पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

उत्तर मैट्रिक छात्रवृत्ति स्वीकृत:एससी के पात्र 1680 विद्यार्थियों के खातों में 2.43 करोड़ रुपए जमा

जालोर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एसटी के 128 विद्यार्थियों को 19.62 व ओबीसी के 414 को 68 लाख रुपए का किया भुगतान

उत्तर मैट्रिक छात्रवृत्ति के पात्र विद्यार्थियों के लिए अच्छी खबर हैं कि उनके लंबित सभी आवेदन को स्वीकृत कर भुगतान जा चुका हैं। जालोर के भी बड़ी संख्या में विद्यार्थी इसके लाभांवित हुए हैं। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग द्वारा जिले में उत्तर मैट्रिक छात्रवृत्ति योजनांतर्गत सभी अनुसूचित जाति के पात्र छात्र-छात्राओं को छात्रवृति की राशि का शत-प्रतिशत भुगतान किया जा चुका है तथा वर्तमान में स्वीकृति के लिए कोई छात्रवृति आवेदन लंबित नहीं है।

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक डॉ. करतारसिंह मीणा ने बताया कि वर्तमान में उत्तर मैट्रिक छात्रवृत्ति योजनांतर्गत स्वीकृति जारी करने से एक भी आवेदन पत्र लंबित नहीं है। अनुसूचित जाति, विशेष पिछड़ा वर्ग, अन्य पिछड़ा वर्ग का एक भी आवेदन जिला स्तर पर भुगतान से लंबित नहीं है।

सभी पात्र छात्र-छात्राओं का शत-प्रतिशत भुगतान कर दिया गया है। उत्तर मैट्रिक छात्रवृत्ति योजनांतर्गत कुछ छात्र-छात्राओं के बैंक खाता संख्या एवं आईएफएससी कोड सही नहीं होने के कारण उनकी राशि संबंधित के बैंक खातों में हस्तांतरित नहीं हो पाई, जिनके कारण यह राशि राजकोष में जमा हो गई।

इन वर्ग के छात्रों को इतनी मिली राशि
सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक डॉ. करतारसिंह मीणा ने बताया कि उत्तर मैट्रिक छात्रवृत्ति योजनांतर्गत जिले में सभी अनुसूचित जाति के पात्र 1680 छात्र-छात्राओं को राशि 243 लाख का शत-प्रतिशत भुगतान किया जा चुका है तथा अनुसूचित जनजाति उत्तर मैट्रिक छात्रवृत्ति में 128 छात्रों को राशि 19.62 लाख का भुगतान किया जा चुका हैं।

विशेष पिछड़ा वर्ग उत्तर मैट्रिक छात्रवृत्ति योजनांतर्गत कुल 343 छात्र-छात्राओं की स्वीकृति जारी की जाकर 61.50 लाख राशि ऑनलाइन संबंधित छात्र-छात्राओं के खातों में हस्तांतरित की जा चुकी हैं। अन्य पिछड़ा वर्ग उत्तर मैट्रिक छात्रवृत्ति योजनांतर्गत कुल 414 को लाभान्वित किया जाकर 68 लाख की राशि व्यय की गयी है। आर्थिक पिछड़ा वर्ग उत्तर मैट्रिक छात्रवृत्ति योजनांतर्गत 23 छात्र-छात्राओं को 2.55 लाख की राशि व्यय की गयी हैं।

1532 आवेदन पत्र छात्र-छात्राओं के आईडी पर एवं 416 आवेदन पत्र महाविद्यालयों के आईडी पर लंबित : मीणा ने बताया कि अब तक उत्तर मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना की समीक्षा में यह पाया गया की 1532 आवेदन पत्र छात्र-छात्राओं के आईडी पर एवं 416 आवेदन पत्र महाविद्यालयों के आईडी पर लंबित है।

यह आवेदन जब तक विभागीय पोर्टल पर ऑऩलाइन नहीं भिजवाये जायेंगे तब तक स्वीकृति के सबंध में कार्यवाही नहीं की जा सकेगी। उन्होंने बताया कि निदेशालय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग जयपुर द्वारा उक्त संबंधित छात्र-छात्राओं के आवेदन पत्र ऑऩलाइन स्कॉलरशिप पोर्टल के माध्यम से संबंधित छात्र-छात्राओं की एसएसओ आईडी पर रिवर्ट करवाये गये है ताकि संबंधित छात्र-छात्रा अपने जनाधार में सही बैंक डिटेल अपडेट करवाकर पुन: भुगतान के लिए ऑनलाइन विभाग को भिजवाया जाना सुनिश्चित कर सकें।

उन्होंने बताया कि विभाग द्वारा विभिन्न उत्तर मैट्रिक छात्रवृत्ति योजनाओं के अन्तर्गत मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय, बोर्ड, काउंसिल से सम्बद्व मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थाओं के मान्यता प्राप्त पाठयक्रमों में नियमित रूप से अध्ययनरत विद्यार्थियों को नियमानुसार छात्रवृत्ति दिये जाने का प्रावधान है।

कुछ निजी शिक्षण संस्थाओं/महाविद्यालयों की मान्यता एवं सम्बद्धता को संबंधित विश्वविद्यालय, बोर्ड या काउन्सिल द्वारा ऑऩलाइन सत्यापित नहीं किया गया है। जिसके कारण कुछ छात्र-छात्राओं के आवेदन पत्र अप्रूल किये जाने के उपरान्त भुगतान स्वीकृति जारी नहीं हो पा रही है। इन महाविद्यालयों की मान्यता एवं सम्बद्धता विश्वविद्यालय, बोर्ड या काउन्सिल द्वारा सत्यापित किये जाने के उपरान्त ही भुगतान कार्यवाही की जायेगी।

खबरें और भी हैं...