पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रामलीला का आयोजन:श्रीराम के राज्याभिषेक की तैयारी के बीच वनवास के मंचन पर भावुक हुए दर्शक

आबूरोडएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

धर्म प्रचारक रामलीला मंडल काशी की ओर से आयोजित रामलीला के पांचवें दिन श्रीराम राज्याभिषेक की तैयारी और राम वनवास का मंचन किया गया। श्रीराम को राजा बनने की सूचना पर पूरे अयोध्या में ढोल नगाड़े खुशियां मनाई जा रही थी और पूरी अयोध्या दुल्हन की तरह सजी हुई थी।

इसी बीच मंथरा, जिसे यह उचित नही लगा वो कनक भवन पहुंचती है और कैकयी महारानी को राम के राजा बनने पर भडक़ाती है। कहती है कि हमारा लल्ला भरत राम का सेवक होगा व उनकी सेवा ही करेगा। यह बात सुन कै कयी को गुस्सा आता है। मंथरा कैकयी को याद दिलाती है, रानी देवासुर संग्राम में जब राजा दशरथ जख्मी हो गए थे और आपने उनकी मदद की थी।

उस समय राजा दशरथ आपको दो वरदान देने को कहा था। राजा दशरथ एक सत्यवादी राजा है वह जो वचन दे देते हैं जरूर पूरा करते हैं। उनसे दो वरदान मांगे एक वरदान में भरत को अयोध्या का राजतिलक और दूसरे वरदान में राम को 14 वर्षों के लिए वनवास। मंथरा की बातों में आकर कैकयी दो वरदान मांग लेती है।

एक में भरत को राजतिलक दूसरे में राम को 14 वर्षों के लिए वनवास। इस पर भगवान राम आते हैं और कहते हैं कि हमारे पिताजीं इतने बेसुध है क्यों बोल नहीं रहे हैं। इस पर कैकयी कहती है आपको वन जाना है इसी बातों को सुनकर आपके पिता मूर्छा अवस्था में है।

राम कहते हैं, हे माता मैं आपका सबसे प्रिय पुत्र हूं आज मैं बड़ा सौभाग्यशाली हूं कि आपने मुझे आदेश दिया 14 बरस बन जाने के लिए आज मेरा जीवन धन्य हुआ। यह दृश्य इतना करुणा मई रहा कि पांडाल में बैठे दर्शकों की आंखों से आंसू छलकने लगे। कुछ उठ कर चले गए इतना पीड़ादायक दृश्य ऐसा लगा कि यही अयोध्या नगरी है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आर्थिक दृष्टि से आज का दिन आपके लिए कोई उपलब्धि ला रहा है, उन्हें सफल बनाने के लिए आपको दृढ़ निश्चयी होकर काम करना है। कुछ ज्ञानवर्धक तथा रोचक साहित्य के पठन-पाठन में भी समय व्यतीत होगा। ने...

    और पढ़ें