पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

धर्म-समाज:बालक संस्कारवान बनें, इसके लिए माता-पिता का संस्कारी होना जरूरी

भीनमाल10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • भीनमाल के गायत्री शक्तिपीठ परिसर में रविवार को यज्ञ संस्कार करवाया, जालोर में चातुर्मास के दौरान जैनाचार्य ने दिए प्रवचन

शहर के गायत्री शक्तिपीठ परिसर में रविवार को यज्ञ संस्कार करवाया गया। जिसमें वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ यज्ञ किया। इस दौरान महेश व्यास ने संस्कार के महत्व पर प्रकाश डाला। कहा कि बालको को संस्कारी बनाने के लिए माता-पिता का भी संस्कारी होना जरूरी हैं।

संस्कार के माध्यम से श्रेष्ठ संतान की प्राप्ति होती है। शांतिकुंज हरिद्वार के प्रतिनिधि हरि कृष्ण द्विवेदी ने कहा कि गायत्री शक्तिपीठ में आओ गढ़े संस्कारवान पीढ़ी अभियान के तहत भावी पीढ़ी के श्रेष्ठ व्यक्तित्व विकास के लिए गर्भस्थ शिशु के मानसिक, भावनात्मक, शारीरिक विकास के लिए यज्ञ संस्कार का आयोजन करवाया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि कार्यक्रम के तहत उत्तम स्वास्थ्य व आध्यात्मिक माहौल बनाने के लिए नव दंपतियों परिजनों को संस्कार के महत्व के प्रति जागरूक बनाने का प्रयास किया जाता है। इसीलिए गायत्री परिवार गरभोत्सव संस्कार के रूप में अभियान चला रहा है।

जिसमें गर्भवती महिला 3 महीने के बाद संस्कार करवाती है। जिसके तहत प्रत्येक रविवार को प्रातः नाे बजे शक्तिपीठ में यज्ञ का आयोजन होता है। इस अवसर पर मोतीलाल सोलंकी, रणमल शर्मा, जेठाराम माली, मफाराम, अनंत प्रसाद, जसराज सुथार, चतुर्भुज राठी, बंशीधर राठी, कोलचंद सोनी सहित कई महिलाएं मौजूद रही।

खबरें और भी हैं...