परंपरा:गनोड़ा में एक जाजम पर 8 समाज के लोग बैठकर करते हैं अहम फैसले

तलवाड़ा22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कस्बे में दिवाली स्नेह मिलन समारोह 8 समाजों की मौजूदगी में आपसी प्रेम और भाईचारे से मनाते हैं। दिवाली पर गनोड़ा में 300 साल पुरानी परंपरा का निर्वहन करते हैं। एक ही जाजम पर 8 समाजों के लोग सामूहिक रूप से गांव के विकास को लेकर चर्चा करते हैं। समाज के नोहरे में आयोजित कार्यक्रम में सभी समाजनों के पंचाें और प्रतिनिधियों का तिलक लगाकर स्वागत किया।

गनोड़ा के श्रीगौड़ ब्राह्मण समाज के नोहरे में भट्‌ट मेवाड़ा, ईटावल, राव, जैन पाटीदार, पंचाल, सोनी और औदिच्य समाजजन एकत्रित होते हैं। वर्षों से चली आ रही इस परंपरा का एकमात्र उद्देश्य है कि दिवाली स्नेह मिलन के कार्यक्रम में सभी समाज के लोग एक जाजम पर बैठे तथा एक दूसरे के प्रति सम्मान को बनाए रखें। इसके अलावा इस बैठक में गांव की विभिन्न समस्याओं के बारे में चर्चा की जाती है तथा इनके समाधान को लेकर सभी समाज अपना अपना मत रखते हैं।

इस बैठक की एक खासियत यह है कि बैठक में जो भी व्यक्ति आता है वह व्यक्ति अपने साथ एक नारियल अवश्य लाता है। यह परंपरा बरसों से चली आ रही है। इन्हीं नारियल का प्रसाद वितरित करते हैं। बैठक में मोतीलाल जैन, शंकर लाल व्यास, रुद्रेश्वर पंड्या, धूलजी जोशी, सुमतिलाल जैन, राजेश दोसी, दिनेश व्यास, देवशंकर मेहता, भगवती शंकर व्यास, प्रभा शंकर व्यास, विक्रम पंड्या, नाथूलाल जैन, चंपालाल जैन, भूपेंद्र पंड्या, पंकज पंड्या, राजेश व्यास, देवीलाल उपाध्याय, गौतमलाल पंचोली, रतनपाल कोरावत, तुलजाशंकर इटावल, विनोद घाटलिया, देवेन्द्र दोसी, मनोज सोनी, धूलजी पाटीदार समेत सर्व समाजजन मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...