लक्ष्य है। विद्यार्थी जीवन एक जीवन का महत्वपूर्ण भाग है जिसे हमेशा उच्च सपने देखकर हमें आगे बढ़ना है। वहीं पीएलवी रमेश कुमार ने विद्यार्थियों को कहा कि आज के समय की भागदौड़ भरी जिंदगी में भी संयम पूर्वक काम करना है। इस दौरान साइबर अपराध के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी गई।

जिससे बताया कि आनॅलाइन गेम्स से हमें दुर रहना चाहिए। हम आउटडोर गेम्स खेलें, रैगिंग सुरक्षा के अधिकार को विस्तार पूर्वक जानकारी दी।वहीं बाल विवाह प्रतिषेध अधिनियम के तहत बताया कि बाल विवाह एक सामाजिक अपराध है। कम आयु में कि गई शादी शारीरिक व मानसिक विकास को रोक देती है व जिसकी दो साल कैद व एक लाख रुपए जुर्माना भी लगाया जा सकता है।

वही पीड़ित प्रतिकर स्कीम, लोक अदालत, कोविड 19, कन्या भ्रुणहत्या, मृत्यु भोज निवारण अधिनियम, शोषण के विरुद्ध अधिकार,भरण पोषण का अधिकार की जानकारी दी गई इस दौरान अस्पताल प्रभारी डॉ. पूरणमल मुणौत, मेल नर्स प्रथम हस्तीमल परमार, बाबूलाल बावल, मनोज कुमार सहित महिला विधार्थी मौजूद थी। इधर, विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा अस्पताल में भर्ती मरीज व आम जन को भी विधिक सेवा द्वारा कानूनी जानकारी दी गई वहीं सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं की भी जानकारी दी गई।

खबरें और भी हैं...