लापरवाही / कोरोना काल में जागरूकता बना सुरक्षा कवच, तो लापरवाही पड़ सकती है भारी

जालोर. एटीएम कक्ष पर ग्राहकों को हाथ सेनेटाइजर करवाता गार्ड। जालोर. एटीएम कक्ष पर ग्राहकों को हाथ सेनेटाइजर करवाता गार्ड।
X
जालोर. एटीएम कक्ष पर ग्राहकों को हाथ सेनेटाइजर करवाता गार्ड।जालोर. एटीएम कक्ष पर ग्राहकों को हाथ सेनेटाइजर करवाता गार्ड।

  • जागरूकता से संक्रमण से बचाव, तो सामाजिक दूरी उल्लंघन बन सकता है परेशानी

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 05:00 AM IST

जालोर. कोरोना वायरस महामारी आज विश्वभर में अपने पाव पसार चुकी है और भारत में भी अब दिनोंदिन कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा बड़ी तेज गति से बढ़ रहा है। जिसके क्रम में सरकार ने देश में चार चरणों में लॉक डाउन को भी लागू कर संक्रमण का प्रभाव कम करने की कोशिश की। लेकिन पिछले 2 माह से लॉक डाउन चलने के बाद भी कोरोना के मामले बढ़ ही रहे हैं, थमने का नाम नहीं ले रहे है। वही प्रदेश सरकार द्वारा भी धारा 144 व एडवाजरी को लागू कर कोरोना महामारी के संक्रमण को रोकने का प्रयास किया। लेकिन अभी तक कोरोना का प्रभाव थम नही रहा है और संक्रमण का प्रभाव तेज गति से फैल रहा है।
जागरूक रहना ही कोराना से सबसे बड़ा सुरक्षा कवच
कोरोना महामारी के संक्रमण का कारण मरीज के सम्पर्क में आना अथवा मरीज से संक्रमित वस्तुओं के सम्पर्क में आने से फैलना है। जिसके चलते जागररूकता ही सबसे बडा सुरक्षा कवच है जिसके तहत सोशल डिस्टेंसिंग, हाथ व मुंह आदि को बार बार साबुन से धोना, सैनेटाइज करना ही बचाव का तरिका है। इसी क्रम में जालोर में कई जगहो व संस्थाओ पर जागरुकता के साथ लोगों को सेनेटाइजर करवाया जा रहा है और हैंड सेनेटाइजर का प्रयोग कर ही बैंक, कार्यालयों, दुकानों आदि में प्रवेश दिया जा रहा हैं। कोरोना से बचाव के लिए एक सकारात्मक व सराहनीय कदम है। वही शहर में विभिन्न बैंकों के एटीएम पर भी ग्राहकों को जिससे कोरोना का संक्रमण फैलने से रोकने में प्रयास सार्थक सिद्ध होंगे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना