पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

अनदेखी:बगड़ी नगर में सार्वजनिक शौचालय में किसी में टंकी नहीं ताे किसी में दरवाजे गायब, नल तक खोलकर ले गए लोग

बगड़ी नगरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शो पीस बने सार्वजनिक शौचालय निर्माण में गड़बड़ी का अंदेशा, लाेगाें ने जताया विराेध, जांच की मांग

प्रधानमंत्री के स्वच्छ भारत मिशन के तहत प्रशासन गांवों में बेशक हर सार्वजनिक स्थान और घर में शौचालय निर्माण करवाने के लिए अपनी पूरी ताकत का जोर लगा रहा हो,लेकिन गांव में सार्वजनिक शौचालयों की कोई सुध लेने वाला नहीं है। सार्वजनिक स्थानों पर केवल शो पीस बनकर रह गए शौचालय स्वच्छता अभियान की असफलता की बानगी पेश कर रहे हैं।

बगड़ी गांव में पूर्व पंचायत ने गांव में 4 जगहों पर सार्वजनिक शौचालय का निर्माण करवाया। जिसमें मोचीवाड़ा, भूतेश्वर मंदिर के पास, देवासियों की ढाणी पर ताला लटका मिलता है। ऐसे में आम नागरिक इन शौचालयों का प्रयोग कैसे करेगा। इन शौचालयों पर सफाई व पानी की सुविधा की तो गुंजाइश ही नजर नहीं आती।

किसी शौचालय पर पानी की खाली टंकी रखी है तो कहीं कोई इंतजाम नहीं है। बगड़ी नगर में वर्ष 2013-14 में कई गांवों में सार्वजनिक शौचालय बनाए गए। इनमें बगड़ी गांव भी शामिल है। प्रशासन की अनदेखी के चलते शौचालय खंडहर बन गए। कुछ शौचालयों के दरवाजे और टूटियां शरारती तत्व चाेरी कर ले गए।

सार्वजनिक शौचालय निर्माण में हुई गड़बड़ी
बगड़ी गांव के सरपंच भूंडाराम चौधरी ने बताया कि पिछले कार्यकाल में बने सार्वजनिक शौचालय निर्माण में गड़बड़ी हुई है। कई शौचालयों के उपर पानी की टंकी व जमीनी कुई नहीं खुदवाई गई। गांव के विकास के लिए राशि आते ही पहले सार्वजनिक शौचालयों की दशा सुधारी जाएगी।

4 शौचालय में 10 से 12 लाख तक खर्च, फिर भी निर्माण अधूरा

भाजपा नेता युधिष्ठिर शर्मा ने बताया कि लाखों रुपए का दुरुपयोग किया गया। इन चारों सार्वजनिक शौचालयों पर लाखों रुपये खर्च किए गए। जबकि शौचालय की जरूरत गांव के बस स्टाप पर थी। फिर भी सरपंच और ग्राम सेवक ने मिलकर शौचालय की राशि में बंदरबांट की। निर्मित शौचालयों के बावजूद भी लोगों को मजबूरन खुले में शौच के लिए जाना पड़ रहा है। बस स्टॉप पर महिला व पुरुषों के लिए अलग-अलग आधुनिक सुविधाओं से युक्त शौचालयों का निर्माण करवाना था।

दाेषियों के खिलाफ जांच होनी चाहिए

  • सार्वजनिक शौचालय की जांच होनी चाहिए। जिसमें लाखों रुपए सरकार के व्यर्थ खर्च किए गए। इस तरफ किसी प्रशासनिक अधिकारी ने ध्यान नहीं दिया। इस मामले में दोषियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई और घोटाले की जांच होने चाहिए। - श्याम एम जोशी, समाजसेवी

निर्माण पूर्व पंचायत के कार्यकाल में हुआ

  • यह निर्माण कार्य पूर्व पंचायत के कार्यकाल में हुआ, जिसका मामला मेरे ध्यान में नहीं है। - महेश व्यास, ग्राम विकास अधिकारी

जांच करवाई जाएगी

  • अगर ऐसा हुआ है तो इसकी जांच करवाई जाएगी और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। - कंवरलाल सोनी, विकास अधिकारी, सोजत

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज भविष्य को लेकर कुछ योजनाएं क्रियान्वित होंगी। ईश्वर के आशीर्वाद से आप उपलब्धियां भी हासिल कर लेंगे। अभी का किया हुआ परिश्रम आगे चलकर लाभ देगा। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे लोगों के ल...

और पढ़ें