पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सफलता:दिल्ली की आजाद गैंग अब जीआरपी की गिरफ्त में, सरगना आजाद और उसके तीन साथी गिरफ्तार

आबूरोडएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • गैंग ने सिकंदराबाद-हिसार ट्रेन में यात्रियों काे लूटा, 10 राज्यों में 300 से अधिक वारदात कर चुकी

देश की ट्रेनाें में रिजर्वेशन करवाकर यात्रा करने के बहाने यात्रियों के साथ लूटपाट करने वाली अंतरराज्यीय गैंग का राज खाेलने में जीआरपी ने कामयाबी हासिल की है। यह देश की कुख्यात आजाद गैंग है, जाे रिजर्वेशन करवाकर यात्रा करने के बहाने रात में साेते वक्त यात्रियों के पर्स, बैग्स समेत अन्य सामान लूटकर फरार हाे जाते थे।

गैंग के सरगना आजाद पुत्र माेहम्मद हनीफ समेत तीन अन्य साथियों काे भी गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने अब तक देश के 10 प्रदेशों में 300 से अधिक वारदात काे अंजाम दिया है। ट्रेन से लूटपाट करने के बाद आरोपियों काे चलती हुई ट्रेन से कूदकर फरार हाेने में महारथ हासिल है। खास बात ताे यह है कि जीआरपी, आरपीएफ तथा स्थानीय पुलिस के अधिकारियों ने इस पूरी गैंग का खुलासा सिकंदराबाद से मारवाड़ जंक्शन के बीच 200 से अधिक स्थानों पर लगे हुए सीसीटीवी फुटेज, मोबाइल काॅल रिकाॅर्ड तथा लाेकेशन के ट्रेस हाेने के बाद किया। आरोपियों से सघनता से पूछताछ की जा रही है।

उक्त आराेपी आबूराेड, अजमेर, दिल्ली, पुरानी दिल्ली, दिल्ली केंट, सराय राेहिल्ला, हजरत निजामुद्दीन, शाहदरा, नई दिल्ली समेत कई स्थानों पर ट्रेन में लूटपाट करने के आराेप में गिरफ्तार भी हाे चुके हैं। आराेपियाें के कब्जे से 4 अन्य ट्रेनाें के रिजर्वेशन टिकट भी बरामद किए गए हैं।

जानकारी के अनुसार गत 22 जनवरी काे सिकंदराबाद-हिसार के बीच चलने वाली ट्रेन के एसी काेच में आरोपियों ने देर रात काे घुसकर यात्रियों के पर्स, बैग्स तथा अटैची समेत अन्य कीमती सामान लूटकर फरार हाे गए थे। इस मामले में मारवाड़ जंक्शन में ट्रेन काे रुकवाकर हंगामा करने के बाद जीआरपी, आरपीएफ तथा स्थानीय पुलिस ने पहुंचकर यात्रियों के बयानाें के आधार पर मुकदमा दर्ज कर लिया था।

इस मामले में जीआरपी डिप्टी ताराचंद बैरवा, जीआरपी जाेधपुर सीआई किशनसिंह, सीआई अजमेर सुशीला विश्नाेई की अगुवाई में जीआरपी टीम के माेहनलाल ने मुख्य भूमिका निभाते हुए गैंग के सरगना आजाद पुत्र माेहम्मद हनीफ निवासी नार्थ गाेंडा, दिल्ली, माेहम्मद दिलशाद पुत्र बुंदू खान निवासी दिल्ली, माेहम्मद मुख्तियार उर्फ मुख्तियारसिंह पुत्र अजीज खान निवासी सुल्तानपुरी, दिल्ली तथा सचिन पांचाल पुत्र घसीटाराम निवासी गरंव समाैली, प्रताप नगर, दिल्ली काे गिरफ्तार कर लिया।

 गैंग में कुख्यात जेबतराश भी, कार्यक्षेत्र 10 से अधिक प्रदेश : ट्रेनाें में यात्रियों के साथ लूटपाट करने वाली इस गैंग में कुख्यात जेबतराश भी शामिल हैं। इन लाेगाें ने अपना कार्यक्षेत्र देश के 10 से अधिक प्रदेशों में बना रखा है। कई बार पकड़े जाने के बाद छूटकर यह वापस इसी काम में लग जाते हैं। जांच में सामने आया कि आरोपियों ने महाराष्ट्र, गुजरात, उत्तरप्रदेश, उतराखंड, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब तथा बिहार समेत अन्य प्रदेशों काे अपनी वारदात काे कार्यक्षेत्र बना रखा है। अधिकतर वारदात आरोपियों ने ट्रेन में रात के वक्त ही की है।

इन यात्रियों के साथ हुई लूटपाट, महिलाएं ताे राे-राेककर बेहाल हाे गई थीं : बालाेतरा के ताराचंद सुथार पुत्र घेवरचंद सुथार का माेबाइल, 6 हजार नकद तथा अन्य सामान चाेरी हुआ, रेणुका थानवी निवासी खामगांव महाराष्ट्र के पर्स में रखे 40 हजार नकद, 40 हजार की ज्वेलरी चाेरी हुई, विनाेद कुमार पुत्र केवलचंद ओसवाल के पर्स से माेबाइल, नकदी, महंगी घड़ी, साेने की अंगूठी, चश्मा चाेरी हुआ।

वहीं सैय्यद मुश्ताक हुसैन निवासी जाेधपुर के पर्स से साेने का मंगलसूत्र, एक साेने की अंगूठी, कानाें की ईयरिंग, 8 से 10 हजार रुपए नकद, अर्चना चंदा निवासी जाेधपुर के पर्स से 10 हजार नकद, एक घड़ी, साेने के ईयरिंग, पूजा बांठिया निवासी सूरत के बैग्स से एक आईफाेन, साेने का मंगलसूत्र, अंगूठी तथा ममता वैद्य निवासी बीकानेर के पर्स से 28 हजार रुपए नकद, साेने का एक कड़ा, डायमंड की अंगूठी, साेने की अंगूठी समेत अन्य सामान चाेरी गया था।

जहां रिजर्वेशन खत्म हुआ वहीं बेच देते थे माल
जांच में सामने आया कि इन लाेगाें ने इतनी चाेरियां की इन्हें खुद ही नहीं पता। जैसे ही इनके पास रुपए खत्म हाे जाते यह फिर से ऐसी वारदात काे अंजाम देते। इतना ही नहीं ट्रेन से चुराया सामान भी यह वहीं बेच देते थे जहां इनका रिजर्वेशन खत्म हुआ और इसके बाद दूसरी वारदात काे अंजाम देने की प्लानिंग तैयार करते।

मारवाड़ जंं. में हंगामे के दाैरान भी की वारदात
पूछताछ में बताया कि वारदात काे अंजाम देने के बाद जब यात्रियाें ने मारवाड़ जंक्शन स्टेशन पर हंगामा किया ताे यह गिराेह वहां भी बाज नहीं आया। हंगामे के दाैरान भी इन्हाेंने चाेरी की वारदात काे अंजाम दिया। उसी ट्रेन में यह अजमेर तक गए और वहां से जयपुर। इसके बाद अहमदाबाद की ओर निकल गए।

वारदात से पहले उसी ट्रेन का कराते थे रजिस्ट्रेशन, 4 टिकट मिले
दिल्ली में लगातार मामले दर्ज हाेने के बाद गिराेह ने राजस्थाान के अजमेर मंडल वाले ट्रेक काे पकड़ा। जिन ट्रेनाें में वारदात करनी हाेती थी उनके पहले से रिजर्वेशन करवा कर यह रखते थे। जांच के दाैरान आराेपियाें से मारवाड़ जंक्शन से सिकंदराबाद, अजमेर से आबूरोड, अजमेर से पालनपुर आदि के रिजर्वेशन टिकट मिले हैं।

वारदात का तरीका हैरानी भरा : भीड़ में जेबतराशी, रात में साेते यात्रियों के बैग्स-पर्स चुराना

1. सबसे पहले यह भीड़-भाड़ वाली ट्रेन में अपना रिजर्वेशन कराते हैं 2. इसके बाद ट्रेन में ही माैका देखकर यह जेबतराशी करते हैं

3. जिस भीड़भाड़ वाले स्टेशन पर ट्रेन रुकती है, यह वहां भी जेब काटने में लग जाते हैं 4. रात में यात्रियों के साेते वक्त एसी काेच की रैकी करते हैं, ताकि अंदर जाकर पर्स चुरा सके

5. अटेंडेंट से भी एसी काेच में बैठने के लिए दाेस्ती गांठते हैं, फिर वारदात कर खिसक जाते 6. यात्रियों से भी मेलजोल बढ़ाने का प्रयास, बाद में उनकाे जूस में नशीला पदार्थ मिला देते हैं

गैंग ने 22 जनवरी काे आबूराेड-मारवाड़ के बीच 15 से अधिक यात्रियों के बैग व पर्स लूट लिए थे
दिल्ली की कुख्यात आजाद गैंग में शामिल आरोपियों ने गत 22 जनवरी काे आबूरोड व मारवाड़ जंक्शन के बीच में देर रात काे यात्रियों काे साेते देखकर उनके बैग्स व पर्स लूटकर ले गए थे। आराेपी चलती ट्रेन से कूदकर फरार हाे गए।

इनमें साेने-चांदी के जेवरात, नकदी, मोबाइल समेत अन्य कीमती सामान था। इसकाे लेकर मारवाड़ जंक्शन में यात्रियों ने जाेरदार हंगामा किया था। बाद में जीआरपी, आरपीएफ तथा स्थानीय पुलिस ने पहुंचकर काफी मशक्कत के बाद यात्रियों काे समझाकर ट्रेन काे रवाना किया था।

गिराेह का खुलासा करने के लिए बनाई 50 पुलिस अधिकारियाें व सायबर एक्सपर्ट की टीम
ट्रेन में एक साथ सात यात्रियेां के सामान व नकदी की चोरी, मारवाड़ जंक्शन व फालना पर ट्रेन रुकने तथा यात्रियेां के आक्रोश के बाद उत्पन्न स्थिति को देखते हुए रेलवे के अतिरिक्त महानिदेशक संजय अग्रवाल, उपमहानिरीक्षक संदीपसिंह चौहान, पुलिस अधीक्षक भंवरसिंह नाथावत, रेलवे पुलिस अधीक्षक जोधपुर राशि डोगरा के निर्देशानुसार आरोपियों की गिरफ्तार के लिए 50 पुलिस अधिकारियाें, सायबर सेल व रेलवे पुलिस की टीम तैयार की और 15 दिन में इस गिराेह का खुलासा किया। बताया जा रहा है कि पूर्व में गिराेह के एक-दाे सदस्य ही पकड़ में आए थे। लेकिन, पहली बार इस पूरे गिराेह काे मास्टमाइंड के साथ गिरफ्तार िकया है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आर्थिक दृष्टि से आज का दिन आपके लिए कोई उपलब्धि ला रहा है, उन्हें सफल बनाने के लिए आपको दृढ़ निश्चयी होकर काम करना है। कुछ ज्ञानवर्धक तथा रोचक साहित्य के पठन-पाठन में भी समय व्यतीत होगा। ने...

    और पढ़ें